अदरक के 24 फायदे, उपयोग और नुकसान – Ginger (Adrak) Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

अदरक के 24 फायदे, उपयोग और नुकसान – Ginger (Adrak) Benefits, Uses and Side Effects in Hindi


There's also Ayurveda along with ginger food. If there is a taste in the food, then ginger is used. At the same time, we talk about ginger as a medicine, he is able to cure many diseases. This is the reason that ginger has a special meaning in Ayurveda. In this article we will talk about the various benefits of ginger-eating.

Benefits of Ginger – Benefits of Ginger in Hindi

There are no two opinions that the benefits of ginger eating are many. While ginger is good for health, it also shows the miraculous effect on hair and skin. Below we will show the benefits of ginger for health, skin and hair.

Let's first know what the benefits of eating ginger for health.

Ginger Health Benefits – Health Benefits of Ginger 19659006] 1. Breathing Problems:

Those who have breathing problems, ginger can prove to be effective. There are antihistamine properties that help to determine allergies. Ginger has been used for centuries as a cold-cold problem ( 1 ). If you have a problem like a sore throat, then you can eat ginger juice and mix it with honey. Also, if your nose is closed or your throat is bad, then ginger tea can be released.

2. Digestion: Ginger helps to strengthen the digestive force. Drinking ginger can help remove bile from the gallbladder ( 2 ). In addition, it also helps to relieve the problem of spasms and diarrhea caused by gas. Cancer:

In many studies, this has also proven that ginger helps to prevent cancer. Studies have shown that ginger has anti-cancer properties that protect women from breast cancer and uterine cancer 3 ). G-Miklana:

The healing properties of ginger also work in cancer. Those who have cancer receive chemotherapy. After chemotherapy, the patient has a mutation problem. Ginger has anti-inflammatory properties. It helps to alleviate the problem of melting after chemotherapy. If ginger juice is given immediately prior to chemotherapy, then the problem of gizzing and vomiting can be significantly reduced ( 4 ). Apart from this, ginger can relieve even in normal ghish. Painkillers: Ginger has anti-inflammatory and analgesic properties that act as painkillers. Ginger can be of benefit to those who have problems such as arthritis and knee pain. In addition, there are anti-inflammatory properties in ginger, which helps remove swelling ( 5 ). Menstrual Pain:

The healing properties of ginger also favor menstruation. A study found that ginger helps relieve menstruation. It has anti-inflammatory properties that act as a natural pain reliever. In this case, ginger can be used to relieve pain during menstruation ( 6 ). Migraine

  Migraine

Shutterstock

You can also use ginger during migraine. Studies have shown that ginger prevents inflammation of prostaglandin in blood vessels. Therefore, the problem of migraine is resolved. If you have migraine, you can drink ginger tea ( 7 ). In addition, you can apply a ginger paste to your forehead after migraine.

8. Cholesterol and Heart Health:

Ginger is also considered better for heart health. Regular consumption of cholesterol is low and internal blood clotting is also good. In addition, it also prevents a blow ( 8 ). Diabetes: Ginger works to reduce blood sugar by preventing diabetes. At the same time, if someone has diabetes, then the consumption of ginger can increase the effect of insulin and other medicines. To control your blood sugar, you can take a teaspoon of ginger juice in the empty stomach with a glass of water in the morning and in the morning ( 9 ). Weight Loss:

If you want to lose weight, then ginger can help you. Ginger is considered a fat that not only reduces its weight but also reduces excess fat.

Increase immunity: If your immune system is weak, you can consume ginger. It helps to increase your immunity. Due to weak immunity, man quickly surrounds the disease. As soon as immunity begins to weaken, cold and cold tighten the first time. If ginger contains antiviral properties, it helps to prevent such diseases ( 10 ). Chakra of Menstrual Cycle:

If a woman struggles with menstruation disorders, she can consume ginger. If you have irregular menstruation, take fresh ginger and cut into small pieces. Then add some water to it and heat for five minutes. Now drink this mixture. If you do not come to menstruation then it will help you get out. You can also mix the sugar in this mixture for taste.

13. Hypertension

  high blood pressure

Shutterstock

If you have problems with high blood pressure, ginger can help. The anti-inflammatory properties in it help reduce hypertension. You can drink ginger tea for that.

14. Arthritis

Arthritis

Ginger has anti-inflammatory properties that help to relieve arthritis, arthritis. Ginger has been used for a long time in arthritis pain ( 11 ).

Knowing how ginger is useful for the skin.

Skin Ginger Skin Benefits Advantages of Ginger in Hindi

If you have skin problems, then there may be ginger work for you. So below we'll tell how ginger can be beneficial to the skin:

15. Anti-aging: Ginger contains antioxidant properties that help reduce the aging problem. They help remove the toxin from the body and keep the skin fresh.

How to use

Mix the juice of honey and lemon in an equal amount of ginger or ginger powder. Then apply it on your face and wash it after drying. The process is repeated twice a week

16. For burned scars:

Ginger can help reduce scars on the skin. If for some reason your skin gets burned gently, you can use ginger.

How to use?

Grate the ginger piece freshly on the burned scar of the skin. The process is repeated two to three times a day for six to twelve weeks.

17. Acne and stains:

Ginger has antiseptic and cleansing properties that help keep the skin clean. It also has antibacterial properties that help to prevent the appearance of facial acne ( 12 ).

If you get rid of ginger. Then add one spoonful of lemon juice and two spoonfuls of honey. Keep this mixture in the fridge for a while and cool it. After cooling, it is applied to the face and washed after drying. Skin tonic:

Ginger is renowned for its antioxidant and toning properties, which help to improve the shine of the skin. You can use it as a face mask.

How to use?

To tone the skin, rub two ginger and mix two teaspoons of honey and one teaspoon of lemon juice. Then put it on your face and wash your face with cold water in 30 minutes. Hippopigmented Traces: Hypopigmented traces occur when the skin loses its pigmentation. They are usually white or very light compared to actual skin. Ginger contains antioxidant properties that help reduce these traces ( 13 )

How to use? Leave for Then wash with water. You will see the difference for one or two weeks.

Now let's know what hair hair benefits.

Hair Ginger – Benefits of Ginger Hindi Hair

Dense and beautiful hair is the desire of every girl, but for some reasons there is a problem with hair loss and dandruff, etc. In such a situation, if you use ginger, it will certainly be beneficial. Below we will tell how ginger is beneficial to hair:

20 Hair Growth: Ginger works to increase the circulation in the head, making the right blood circulation. Therefore, it stimulates the hair follicles, which leads to hair growth. In addition, fatty acids present in ginger are useful for thin hair 14 )

How to use?

In a small bowl, you get a tablespoon of ginger and one spoon. Mix the oil and mix it. Then massage the head with this mixture and keep it in your hair for 30 minutes. It is then normally cleaned with shampoo.

21. Dandruff

  Dandruff

Shutterstock

Dandruff, which means a problem with Russian ginger, may be of use to you. It has antiseptic properties that help relieve Russian language 15 ). This way you can use ginger oil to get relief from dandruff.

How to use?

Add ginger and lemon juice to three teaspoons of olive oil or sesame oil. Then massage your head with this oil and wash the head after 15 to 30 minutes. Do this three times a week

22. Hair Loss Treatment:

Ginger can be effective in hair loss. It contains elements that help to prevent hair loss and help to strengthen it.

How to use?

Add some ginger juice in olive oil and massage it with hair. The process is repeated three times a week

23. Hairspray Beneficial:

If your hair is hard and lifeless, ginger can shine in your hair. There are many vitamins, zinc and phosphorus in the ginger that add shine to the hair.

How to use?

To add brightness to your hair, add ginger juice to olive or sesame oil and make it hairy Massage. Two mouths

  Two mouths

Shutterstock

Hair due to excessive heat and loss of hair due to excessive heat, hair becomes two mouths. Phosphorus, zinc and vitamins present in ginger are beneficial to hair.

How to use it?

Can also be used in olive oil. Mix the ginger juice in olive oil and massage the hair with it. You can repeat this process three times a week for better results.

Ginger nutritional items – Ginger nutritional value in Hindi

So far you know the benefits of ginger for hair, skin and health. Let us now know what the nutrients in ginger are so useful:

Element Nutrition RDA (%)
Energy 80 Kcal 19659074] 17.77 grams 13.5 1.82 grams 3 Total Fatty 0.75 grams 19659074] 4.5 Pantothanic A DID 0.203 mg 19659074] 4 0.160 mg 12
Vitamin-A 0 mg 19659074] Vitamin-E 1.5 1.5 0.1 0.1 Iron 0.60 mg ] 0.34 mg 3

Using Ginger – How to Use Ginger in Hindi

Put chopped ginger in most of these vegetables. There are also many other ways you can consume ginger.

  • By making ginger pickle, you can add it to your diet. You will also find it delicious and you will also know the benefits of ginger.
  • Furthermore, ginger tea is also quite well-known. You can drink ginger tea by drinking it.
  • At the same time, ginger powder can also be consumed.
  • In addition, cut ginger with a long and thin cut on it, adding salt and pepper and spices of your choice. Dry in You can then eat it at any time. Your digestion will be good.

Ginger Disaster – Side Effects of Ginger on Hindi

There are no two opinions that ginger is very powerful, but it can have ginger damage if consumed too much. Below we are talking about: Diabetes: Ginger eating may increase the level of insulin. This can reduce the amount of sugar in your body. In this case, patients with diabetes should consult their doctor before taking ginger. Menstrual Cycle: Some women may have problems with excessive bleeding during menstruation.

Heat: Consumption of excess ginger can cause harm to your heart. इसलिए, इसका सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए.

त्वचा: यूं तो अदरक आपकी त्वचा के लिए काफी फायदेमंद है, लेकिन कुछ लोगों को इससे एलर्जी हो सकती है.

Here you can find out how many people to share with your friends and to share your thoughts with the world of music. चूंकि, अदरक के औषधीय गुण काफी हैं, इसलिए इसका सेवन दवा के तौर पर किया जा सकता है. हम उम्मीद करते हैं, यह लेख आपके काम आएगा और अदरक खाने से आपको जरूर फायदा होगा.

संबंधित आलेख

The post अदरक के 24 फायदे, उपयोग और नुकसान – Ginger (Adrak) Benefits, Uses and Side Effects in Hindi first appeared on STYLECRAZE .

वजन बढ़ाने के लिए डाइट चार्ट – Weight Gain Diet Chart in Hindi

वजन बढ़ाने के लिए डाइट चार्ट – Weight Gain Diet Chart in Hindi


To look healthy and attractive, neither too much weight is good nor less Those whose weight is balanced by age and height enjoy a healthy life. Therefore, to the extent necessary to reduce obesity, the same importance is attached to weight gain. Often people advise to reduce obesity, but nobody is talking about weight gain. People with low weight not only look weak, but their personality is also not attractive.

This Stylecrage article will talk about this. We've come up with a diet to increase weight for thin people who will help them gain weight by following them.

The first thing you need to do is increase your eating chart, which is extremely useful for people with low weight.

Weight Lifting Weight Chart

  Weight Loss Chart

Shutterstock

Food Time What to Eat (Vegetarian / Meat-Saw) ] Before Breakfast

7 am-8am

  • Sugar with Whole Milk Tea
Breakfast

8 am-9am

  • a bowl of oatmeal corn flakes or oatmeal.
  • You can eat different vegetables and eat Poha Upma and Khichdi
  • Two chapters or two steam food can also be useful for vegetables.
  • You can choose from one of the various options mentioned above or drink the juice with them.
19659011] 10 am-11am

  • Take a glass of whole milk Or you can take a protein shake.
Two chapat and a bowl of rice with a bowl of vegetables and lentils
12:30 pm-1: 30 pm
Two chapatas and a bowl of rice with a bowl of vegetables and lentils / 19659030] Take the cucumber and cabbage salad
  • Dinner Eggs 6:30 pm

    • Wine

    20:30 -9: 30

    • What a diet you took for lunch In the same way you can sleep You can eat but you do not eat rice at night
    Before sleep

    10:30 pm -11pm

    • Drink a glass of milk. We give some other advice. Some Weight Loss Advice – Other Tips on Increasing Weight on Hindus

      1. Calories

      Body weight depends largely on calories. While low calorie is needed to lose weight, you should take a high calorie intake to increase your weight. If you suffer from low weight, you can regularly take 250 calories.

      What to do:
      • Include broccoli, cabbage, carrot, spinach, pumpkin and eggplant in the diet.
      • Red Meat can also be used to feed it. Keep in mind that he does not eat more than necessary, or can raise cholesterol levels.
      • You have to add some olive oil to the salad you eat.
      • Due to the consumption of dairy products daily, calories can be found in quantities. Always eat fat-rich milk and yoghurt.
      How useful:

      Calories are meant to mean energy. When you consume calories, the body becomes more active than ever before the nervous system is strong (19459035) 1 Note: Increasing calories in food Do not eat fast food in the name of This can lead to harm and not to benefit

      2. Increase the amount of food

      If you increase your dose in a balanced amount you can increase your weight Eat three meals a day in a small amount and eat calories every time Because of over-eating at any given time, your digestive system may be bad and an interference If you increase your weight, you may become a victim of other illnesses.Diet will also be digested by eating a little more often and its effect will also be seen on the body

      What to do:
      • You can eat If you do not like the normal butter, you can replace it with peanut butter or cheese
      • Snacks can be fed with dried fruits, cooked vegetables or a cheese sandwich. You may also consume it, but keep in mind that it should be healthy.
      How useful:

      There is some energy left in the body because of some eating time. With this you remain active at all times and you can do your job with full potential 2 )

      3. More Proteins

      Protein is needed in addition to calories to gain weight Consumption of protein-rich foods provides energy to the body and muscles are strong because weak muscles can not withstand overweight

      What to do:
      • Eggs, fish, chicken, lentils, sprouts and dairy products are considered to be a major source of protein
      • Excessive oil is found in fish such as tuna and mackerel, (19459059) 3 ()

        How useful:

        The protein contains amino acids with which the muscles are strong.This protein rich foods are essential for increasing muscle and weight. 4. Healthy Fat

        4 )

        4. Healthy Fat

        If you think fat is needed to increase weight, then you are wrong. It is also important for the body to consume limited amounts of fat. Healthy fats are needed to develop muscles and hormones like testosterone. It also helps to increase metabolism, which helps the body get rid of bad fat and maintain good fat. Polyunsaturated fats and fat tissues are considered good for health. This type of fat can be found with nut oil, green leafy vegetables, linseed oil, avocado oil and other seeds. I also tell you that good health requires omega-3 and omega-6 fatty acids. In this case, if you think of increasing weight, then do not neglect good fats ( 5 )

        5. Weight gain supplements

        Some people are more vulnerable than necessary. Such people are also obliged to eat food and regular exercise, and to receive supplements for weight gain. Take these supplements on the advice of your doctor. The doctor can tell you better that supplements will be beneficial to your health.

        What to do:
        • There are many types of protein shakes and supplements available on the market. You can consume them by adding milk or smoking
        How useful:

        By adding supplements to your daily routine, the body mass index is increasing. Also Muscle Development ( 6 )

        6. What to eat

        • Whole milk
        • Other substances containing beans, lentils and proteins
        • Fruit and vegetables
        • 7. Yoga
            Yoga

          Shutterstock

          The only treatment for many problems is yoga. Yoga is also useful in weight gain as well as in weight loss. If you are doing yoga along with weight gain diets, you can get more gain. Yoga not only reduces stress but also improves the level of energy in your body. Yoga is also superior to yoga, which makes you feel hungry. Here we are talking about some yoga that can increase weight through this.

          • Sarvargasana: This yoga helps control your weight according to your age and height. Pawan Muktasan: Thus the digestive system is good, metabolism improves and problems such as gas, acidity and constipation are released. You feel hungry until the end of all these problems.
          • Vagrosan: The yogic system also has better digestion. Whatever you eat and drink is easy to digest. In addition, the whole body, especially the legs and muscles of the waist, are strong.

          8. Exercise for Weight Loss

          Exercise, which is said here, is good for muscle development. Keep in mind that you do all these exercises under the guidance of a qualified instructor.

        • Click to enlarge
        • Click to enlarge
        • Click to enlarge
        • Click to enlarge
        • Click to enlarge
        • Wave Crispy

          These exercises are healthy muscles. They are not needed to. They also help increase the body mass index. This gradually increases the weight ( 7 )

          9. Keep eating and drinking records

          The way weight loss notes on the notebook what they have to eat throughout the day and what exercises they have to do. Similarly, those who gain weight should also do so. Write in your daily notebook what you eat throughout the day and note at the end of the week how much difference your weight is. This will give you an idea of ​​what food affects your weight. If you look at this notebook, it will inspire you to gain weight.

          10. Get rid of stress

          More than half of the problems have a dramatic strain. When you are in stress, the weight may be more or less. There may be other kinds of physical problems. Therefore, if you think about gaining weight, then first try to get out of the stress. To overcome stress, you can meditate, dance or listen to your favorite music.

          11. Enough sleep ” width=”700″ height=”450″ />

          Shutterstock

          Of course, eating healthy and balanced food, regular exercise and yoga and taking the necessary supplements are helpful, but adequate sleep is also needed to give total relief to body. Experts also say that in order to stay fit and fit, you need to have seven to eight hours of sleep daily. This eliminates the exhaustion of the day and your body is ready to work with full energy the next day.

          12. Motivate

          There is no doubt that losing weight is to increase weight. So increase your diet evenly and exercise as much as your body can afford. If you do more than your capacity, then the advantages can be a loss. Also, patience is important to you because it's good to grow slowly because of weight gain. According to experts, if you take a weight chart that keeps the feeding chart continuously for 30 days, you can increase the weight by one and a half pounds per month. If your weight increases by more than a month, it may be harmful to your health. Keep in mind that each person's body and needs are different. That is why you set your goal according to your health. Diet and rules can be different for women with weight gain.

          We're talking about why weight loss is low.

          Know the Causes of Weight Loss – Causes of Underweight in Hindi [19659141] The total weight of men and women is scientifically determined by their age and height. If weight is 15-20 percent less than normal, then it is considered to be underweight. Let's look at it with examples. Suppose that the woman is between the ages of 26 and 30 and the height is between 148-151 cm, then the weight should be about 47 kg. If the weight is 40 kg (15%) or 37 kg (20%) then it will be called a low weight. The 47-year-old woman should have a BMI (body mass index) of 20.6 kg / m2. When the weight decreases, the BMI also decreases

          At the same time, if the male is between 25-50 and the height is about 176 cm, then the normal weight should be about 70 kg. If the weight is 60 kg (15%) and 57 kg (20%), then it will be considered underweight ( 8 ).

          Let's Now Know What Causes Weight Loss

          1. Hyperthyroidism: There is a thyroid-shaped gland called the thyroid gland. The hormones that pass through are properly operated in parts of the body. Hyperthyroidism produces excessive hormones, leading to worsening metabolic levels, heart failure to function properly, and weight loss (19459054). Even after cancer, weight loss begins to appear. There may be problems such as fatigue, loss of appetite and nausea 10 . 11 ). Together with coughing, excessive exhaustion and sweating at night may encounter difficulties. If your weight continually decreases due to tuberculosis, you should immediately notify your doctor about this.
          1. HIV AIDS: Those who suffer from AIDS also lose their weight gradually ( 12 ). Therefore, once confirmed, you should take medication from time to time, as advised by your doctor. You need to make the necessary changes to your lifestyle so that your health is healthy. , Then the kidneys can be a sign of a malfunction. इससे आपको यूरिन को रोके रखने की क्षमता में कमी, मतली, उल्टी, थकावट, मुंह में अजीब-से स्वाद का अहसास, त्वचा पर रैशेज व खुजली और सांस में अमोनिया की गंध आने जैसी समस्याएं हो सकती हैं. इसके अलावा, आपकी भूख भी कम हो सकती है, जिससे वजन कम होने लगता है ( 13 ) ( 14 ). [19659132] दवाइयां: कुछ एंटीबायोटीक दवाइयां ऐसी होती हैं , जो आपकी भूख को कम करने का काम करती हैं ( 15 ). भूख कम लगने पर आप ठीक भोजन नहीं कर पाते, जिससे आपको जरूरी पोषक तत्व नहीं मिल पाते. इसलिए, कोई भी दवा खाने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें.
          1. भोजन में असंतुलन: जब आप निश्चित समय पर और पौष्टिक तत्वों से भरपूर भोजन नहीं करते हैं, तो एनोरेक्सिया नर्वोसा व बुलिमिया नर्वोसा जैसी बीमारी का शिकार हो जाते हैं. Do not waste your time in the restaurant. इससे ग्रस्त मरीज को वजन कम या ज्यादा होने का डर सताता रहता है. You can also check out the number of times you want to stay in your room and check out the number of nights you want to stay in. एक प्रकार से कह सकते हैं कि यह मानसिक विकार से जुड़ी बीमारी भी है ( 16 ) ( 17 ). [19659134] एंजाइम में कमी: पाचन तंत्र व पोषक तत्वों को अवशोषित करने के लिए डाइजेस्टिव एंजाइम बेहद जरूरी हैं. इनकी मदद से ही शारीरिक विकास होता है. जब पेट की आंतरिक दीवारें डाइजेस्टिव एंजाइम को ठीक से इस्तेमाल नहीं कर पाती हैं, तो उससे वजन कम होने की आशंका बढ़ जाती है ( 18 ). [19659135] आनुवंशिक: कुछ हद तक पारिवारिक पृष्ठभूमि भी कम वजन का कारण हो सकती है. अगर आपके परिजनों का वजन कम रहा है, तो ऐसा अंदाजा लगाया जा सकता है कि आपको भी इस समस्या से दो-चार होना पड़े.
          1. खराब लिवर: लिवर खराब होने पर शरीर को जरूरी पोषक तत्व नहीं मिल पाते. इस कारण से भी वजन कम होने लगता है.

          लेख के अंतिम भाग में हम बता रहे हैं कि वजन कम होने पर क्या-क्या स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं.

          वजन कम होने के कारण स्वास्थ्य समस्याएं – Health Problems Caused By Being Underweight in Hindi

          1. कमजोर प्रतिरोधक क्षमता: प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो सकती है. प्रतिरोधक क्षमता के ठीक से काम नार करने पर आप जल्द ही अन्य बीमारियों के चपेट में आ जाते हैं. मौसम में थोड़ा-सा बदलाव होते ही स्वास्थ्य पर असर नजर आने लगता है. इसके अलावा, कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियां होने का भी अंदेशा रहता है.
          1. एनीमिया: कम वजन वाले व्यक्ति को अक्सर थकावट महसूस होती है. Include cookies, cookies, snacks, pastries, and pastries. You can choose from a wide variety of flavors and flavors to choose from. परिणामस्वरूप, शरीर में रक्त की मात्रा भी कम होने लगती है और एनीमिया जैसी बीमारी शरीर में घर कर लेती है.
          1. प्रजनन संबंधी समस्या: महिलाओं में कम वजन का असर प्रजनन क्षमता पर भी पड़ता है. इससे मासिक करना मुश्किल हो जाता है. अगर गर्भधारण कर भी ले, तो गर्भपात की आशंका रहती है. वहीं, कम वजन वाले पुरुषों को में का सामना करना पड़ सकता है. संभोग के समय उन्हें दर्द हो सकता है, शुक्राणुओं की गुणवत्ता कम हो सकती है व इरेक्टाइल डिसफंक्शन जैसी समस्या हो सकती है.
          1. कमजोर हड्डियां: कम वजन वाली महिलाओं व पुरुषों दोनों को ऑस्टियोपोरोसिस का सामना करना पड़ सकता है. ऑस्टियोपोरोसिस हड्डियों से जुड़ी एक बीमारी है, जिसमें फ्रैक्चर होने का अंदेशा कई गुना बढ़ जाता है. ऐसा हार्मोंस में बदलाव और विटामिन-डी व कैल्शियम में कमी के कारण होता है।

          दुबले-पतले लोगों के लिए वजन बढ़ाना कोई मुश्किल भरा काम नहीं है। बस जरूरत है, तो अपना लक्ष्य निर्धारित कर उसे हासिल करने के लिए धैर्य रखने की। आप संतुलित व पौष्टिक भोजन का सेवन करें और अपने डॉक्टर की सलाह पर जरूरी सप्लीमेंट्स लेते रहें। इससे न सिर्फ आपका वजन बढ़ेगा, बल्कि आप स्वस्थ भी रहेंगे। साथ ही नियमित रूप से व्यायाम भी जरूर करें। आप इस संबंध में कुछ कहना या पूछना चाहते हैं, तो नीचे दिए कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं।

          स्वस्थ रहें, खुश रहें।

          संबंधित आलेख

          The post वजन बढ़ाने के लिए डाइट चार्ट – Weight Gain Diet Chart in Hindi appeared first on STYLECRAZE.

          खर्राटे का इलाज और घरेलू उपाय – How to Stop Snoring in Hindi

          खर्राटे का इलाज और घरेलू उपाय – How to Stop Snoring in Hindi


          के बारे में हैं, जब हवा गले में मौजूद उत्तकों में कंपन पैदा करती है. यह एक समस्या, जो आपसे ज्यादा दूसरों को परेशान करती है. जो व्यक्ति खर्राटे लेता है, उसे तो इसका अहसास कम ही होता है, लेकिन साथ में सोने वाले की नींद पूरी तरह खराब हो जाती है. फिर अगले दिन जब कोई आपके खर्राटों के बारे में टोकता है, तो यह वाकई में काफी शर्मिंदगी भरा हो जाता है. यही नहीं, कभी-कभी यह समस्या गंभीर रूप भी ले सकती है. कई बार इससे आपका सांस भी रुक सकता है.

          अगर आपको या आपके किसी परिचित को खर्राटे लेने की आदत है, तो स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम खर्राटे का घरेलू इलाज बताएंगे. इसके साथ ही है, उसके कारणों पर भी नजर डालेंगे. आइए, पहले जानते हैं खर्राटे आने का कारण.

          खर्राटे आने का कारण – Causes of Snoring Hindi

          खर्राटे आने के कई कारण हो सकते हैं, जिनके बारे में हम नीचे बताने जा रहे हैं ( 1 ):

          1. मांसपेशियों में कमजोरी – कई बार गले और जीभ का मांसपेशियां काफी शिथिल होकर लटकने लगती हैं, जिस कारण रास्ता रुक जाता है. यह ज्यादातर नींद की दवा लेने से, गहरी नींद में होने से या फिर अधिक एल्कोहोल का सेवन करने से होता है.
          1. गले के टिश्यू में भारीपन – कभी-कभी मोटापे के कारण गले के टिश्यू का आकार बढ़ जाता है. इस वजह से सोते समय खर्राटे आने लगती हैं.
          1. नाक के वायुमार्ग में अवरोध – कई बार नाक में टेढ़ापन आने के कारण या नाक के अंदर मौजूद छोटे कणों के कारण वायुमार्ग में अवरोध आने लगता है, जिससे नींद में खर्राटे आने लगती हैं
          1. पैलेट या यूव्यूला के आकार में बदलाव – देखें के लिए सकते है. जब इसका आकार ज्यादा बढ़ जाता है, तो नाक से गले में खुलने वाला मार्ग बंद हो सकता है. इस वजह से भी खर्राटे आने लगती हैं.

          खर्राटे का घरेलू उपाय – Home Remedies for Snoring in Hindi

          कुछ लोग खर्राटे का आयुर्वेदिक इलाज करना पसंद करते हैं, तो कुछ लोग खर्राटे का इलाज घरेलू उपाय अपनाकर करना चाहते हैं. नीचे हम खर्वे का घरेलू इलाज बताने जा रहे हैं:

          1. ” width=”700″ height=”450″ />

          Shutterstock

          सुरक्षित प्रकार के लिए आप जैतून के तेल का इस्तेमाल कर सकती हैं. इसमें एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं, जो गले के टिश्यू में आई सूजन को करने में मदद करते हैं. इसके रोजाना इस्तेमाल से खर्राटे की समस्या कम होने लगती है ( 2 ). [19659015] कैसे इस्तेमाल करें?

          • एक चम्मच जैतून का तेल और एक चम्मच शहद मिलाएं. [19659017] इसे रोजाना रात को सोने से पहले खाएं.

          आप चाहें तो, रोजाना सोने से पहले एक चम्मच ओलिव ऑयल पीकर सोएं. इससे आपको कुछ ही दिनों में आराम महसूस होगा

          2. सरसों का तेल

          सरसों के तेल से भी खर्राटों का इलाज किया जा सकता है. यह के लिए का घरेलू इलाज करने में काफी अग्रणी है. कभी-कभी सर्दी-जुकाम होने के कारण नाक बंद हो जाती है और मुंह से सांस लेना पड़ता है. सर्दी-जुकाम के कारण मुंह से सांस लेने पर खर्राटे आती हैं. वहीं, सरसों के तेल में ऐसे गुण होते हैं, जो सर्दी की समस्या से राहत दिलाने में मदद करते हैं.

          कैसे इस्तेमाल करें?
          • आप सरसों के तेल को हल्का गुनगुना करें.
          • फिर इस तेल से अपने
          • This entry was posted on Tuesday, December 19th, 1965 at 3:22 pm and is filed under. हल्दी
             turmeric

            Shutterstock

            खर्माने का घरेलू उपाय अपनाने के लिए हल्दी का इस्तेमाल किया जा सकता है. हल्दी में एंटीसेप्टिक, एंटीबायोटिक और एंटीइंफ्लामेटरी गुण पाए जाते हैं ( 3 ). इसके सेवन से नाक का रास्ता साफ हो जाता है, जिससे सांस लेने में आसानी होती है और खर्राटें की समस्या दूर होती है.

            कैसे इस्तेमाल करें?

            खर्राटों से राहत पाने के लिए आप रोजाना रात को सोने से पहले गर्म दूध में हल्दी डालकर पिएं. धीरे-धीरे आपको इस समस्या से राहत मिलने लगेगी ( 4 )

            4. लहसुन

            के लिए के लिए के लिए करने के लिए करने है. खासतौर पर तब, जब खर्राटे साइनस की समस्या के कारण आती हों. लहसुन आपके नाक के मार्ग में बलगम को को कम करता है और श्वसन प्रणाली के भीतर किसी भी तरह की सूजन को कम करता है, जिससे खर्राटों से राहत मिलती है.

            कैसे इस्तेमाल करें?

            बेहतर परिणाम के लिए आप रोजाना सोने से पहले या शाम को एक लहसुन की कली चबा लें.

            5. इलायची

             Cardamom

            Shutterstock

            के लिए इलायची एक कारगर घरेलू उपाय माना जाता है. इलायची में एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लामेटरी गुण के साथ-साथ विटामिन-सी, आयरन, कैल्शियम और मैग्नीशियम होता है ( 5 ). यह आपको खर्राटों से राहत दिलाने में मदद करती है और आपको अच्छी नींद दिलाती है.

            कैसे इस्तेमाल करें?

            आप रोजाना रात को एक गिलास पानी में इलायची उबालें और हल्का गर्म रहने पर इसे पिएं. रोजाना करने से आपको खर्राटों की समस्या से राहत मिलेगी.

            6. पेपरमिंट ऑयल

            पेपरमिंट ऑयल में साइनस के कारण होने आने वाली खर्राटों से राहत दिलाने के गुण होते हैं. यह साइनस को साफ करने में मदद करता है, जिससे सांस लेने में आसानी होती है ( 6 ). [19659015] कैसे इस्तेमाल करें?

            आप रोजाना सोने से पहले पेपरमिंट के तेल की कुछ बूंदें पानी में Take a look and feel the same way. कुछ ही दिनों में आपको राहत महसूस होगी

            घी

            आयुर्वेद में भी घी के अनेक फायदे बताए गए हैं. यह कई बीमारियों को ठीक करने का काम करता है, जिसमें खर्राटें भी शामिल हैं. यह आपकी नाक को साफ करता है, जिससे खर्राटों से राहत मिलती है.

            कैसे इस्तेमाल करें?

            आप रोजाना रात को सोने से पहले घी को हल्का-सा गर्म करके एक-दो बूंद नाक में डालें. रोजाना करने से आपकी खर्राटों की समस्या धीरे-धीरे कम होने लगेगी.

            8. बिच्छु बूटी (नेटल लीफ टी)

            के बारे के लिए करें हैं बिच्छु बूटी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. इसमें एंटीथिस्टेमाइंस गुण होते हैं, जो खोज गर्नुहोस् के लिए सकते हैं. आपको बता दें कि कुछ लोगों को एलर्जी and इन्फेक्शन के कारण सूजन आ जाती है, जिस वजह से उन्हें खर्राटे की समस्या होने लगती है. ऐसे में नेटल लीफ टी एलर्जी से राहत दिलाने का काम करती है ( 7 ). [19659015] कैसे इस्तेमाल करें?

            इसके लिए आप एक चम्मच बिच्छू बूटी गर्म पानी में मिलाएं. फिर पांच मिनट बाद पानी को छानकर रात को सोने से पहले इसे पिएं. आप इस प्रक्रिया को रोजाना दोहराएं.

            9. शहद

             Honey

            Shutterstock

            को देखें गर्नुहोस् करने के लिए शहद काफी फायदेमंद माना जाता है. 8 ), you can use this option to search for items that you want to use.

            कैसे इस्तेमाल करें

            आप रोजाना सोने से आधा घंटा पहले गर्म पानी में दो चम्मच शहद डालकर पिएं. कुछ ही दिनों में आपको राहत मिलने लगेगी.

            भांप

            खर्वाने का घरेलू उपाय भांप से भी किया जा सकता है. कभी-कभी नाक में कॉन्जेशन के कारण भी खर्राटे आने लगती है.

            कैसे इस्तेमाल करें

            एक बाल्टी में गर्म पानी लें.

            एक बाल्टी में गर्म पानी लें. पानी इतना गर्म होना चाहिए कि उसमें से भांप निकल रही हो. फिर, सिर पर एक तौलिया ओढ़ें और मुंह को कवर करते हुए धीरे-धीरे भांप लें.

            खर्राटे बंद करने के लिए कुछ और टिप्स – More Tips for Snoring in Hindi

            ऊपर आपने खर्राटों से राहत पाने के लिए घरेलू उपाय के बारे में जाना. नीचे, हम कुछ अन्य टिप्स दे रहे हैं, जिनकी मदद से आप खर्राटों से राहत पा सकेंगे:

            ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं : जब आपके शरीर में पानी की कमी होने लगती है, तो नाक में भी रूखापन आने लगता है, जिस वजह से खर्राटे आती हैं. इसलिए, ध्यान दें कि आपके अंदर पानी की कमी न हो. इसलिए, आप खूब पानी पिएं.

            सोने की अवस्था पर ध्यान दें : आपने देखा होगा कि जो लोग पीठ के बल लेटते हैं, उन्हें खर्राटे ज्यादा आती हैं. ऐसे में करवट लेकर सोने से खर्राटों की समस्या कम होती है.

            शांत रहें : जिन लोगों को रात में सोते वक्त खर्राटे लेने की आदत होती है, तो उन्हें रात को सोते समय अपने मन को शांत रखना चाहिए. सोने से पहले आप बाहरी विचारों को दिमाग से निकालने की कोशिश करें.

            वजन न बढ़ने दें : जब आपका बढ़ने लगता है तो, मोटापे के कारण गले में सिकुड़न होने लगती है, जिस कारण खर्राटे आती हैं . इसलिए, अगर आपका मोटापा बढ़ रहा है, तो इसे नियंत्रित करने की कोशिश करें.

            धूम्रपान न करें : जो लोग धूम्रपान करते हैं, उनके गले की झिल्ली में परेशानी होने लगती है. इस कारण खर्राटे आती हैं. इसलिए, खर्राटों से बचने के लिए आप धूम्रपान न करें.

            समय पर सोएं : खर्राटों से बचने के लिए जरूरी है कि आप नियमित रूप से सही समय सोएं, ताकि आपके शरीर को पूरा आराम मिले. [19659002] व्यायाम करें : व्यायाम करने से भी आपको खर्राटों से आराम मिलता है. इसके लिए आप नियमित रूप से गले की एक्सरसाइज करें. साथ ही, अनुलोम-विलोम, कपालभाति भी आपको फायदा पहुंचा सकता है.

            नेजल स्ट्रिप : आप नेजल स्ट्रिप का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. यह नाक के मार्ग को संकीर्ण करती है, जिससे खर्रोटों की आवाज बाहर नहीं आती.

            खानपान : खर्राटों से बचने के लिए आपको अपने खानपान पर भी ध्यान देना जरूरी है. आप स्वस्थ भोजन करें और रात का खाना हल्का खाएं.

            ठंडी चीजों से परहेज : अगर आपको खर्राटों की समस्या है, तो ठंडी चीजों के सेवन से बचें. ठंडी चीजों के सेवन से गले में सिकुड़न हो सकती है, जो खर्राटों का कारण बनता हैं.

            खर्राटे का इलाज बताने के लिए हमने आपको इस लेख में कई तरह के घरेलू उपाय बताने की कोशिश की है, जो आपके काम आ सकते हैं . हम उम्मीद करते हैं कि ये घरेलू उपाय आपके काम आएंगे and आप खर्राटे का उपचार घर बैठे ही कर पाएंगी.

            संबंधित आलेख

          आंखों के नीचे काले घेरे (डार्क सर्कल) हटाने के 20 घरेलू उपाय – How to Remove Dark Circles in Hindi

          आंखों के नीचे काले घेरे (डार्क सर्कल) हटाने के 20 घरेलू उपाय  – How to Remove Dark Circles in Hindi


          If the dark circles under the eyes become dark circles, the beauty of the face seems colorless. If you do not have time to make dark circles, you lose your face. When you have dark circles under your eyes, you begin to look sick. In this way, it is necessary to take measures to remove the dark circles. In this article we tell you the Dark Circle decisions, which can be very easy and effective. Read this article to know how to remove dark circles.

          Before you understand the Dark Circle, we find out why they happen.

          Due to Dark Circles – Causes of Dark Circles of Hindu

          There may be several reasons for darkness under the eyes. Below are some common but notable reasons that may have dark circles under the eyes.

        • Do not take the right diet
        • due to a weakness due to a lack of essential nutrients in the body
        • Because of the exhaustion
        • The dream is not full
        • Allergy to the nose
        • Sun Due to the lack of sunscreens or because of the lack of sunscreen in the sun, darkness can also be dark circles under the eyes ( 1 ); if someone in the family has a problem with the dark circles, this can happen to any other member in the future. The dark circles of some people also cure automatically after an age.

          Home Remedies for Dark Circles (Under The Eyes) – Home Remedies for Dark Circles of Hindi

          Now That You Are Under Your Eyes It is known for the reasons behind the dark circles, so it is now time to know the dark steps circle. Below we are telling you some easy home remedies for dark circles.

          1. Tomato

            To remove black under the eyes, tomatoes are removed from the eyes

          Shutterstock

          Tomatoes are an important place in any home-made kitchen and are known to increase the taste of the food. Also, do you know that tomatoes are also very special for your skin. It can give many benefits to the skin. If you are talking about dark circles, the tomato can be very useful in it.

          • Tomato Juice Loaf [196599022] Tomato Juice Loaf [19659906] Teaspoon of Lemon Juice

          Method of Preparation and Application

          • Mix tomatoes and lemon juice in a bowl, then put it in your dark circle and save it for 10 minutes.
          • Wash with cold water after a while.

          When?

          You put it twice a day for two to three weeks.

          Cas Favorable?

          lycopene is tomatoes. This is a type of phytochemical that is useful for the skin ( 1 ). It can save the skin from any kind of damage. It also protects the skin from the sun's harmful rays and can improve the color ( 2 ) ( 3 ). If your skin is sensitive, add one tablespoon of water before placing it on the skin under the eyes. Warning: If your skin is sensitive, add one tablespoon of water before placing it on the skin under the eyes.

          2. Rose water for dark circles

          Rose water is readily available on the market today and is used extensively because it is beneficial to the skin. This is why we have included rose water in the dark circle removal list.

          • Gulab Jal
          • Two Small Cotton Shells

          Method of Making and Applying

          • Soak the cotton wafers in the rose water.
          • Now put the cotton wool under your eyes and leave it for 15 minutes.
          • Then wash it with cold water.

          When are you?

          Apply it for results within four weeks.

          How useful is this?

          c Accumulate to strengthen the antioxidant properties of water, skin cells and help younger skin again. This way you can get rid of the Dark Circle. You can also use rose water as a lotion for the eyes ( 4 ).

          3. Almond oil for dark circles

            almonds

          Shutterstock

          Good almond food is essential for good health. Almond oil is very useful in the same way, especially for the skin. For many years, people used almond oil and not only skin but also very effective for hair. It can also be very effective for the Dark Circle.

          • Material

            • Method of applying some drops of almond oil

            [1 9659023] Before going to bed, you can use almond oil in your dark circle.

          • Keep it covered overnight, and then wash it the next morning.

          When?

          Apply it every night before sleep, The dark circles under your eyes should not be reduced.

          Is it useful?

          Almond oil is rich in nutrients and has the refining properties of the skin. It has ammolytic properties that make the skin soft and soft to improve color. It also protects the skin from damage caused by harmful rays of the sun. In addition, it solves many skin problems ( 5 ) ( 6 ). Attention: Almond oil is of two types – bitter and sweet Bitter Almond oil is used in aromatherapy and does not apply to the skin. It should not be consumed.

          4. Green tea for dark circles

            Green tea for dark circles

          Shutterstock

          Whether to lose weight, make hair beautiful or improve skin, green tea is no less than miraculous tonic. Even if you are troubled by the Dark Circle, it may also be beneficial. Keep these cold teabags under your eyes and wash your face after 15 minutes.

        When do you put it?

        Apply until you find your eyes Down Down, improvements in dark circles have begun to notice.

        How useful is [19] 659002] Green tea contains polyphenol, which acts as an antioxidant and anti-inflammatory agent. These properties protect the skin from harmful sun rays ( 7 ) ( 8 ). Even this can reduce the risk of skin cancer ( 9 ). Dark circles occur when the blood vessels under the eyes become thin. Green tea helps to reduce it as it contains tannin that contains accentuous properties ( 10 ). Tannins cut thin thin blood vessels and cells and can help reduce the dark circles under the eyes. Tannin acts as a way to remove blackness ( 11 ). Apple Vinegar for Dark Circles

          Apple Vinegar for Dark Circles

        Shutterstock

        Apple Vinegar is rich in many nutrients and is good for health. Whether to lose weight, detoxify the body or get rid of all other health-related problems, apple cider vinegar is beneficial in many ways. If you talk about the skin, it can also have a great effect on your skin. You can use apple vinegar to remove the dark circles under the eyes. Ingredients

        • Method of application of a teaspoon of apple vinegar [19659906]

        When are you? How useful?

        Minerals, vitamins and many other nutrients present in apple vinegar Received to keep young and healthy. It tones the skin and cleanses the skin by removing impurities ( 12 ).

        Caution: Keep in mind that apple vinegar should not be visible in your eyes. If so, immediately wash your eyes with water.

        6. Olive oil for dark circles

        Olive oil or olive oil is used in many homes today. It is useful for both health and skin and hair. Olive oil rich in omega-3 fatty acids is rich in properties. You can also use this oil to remove your dark circle. Below we are telling you how to use it.

        • A few drops of olive oil or olive oil
        • Pinch turmeric (optional)

        Method of application

        • Massage with circular movements around the eyes with olive oil for a few minutes.
        • Leave it overnight. [1965925] When

          Sleep before you put it on bed every night

          How useful?

          In olive oil Antioxidants and have anti-inflammatory properties. There are also many types of vitamins, minerals and other nutrients that are useful for the skin ( 13 ). Continuous use of olive oil can significantly reduce your dark circles. Not only that, olive oil can also prevent other skin problems such as skin cancer or harmful sun rays due to skin damage. The nutrients present in olive oil prevent many problems by working as a protective armor for the skin ( 14 ) ( 15 ). Milk for dark circles

            Milk for dark circles

          Shutterstock

          Milk not only strengthens the bones, but also its consistent use also shines in your skin. It can also greatly heal the dark circles of your eyes. You do not have to drink milk, you may have milk on your skin. Ingredients

          • Method of applying a quarter cup of cold milk
          • cotton wool

          • Cotton shells
          • Now put the cotton wool on your dark circle.
          • Keep it for 15 minutes and then wash it with water. [1965925] When Found 19659002] Apply once a day for two weeks.

            How useful is

            Milk in milk Sid is what improves the skin. With it the skin will look soft, soft and dull (19459043) 16 ). Even this can reduce the symptoms of wrinkles. Not only that, if you have a skin problem, even after drinking milk, this problem can be overcome ( 17 ). If you grind the impulse from a lens and apply it with milk and melted butter, then your color can also improve ( 18 ). Additionally, skin-related problems such as atopic dermatitis may also be reduced by eating other foods made from milk or milk (19459044) 19 ). Potatoes for Dark Circles

            Potatoes are almost any favorite vegetable. If you want to add food to your taste, you need to increase its taste, then use potatoes. In addition, it can be very useful for your skin. If you want to get rid of dark circles under the eyes, potatoes can help you. Ingredients

            • Method of application of raw potato
            • Two cotton shells

            • Grated the raw potatoes and take the juice out of it.
            • Now soak the cotton walnuts in this juice. Then wash it with cold water.

            When are you?

            Two to three weeks Add twice a day.

            How useful? Potatoes contain many types of nutrients such as vitamins, minerals, iron and antioxidants (19459045) 20 ), which are useful for the skin. Potatoes will improve your skin as well as reduce your dark circles. You can also apply cucumber juice with potato juice ( 21 ).

            9. Tea bags or tea water for dark circles

              Tea bags or tea water for dark circles

            Shutterstock

            Drinking tea is almost the way everyone likes it. Many people do not start the day without tea. At the same time, tea is also useful for the skin. If you drink without tea, you can improve your face and reduce the dark circle. If you are not sure, read the recipe below.

          • Ingredients for the application of one or two tea leaves (as required)
          • or a tea bag
          • water
          • cotton

          • Boil the tea leaf in water boil for a while.
          • After cooling the water, place it in the dark circle under the eyes with a cotton wool.
          • In addition, soak the tea bag and the refrigerator for a while. Put it on and then cool the tea bags under the eyes.
          • Let it stand for a while and then wash your face with water later. [196592525] When You Have Done

            You put a daily routine procedure twice a day.

            How is it helpful?

            Almost every tea contains caffeine that prevents the blood vessels from being squeezed and leaving any kind of fluid in the tissue. This reduces the risk of a dark circle. Also, caffeine contains vitamins that not only improve the elasticity of the skin but also reduce the dark circle (19459049) 22 ). Almost every tea contains caffeine ( 23 ).

            10. Honey for dark circles

            Honey has many health benefits, but maybe few people will know how useful honey is for the skin. Honey can be very useful even when it comes to removing blackness under the eyes.

            • Ingredients

              • Method of application of a spoon of honey

              • Under both eyes, honey of the black circle Put a thin layer of it, let it stand for 15 to 20 minutes and then wash it with water.

              When you did it

              You put it twice a day. How Good Is This

              Foods Like Antioxidants Of Honey, Vitamins And Minerals Win Jackpot. It acts as a food for the skin ( 24 ). Regular use can reduce many skin problems. शहद त्वचा को साफ करने का काम करता है और त्वचा में निखार लाता है ( 25 ). ऐ ऐ े े स स स स स स स स स स स स स ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै यह त्वचा को नर्म और मुलायम बनाता है ( 26 ). यह घावों व चोटों से भी आराम देता है. यह त्वचा को हाइड्रेट रखता है और पीएच स्तर को बनाए रखता है ( 24 )

              11. डार्क सर्कल्स के लिए ग्रेपसीड ऑयल

               Grapeceed Oil for Dark Circles

              Shutterstock

              ग्रेपसीड ऑयल यानी अंगूर के बीज के तेल के बारे में हो सकता है कई लोगों को पता न हो, लेकिन इसके भी हमारे स्वास्थ्य और त्वचा के लिए कई फायदे हैं. जैसे अंगूर हमारी त्वचा में चमक लाता है, वैसे ही इसके बीज का तेल भी त्वचा के लिए लाभकारी है.

              सामग्री

              • दो से तीन बूंद ग्रेपसीड ऑयल

              लगाने की विधि

              • तेल को आराम-आराम से अपने आंखों के नीचे काले घेरे पर लगाकर छोड़ दें.

              कब लगाएं?

              आप हर रोज दो बार इसे लगाएं.

              कैसे फायदेमंद है?

              अंगूर के तेल में फ्लेवोनोइड्स होते हैं, जो एंटीऑक्सीडेंट व एंटीइंफ्लेमेटरी गुणो ं से भरपूर होते हैं ( 27 ). इसमें मौजूद विटामिन-ई त्वचा के लिए लाभकारी है और इसके पोषक तत्व त्वचा संबंधी परेशानियों को कम करने के साथ-साथ घाव, जलन और अन्य समस्याओं को कम कर सकते हैं ( 28 ) ( 29 ) ( 30 ). साथ ही यह आपके डार्क सर्कल के उपाय में भी काम आ सकता है. हालांकि, ग्रेपसीड ऑयल का उपयोग त्वचा पर कितना असरदार है, इसका अभी तक कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है, लेकिन व्यक्तिगत अनुभवों के आधार पर इसका इस्तेमाल किया जा सकता है. अगर आपको तेल लगाना पसंद नहीं है, तो आप अंगूर व अंगूर से बने पदार्थ खाली सकते हैं. इससे आपकी सेहत और त्वचा दोनों ठीक रहेगी.

              डार्क सर्कल्स के लिए पुदीना

              पुदीना निर्फ सेहत के लिए फायदेमंद है, बल्कि आपकी त्वचा का भी खूब्रिन करें. जब बात आए आंखों के नीचे कालापन दूर करने की, तो पुदीना बहुत ही फायदेमंद साबित हो सकता है, बस जरूरी है सही तरीके से उपयोग करने की.

              सामग्री

              • कुछ पुदीने के पत्ते

              लगाने की विधि [19659136] पुदीने के पत्तों को पानी के साथ पीसकर पेस्ट बना लें.

            • इस पेस्ट को आंखों के काले घेरे पर लगाकर 10 मिनट के लिए छोड़ दें.
            • फिर ठंडे पानी से धो लें. [19659137] कब लगाएं? [19659140] हर रोज रात को सोने से पहले इसे लगाएं.

              ैसे फायदेमंद है?

              पुदीने की पत्तियां विटामिन-सी से भरपूर होती हैं, जो काले घेरे का इलाज करने और त्वचा के स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करती हैं ( 31 ). पुदीना न सिर्फ डार्क सर्कल को कम करने में मदद करेगा, बल्कि यह आपके आंखों को ठंडक भी प्रदान करेगा, क्योंकि पुदीने की तासीर ठंडी होती है ( 32 ). [19659135] सावधानी: जरूरी नहीं कि पुदीना हर किसी की त्वचा को सूट करे. अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है, तो पुदीने से एलर्जी या रैशेज हो सकते हैं, इसल के लगाने से पहले पैच टेस्ट कर लें.

              Lemon juice for dark circles ” width=”700″ height=”450″ />

              Shutterstock

              चिलचिलाती धूप और गर्मी के बाद नींबू पानी किसी अमृत कम नहीं लगता है. ” width=”700″ height=”450″ />

              डार्क सर्कल्स के लिए नींबू का रस

               इसके अलावा वजन घटाना हो या इम्यूनिटी को बढ़ाना हो नींबू या नींबू का जूस हर मायने में फायदेमंद होता है. ठीक उसी तरह नींबू डार्क सर्कल के लिए भी असरदार साबित हो सकता है. </p>
<p><strong> सामग्री </strong></p>
<ul>
<li> नींबू का रस </li>
<li> रूई के गोले </li>
</ul>
<p><strong> लगाने की विधि </strong></p>
<ul>
<li> रूई को नींबू के रस में भिगोकर अपने आंखों के नीचे काले घेरे पर लगाएं।</li>
<li>इसे 10 से 15 मिनट के लिए लगा रहने दें और फिर ठंडे पानी से धो लें।</li>
</ul>
<p><strong>कब लगाएं?</strong></p>
<p>हर रोज दो बार इसे लगाएं।</p>
<p><strong>कैसे फायदेमंद है? </strong></p>
<p>जैसा कि आप पहले से ही जानते होंगे कि नींबू के र स में त्वचा में चमक लाने वाले गुण होते हैं (<a href=33)। इसमें मौजूद विटामिन-सी एंटीऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है। यह सिट्रस फल है, इसलिए यह त्वचा पर निखार लाकर उसे जवां बनाने में मदद कर सकता है (34)। आप नींबू के रस में टमाटर का जूस मिलाकर भी अपने डार्क सर्कल पर लगा सकते हैं (35)।

              14. डार्क सर्कल्स के लिए खीरा

              Cakes for the dark circles

              Shutterstock

              जब बात आए सलाद की, तो खीरे का जिक्र जरूर होता है। खीरा न सिर्फ पौष्टिक होता है, बल्कि गर्मियों में इसके सेवन से आपका शरीर ठंडा रहता है। यही खीरा आपकी खूबसूरती को भी बढ़ा सकता है। कई बार आपने लोगों को खीरे के गोल टुकड़े अपने आंखों पर रखते देखा होगा। ऐसा इसलिए किया जाता है, ताकि आपकी आंखों को आराम मिले। साथ ही डार्क सर्कल को भी कम किया जा सके।

              सामग्री

              • एक खीरा

              लगाने की विधि

              • खीरे को गोल मोटे टुकड़ों में काटकर आधे घंटे के लिए फ्रिज में रख दें।
              • अब दो टुकड़ों को लेकर अपने आंखों पर रख लें। ध्यान रहे कि आपके आंखों के नीचे काले घेरे खीरे से ढक जाएं।
              • इसे 10 मिनट के लिए रहने दें और फिर ठंडे पानी से आंखों को धो लें।

              कब लगाएं?

              एक हफ्ते तक हर रोज दो बार ऐसा करें।

              कैसे फायदेमंद है?

              खीरे में कई एंटीऑक्सीडेंट तत्व होते हैं (36), जो आंखों के नीचे काले घेरे को कम करने में मदद करते हैं और आंखों को ठंडक देते हैं। आप खीरे के रस को रूई में भिगोकर भी डार्क सर्कल्स पर लगा सकते हैं (37), ये आंखों में होने वाले जलन से भी छुटकारा दिलाएगा।

              15. डार्क सर्कल्स के लिए केसर

              Saffron for dark circles

              Shutterstock

              स्वास्थ्य के लिए केसर के फायदे तो लगभग सभी को पता होंगे, लेकिन यह त्वचा के लिए भी लाभकारी होता है। इसे कई वर्षों से रंगत में निखार लाने के लिए उपयोग किया जाता रहा है और आप इसे डार्क सर्कल कम करने के लिए भी उपयोग कर सकते हैं।

              सामग्री

              • एक चौथाई कप दूध
              • एक से दो केसर के रेशे
              • रूई का गोला

              लगाने की विधि

              • केसर के रेशे को दूध में कुछ देर के लिए भिगोकर रखें।
              • कुछ मिनट बाद उस दूध में रूई के गोले को भिगोकर अपनी आंखों के काले घेरे पर लगाएं। आप इस दूध को अपने पूरे चेहरे पर भी लगा सकते हैं।
              • इसे लगाकर 10 से 15 मिनट के लिए छोड़ दें।
              • फिर इसे ठंडे पानी से धो लें।

              कब लगाएं?

              आप इसे हर रोज लगाएं

              कैसे फायदेमंद है?

              केसर को कई सालों से रंगत में निखार लाने के लिए उपयोग किया जाता आ रहा है। इस बात को विभिन्न परीक्षणों के जरिए भी साबित किया गया है (38)। इसके लिए केसर में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण जिम्मेदार है। इसके अलावा, यह काफी हद तक आपकी त्वचा को सूर्य की हानिकारक किरणों से भी बचाता है (39)। यहां तक कि केसर हर्बल औषधि की तरह भी काम करता है (40)।

              16. आंखों के नीचे कालापन दूर करने के लिए नारियल तेल

              नारियल तेल को वर्षों से खाना बनाने या फिर बालों में लगाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है। यह गुणों और पोषक तत्वों का खजाना है। आप इसे अपने काले घेरे हटाने के उपाय के तौर पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

              सामग्री

              • नारियल तेल की कुछ बूंदें

              लगाने की विधि

              • रात को सोने से पहले अपनी आंखों के नीचे काले घेरे पर उंगलियों से नारियल तेल लगाएं।
              • फिर क्लॉकवाइज और एंटीक्लॉकवाइज हल्के-हल्के हाथों से मालिश करें।
              • रातभर लगा रहने दें।

              कब लगाएं?

              हर रोज रात को सोने से पहले इसे लगाएं।

              कैसे फायदे ंद है?

              न ारियल तेल के पौष्टिक और मॉइस्चराइजिंग गुण त्वचा को स्वस्थ रखते हैं और इसके मालिश से आंखों के नीचे के काले घेरे भी कम होते हैं (41)। यहां तक कि नारियल तेल त्वचा को सूर्य की हानिकारक किरणों से भी बचाता है और घाव, त्वचा संक्रमण या जलन से भी बचाव या त्वचा को आराम दे सकता है (4) (42)।

              17. आंखों के नीचे कालापन दूर करने के लिए एलोवेरा

              Aloe vera to remove blackness under the eyes

              Shutterstock

              एलोवेरा का छोटा-सा पौधा गुणों का खजाना है। यह कई बीमारियों में रामबाण का काम करता है। कोई अपने इम्यूनिटी सिस्टम को बेहतर करने के लिए, तो कोई पाचन शक्ति को ठीक करने के लिए इसका प्रयोग करता है। सेहत के अलावा त्वचा और बालों पर भी एलोवेरा अच्छा असर करता है। आप आंखों के नीचे काले घेरे हटाने के लिए भी एलोवेरा का उपयोग कर सकते हैं।

              सामग्री

              • ताजा एलोवेरा जेल
              • रूई

              लगाने की विधि

              • एलोवेरा जेल को अपने आंखों के नीचे काले घेरे पर लगाकर हल्के-हल्के हाथों से मालिश करें।
              • इसे 10 से 12 मिनट के लिए लगा रहने दें, फिर भीगे हुए रूई के गोले से इसे पोंछ दे।

              कब लगाएं?

              आप हर रोज सुबह रात को सोने से पहले लगाएं।

              कैसे फायदेमंद है?

              एलोवेरा त्वचा को हाइड्रेट करता है और उसे आराम देता है। इसमें मौजूद पौष्टिक तत्व न सिर्फ त्वचा के लिए एंटीसेप्टिक के तौर पर काम करते हैं, बल्कि सूर्य की हानिकारक किरणों से भी बचाते हैं। साथ ही आंखों के नीचे काले घेरे को भी कम कर सकते हैं। इसमें विटामिन-ई मौजूद होता है और यह त्वचा को किसी भी प्रकार के क्षति से बचाकर उसे स्वस्थ रखता है (43)।

              18. आंखों के नीचे कालापन दूर करने के लिए बेकिंग सोडा के फायदे

              हर रसोई में बेकिंग सोडा जरूर होता है, जो न सिर्फ आपकी सेहत के लिए लाभकारी है, बल्कि आपकी त्वचा के लिए भी फायदेमंद है।

              सामग्री

              • एक कप गुनगुना पानी
              • एक चम्मच बेकिंग सोडा
              • दो रूई के गोले

              लगाने की विधि

              • बेकिंग सोडा को पानी में मिलाकर मिश्रण तैयार कर लें।
              • अब इस मिश्रण में रूई को भिगोकर अपने आंखों के नीचे क ले ेरे पर लगाएं।
              • आप 10 से 15 मिनट तक इसे लगा रहने दें फिर पानी से धो लें।

              कब लगाएं?

              हर रोज एक बार इसे लगाएं।

              कैसे फायदेमंद है?

              बेकिंग सोडा त्वचा को राहत देता है और त्वचा की रंगत को हल्का करने के गुण भी इसमें मौजूद होते हैं। साथ ही इसके एंटीइंफ्लेमेटरी गुण रक्त प्रवाह में सुधार कर आंखों के काले घेरे को कम कर सकते हैं। बेकिंग सोडा को कई तरह के त्वचा संबंधी परेशानियों के लिए भी उपयोग किया जाता है (44)।

              सावधानी : जरूरी नहीं बेकिंग सोडा सभी को सूट करे, इसलिए उपयोग करने से पहले पैच टेस्ट कर लें, क्योंकि कभी-कभी संवेदनशील त्वचा होने के कारण रैशेज, जलन या एलर्जी भी हो सकती है।

              19. आंखों के नीचे कालापन दूर करने के लिए आर्गन का तेल

              ‘लिक्विड गोल्ड’ के नाम से जाना जाने वाला आर्गन तेल त्वचा और बालों के लिए गुणों का खजाना है। यह बालों और त्वचा पर जादुई तरीके से काम करता है। नीचे हम इसी के बारे में बता रहे हैं।

              सामग्री

              • आर्गन तेल की कुछ बूंदें

              लगाने की विधि

              • अपनी आंखों के नीचे काले घेरे पर इसे उंगलियों से लगाएं।
              • त्वचा में तेल के अवशोषण को बढ़ाने के लिए हल्के से टैप करें
              • ध्यान रहे कि इसे धोये नहीं।

              कब लगाएं?

              हर रोज रात को सोने से पहले लगाएं।

              कैसे फायदेमंद है?

              आर्गन ऑयल एक बहुत हल्का तेल है, जो त्वचा में आसानी से समा जाता है। इसमें विटामिन-ई और एंटीऑक्सीडेंट है, जो आंखों के नीचे त्वचा के ऊतकों को ठीक करता है। साथ ही त्वचा की प्राकृतिक चमक और निखार को बरकरार रखता है। यह झुर्रियों और फाइन लाइन्स को कम कर सकता है। यह त्वचा को कई तरह के संक्रमण से भी बचाता है (4) (45)।

              20. आंखों के नीचे कालापन दूर करने के लिए अरंडी तेल

              Castor oil to remove blackness under the eyes

              Shutterstock

              मुख्य रूप से बालों और त्वचा के लिए उपयोग किया जाने वाला अरंडी का तेल आपके डार्क सर्कल को भी काफी हद तक कम कर सकता है। बस जरूरत है, तो इसे सही तरीके से उपयोग करने की।

              सामग्री

              • अरंडी का तेल

              लगाने की विधि

              • रात को सोने से पहले अरंडी तेल को अपनी आंखों के नीचे काले घेरे पर लगाकर रातभर के लिए छोड़ दें।

              कब लगाएं?

              हर रोज रात को सोने से पहले लगाएं।

              कैसे फायदेमंद है?

              अरंडी का तेल त्वचा को नरम और कंडीशन करता है। यह आंखों के नीचे की बेजान त्वचा को फिर से जवां बनाता है और काफी हद तक आंखों के नीचे काले घेरे को कम कर सकता है। यहां तक कि यह रैशेज या छोटे-मोटे चोट या घाव होने पर भी आराम दिला सकता है (46)।

              डार्क सर्कल्स का इलाज – Medical treatments for Dark Circles in Hindi

              आंखों के नीचे काले घेरे हटाने के लिए ऊपर हमने आपको कई घरेलू उपाय बताएं, लेकिन अगर आपकी आंखों के काले घेरे घरेलू उपायों को आजमाने के बाद भी नहीं जा रहे हैं, तो इसका मतलब आपको डॉक्टर को दिखाने की जरूरत है। यहां हम आपको डार्क सर्कल्स के कुछ इलाज भी बता रहे हैं, जिसके बारे में आप अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं।

              1. केमिकल यानी रासायनिक पीलिंग

              आजकल त्वचा की खूबसूरती को बढ़ाने के लिए कई तरह के तकनीक आ चुकी हैं। केमिकल यानी रासायनिक पीलिंग उन्हीं में से एक है। इस विधि का उपयोग दाग-धब्बों, झाइयों, झुर्रियों और यहां तक कि डार्क सर्कल को ठीक करने के लिए भी किया जा सकता है। इसमें रासायनिक पदार्थों का उपयोग किया जाता है। इसके जरिए त्वचा पर बिना किसी कट या चीरा के इलाज किया जा सकता है।

              कैसे लाभकारी है?

              यह इलाज आमतौर पर एक त्वचा विशेषज्ञ और एनेस्थेटिस्ट द्वारा किया जाता है। केमिकल पील में आंखों के आसपास की त्वचा के ऊपरी परत को, जो बेजान और क्षतिग्रस्त हो चुकी होती है, उसे निकाल देता है। जब यह परत हट जाती है, तो आपकी त्वचा फिर से जवां और स्वस्थ दिखने लगती है।

              आर्गी पील (Argi peel) ट्रीटमेंट

              आर्गी पील (Argi peel) नए तरह का केमिकल पील है, जिसमें आर्गिनिन (arginine), एलांटोइन (allantoin), एलोवेरा और लैक्टिक एसिड होता है। इसमें मौजूद आर्गिनिन एक प्रकार का एमिनो एसिड है, जो ब्राउन शुगर से प्राप्त होता है। यह कोलेजन (यह शरीर और त्वचा के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है) व त्वचा की इलास्टिसिटी को बढ़ाता है और त्वचा को मॉइस्चराइज भी करता है। इस प्रक्रिया में लैक्टिक एसिड मुख्य एक्सफोलिएट पदार्थ है, जो मुख्य भूमिका निभाता है और हाइपरपिगमेंटेशन को कम करने में मदद करता है (48)। वहीं, एलोवेरा और एलांटोइन (एक तरह का रासायनिक यौगिक) त्वचा को मॉइस्चराइज कर मुलायम बनाते हैं। इसे विटामिन-सी और मैट्रिक्स (matrixyl) के साथ मिलाकर उपयोग किया जाता है, जो आंख के आसपास की त्वचा में कसाव लाता है और स्वस्थ बनाता है।

              उपचार की अवधि

              अब सवाल यह उठता है कि इस इलाज में कितना वक्त लगता है। उपचार की अवधि इस पर निर्भर करती है कि आप किस प्रकार का उपचार करा रहे हैं, सतही (superficial), मध्यम (medium) या गहरा पील (deep peel)। कई बार यह डॉक्टर पर भी निर्भर करता है, क्योंकि हर डॉक्टर का तरीका अलग होता है और जो व्यक्ति इलाज करा रहा है, उसके स्वास्थ्य पर भी निर्भर करता है।

              सुपरफिशियल पील में सबसे कम वक्त लगता है। इसमें व्यक्ति को चिकित्सालय में रुकना नहीं पड़ता, रिकवरी जल्दी होती है और आप अपनी सामान्य गतिविधियां भी शुरू कर सकते हैं।

              मीडियम पील की प्रक्रिया में लगभग 40 मिनट लगते हैं और इसमें रिकवरी होने में पांच से सात दिन लग जाते हैं।

              डीप पील की प्रक्रिया में लगभग 60 से 90 मिनट लगते हैं और रिकवरी होने में लगभग 10 से 14 दिन तक लग सकते हैं।

              2. इंटेंस पल्स लाइट ट्रीटमेंट

              इंटेंस पल्स लाइट ट्रीटमेंट त्वचा विषेशज्ञों द्वारा की जाने वाली तकनीक है, जिसमें किसी भी सर्जरी की जरूरत नहीं होती है। यह तकनीक चेहरे के अनचाहे बालों को हटाने, सूर्य की हानिकारक किरणों से त्वचा को हुए नुकसान को ठीक करने, दाग-धब्बों को हटाने, त्वचा की रंगत को हल्का करने और कई अन्य त्वचा संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। यह प्रक्रिया थोड़ी बहुत लेजर उपचार से मिलती-जुलती होती है, क्योंकि दोनों में ही लाइट का उपयोग किया जाता है।

              कैसे लाभकारी है?

              इंटेंस पल्स लाइट ट्रीटमेंट आंखों के नीचे काले घेरे को कम करता है, क्योंकि यह उन कोशिकाओं को नष्ट कर देता है, जो त्वचा की रंगत को खराब करने का काम करते हैं। यह आंखों के नीचे की त्वचा को भी चिकना करता है। इस उपचार में दाग-धब्बों को कम करने के लिए उच्च ऊर्जा वाले लाइट वेव का उपयोग किया जाता है। इस उपचार सेरक्त वाहिकाएं संकुचित हो जाती हैं, नतीजतन दाग-धब्बे कम होने लगते है और रंगत में सुधार आने लगता है।

              उपचार की अवधि

              आईपीएल उपचार काले घेरे के लिए सबसे प्रभावी उपचारों में से एक है, लेकिन यह थोड़ा आपके जेब पर भारी पड़ सकता है, क्योंकि यह दूसरे उपचारों की तुलना में थोड़ा महंगा है। अच्छे परिणाम के लिए व्यक्ति को कई सेशन के लिए बैठने की जरूरत होती है। हर एक सत्र कम से कम एक घंटे तक चल सकता है। इसके अलावा, यह उपचार आपके डार्क सर्कल, स्वास्थ्य और जीवनशैली पर निर्भर करता है।

              3. लेजर ट्रीटमेंट

              लेजर ट्रीटमेंट में आपके आंखों की नीचे की त्वचा को चुन कर उनका इलाज किया जाता है। यह भी दाग-धब्बों, डार्क सर्कल, अनचाहे बाल और कई त्वचा संबंधी परेशानियों से निजात पाने के लिए किया जाता है। इस उपचार के बाद आपके आंखों के नीचे की त्वचा कोमल और मुलायम तो हो ही जाती है, बल्कि साथ ही त्वचा की रंगत भी निखरने लगती है।

              कैसे लाभकारी है?

              लेजर ट्रीटमेंट कई तरह के होते हैं और यह आपके दाग-धब्बों पर निर्भर करता है कि आपको किस तरह की लेजर ट्रीटमेंट की जरूरत है। लेजर ट्रीटमेंट में वेवलेंथ बनाने के लिए कई बार अल्ट्रावॉयलेट या इंफ्रारेड अदृश्य लाइट का इस्तेमाल किया जाता है, जो त्वचा के पार जाते ही ऊर्जा छोड़ते हैं। ऊर्जा त्वचा की परतों के माध्यम से अवशोषित होती है और डार्क सर्कल का कारण बनने वाले काले व अनियमित पिगमेंटेशन को ठीक करती है।

              उपचार की अवधि

              व्यक्ति को प्रक्रिया पूरी होने के बाद हॉस्पिटल या क्लिनिक में रुकने की जरूरत नहीं होती है। इसे एक घंटे के भीतर किया जा सकता है। हालांकि, तुरंत व्यक्ति को फर्क नहीं पता चलता है, इसके लिए तीन से छह सेशन लेने की जरूरत होती है।

              4. सर्जरी

              आपको जानकर हैरानी हो सकती है, लेकिन काले घेरे हटाने के उपाय के लिए सर्जरी भी की जाती है। डार्क सर्कल्स या पफी आइज यानी आंखों के नीचे की वसा को हटाने के लिए आंखों की सर्जरी को ब्लेफेरोप्लास्टी (blepharoplasty) या आईलिड सर्जरी के रूप में जाना जाता है। इसे प्लास्टिक सर्जन द्वारा किया जाता है।

              कैसे लाभकारी है?

              इस उपचार में आंखों के नीचे जमे हुए वसा को हटा दिया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप आंखों के नीचे की सूजन व रंगत में सुधार आता है और आंखें खूबसूरत लगने लगती है।

              उपचार की अवधि

              इस उपचार की प्रक्रिया एक से तीन घंटे की हो सकती है। साथ ही इस सर्जरी से उबरने में कुछ हफ्ते लग सकते हैं।

              डार्क सर्कल के लिए कुछ और उपाय – Other Tips For Dark Circles in Hindi

              Other Tips For Dark Circles in Hindi

              Shutterstock

              आंखों के नीचे काले घेरे हटाने के लिए सिर्फ घरेलू उपाय और इलाज की जरूरत नहीं होती, बल्कि आपको अपने जीवनशैली और रूटीन में बदलाव करना होता है। आपकी जैसी जीवनशैली होती है, उसी का असर आपकी त्वचा और चेहरे पर पड़ता है। इसलिए, नीचे हम आंखों के काले घेरे हटाने के कुछ सामान्य उपाय बता रहे हैं।

              1. आहार या आपकी डाइट

              आपकी त्वचा इस बात का प्रतिबिंब है कि आपकी डाइट कैसी है, इसलिए अपने आहार में ज्यादा से ज्यादा हेल्दी चीजों को शामिल करें। ऐसे चीजों का सेवन करें, जो आपको पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व जैसे – विटामिन्स, मिनरल्स, आयरन व प्रोटीन। नीचे हम ऐसे ही कुछ चीजों के बारे में आपको बता रहे हैं।

              • सब्जियों में आप ब्रोकोली, पालक, शकरकंद, शिमला मिर्च, गाजर व टमाटर खा सकते हैं। इसके साथ ही आप अपने रोज के खाने के साथ सलाद का सेवन भी कर सकते हैं।
              • वहीं, फलों में पपीता, संतरा, केला, स्ट्रॉबेरी, अनार और कई दूसरे फलों का भी सेवन कर सकते हैं।
              • अगर आप मांसाहारी हैं, तो मीट-मछली, चिकन या अंडे को भी अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।
              • सिर्फ फल और सब्जियां ही नहीं आप ड्राई फ्रूट्स जैसे – काजू व बादाम आदि का भी सेवन करें।
              • इन सबके अलावा अगर आप अपने वजन को लेकर थोड़े भी स तर्क हैं, तो खाने में ब्राउन राइस खाएं।
              • खाने में दाल, दूध, स्प्राउट्स, दलीया और कई अन्य पौष्टिक चीजों का सेवन करें।

              जरूरी विटामिन का सेवन

              विटामिन-के का सेवन भी आपके डार्क सर्कल के लिए फायदेमंद हो सकता है। विटामिन-के आपके स्वस्थ रक्त प्रवाह के लिए आवश्यक है। जब आपके आंखों के नीचे की त्वचा में पोषक तत्वों के साथ सही तरीके से रक्त प्रवाह होगा, तो आपको काले घेरों के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं होगी। साथ ही यह त्वचा पर होने वाले किसी भी प्रकार के घाव को भी ठीक कर सकता है (47)।

              विटामिन सी एक और मुख्य विटामिन है, जो आपकी त्वचा को स्वस्थ और चमकदार बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इन्फ्लेमेटरी और कोलेजन बढ़ाने वाले गुण होते हैं। यह त्वचा की रंगत को हल्का कर सकता है, त्वचा पर धूप के हानिकारक प्रभाव को कम कर सकता है और कई अन्य त्वचा संबंधी परेशानियों से छुटकारा दिला सकता है। साथ ही यह एंटी-एजिंग प्रभाव भी डालता है (48) (49) (50)।

              वहीं, विटामिन ई आपकी त्वचा को हाइड्रेट व स्वस्थ रखता है (51)।

              अगर आपको फल या सब्जियों का सेवन करना नहीं पसंद, तो आप जूस का सेवन कर सकते हैं। जूस जरूरी पोषक तत्वों के सेवन का एक आसान तरीका है। नीचे हम एक हेल्दी जूस की रेसिपी भी आपके साथ शेयर कर रहे हैं।

              सामग्री

              • दो हरे सेब
              • आधा खीरा
              • दो से तीन अजवाइन की डंठलें (celery stalks)
              • एक कप अजमोद (parsley)
              • एक नींबू का रस

              बनाने की विधि

              • सभी सामग्रियों को मिलाकर जूस बना लें।
              • फिर सामान्य तापमान पर या ठंडा करके पिएं।
              • आप अपने पसंद के किसी अन्य फल या सब्जी को भी शामिल कर सकते हैं।

              तनाव – आजकल के इस तेज रफ्तार जिंदग मे लोगों के पास कई काम है और इन्हीं वजहों से तनाव भी बहुत है। आंखों के नीचे काले घेरे होने का एक मुख्य कारण तनाव भी है, इसलिए जितना हो सके तनाव से दूर रहें। बेशक, आज के जमाने में यह असंभव है, लेकिन आप इसे कम करने का प्रयास जरूर कर सकते हैं।

              पूरी नींद – जाहिर सी बात है अगर तनाव होगा, तो नींद में परेशानी होगी। नींद पूरी न होने से भी डार्क सर्कल की समस्या होती है और आपका चेहरा बेजान लगने लगता है। इसलिए, पूरी नींद लेना जरूरी है। देर रात तक टीवी या फोन का उपयोग न करें ।

              योग या ध्यान – तनाव कम करने के लिए और अच्छी नींद लेने के लिए योग व ध्यान यानी मेडिटेशन करना बहुत जरूरी है। इससे न सिर्फ आपका मन शांत होगा और आपको नींद अच्छी आएगी, बल्कि आपके चेहरे पर चमक आने के साथ-साथ आपकी सेहत भी अच्छी रहेगी। आप योग में प्राणायाम, सूर्य नमस्कार और कई अन्य तरह के योग कर सकते हैं।

              शराब या धूम्रपान से दूरी – शराब या अत्यधिक धूम्रपान करने से भी आंखों के नीचे काले घेरे होते हैं, इसलिए जितना हो सके इन चीजों से दूर रहें।

              आंखों के नीचे काले घेरे होने से न सिर्फ चेहरे की खूबसूरती कम होने लगती है, बल्कि व्यक्तित्व पर भी असर पड़ता है। डार्क सर्कल्स किसी के लिए भी चिंता कारण हो सकता है, लेकिन अब जब आप इस लेख के जरिए डार्क सर्कल के उपाय जान गए हैं, तो आप आसानी से इनका समाधान कर सकते हैं। सही डाइट और जीवनशैली के साथ इन्हें आजमाएं। अगर आपके पास भी काले घेरे हटाने के उपाय हैं, तो नीचे कमेंट में हमारे साथ जरूर शेयर करें।

              संबंधित आलेख

              The post आंखों के नीचे काले घेरे (डार्क सर्कल) हटाने के 20 घरेलू उपाय – How to Remove Dark Circles in Hindi appeared first on STYLECRAZE.

              दमा (अस्थमा) के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज – Asthma Symptoms and Home Remedies in Hindi

              दमा (अस्थमा) के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज – Asthma Symptoms and Home Remedies in Hindi


              आधुनिकीकरण और बढ़ते प्रदूषण का नकारात्मक प्रभाव न सिर्फ वातावरण, बल्कि इंसान को भी बाहरी और आंतरिक रूप स्क्रित कर रहा है. प्रदूषित वातावरण का सबसे बुरा असर श्वसन तंत्र (Respiratory System) प्रदूषित वातावरण का सबसे बुरा असर श्वसन तंत्र (Respiratory System) प्रदूषित वातावरण का सबसे बुरा असर श्वसन तंत्र (Respiratory System) इनमें एक बड़ा नाम अस्थमा का है, जिसे दमा भी कहा जाता है.

              अस्थमा प्रदूषित वातावरण के साथ-साथ खान-पानी संबंधी लापरवाही और आनुवंशिक रूप से भी हो सकता है. स्टाइलक्रेज के इस लेख में जानिए अस्थमा, इसके कारण और इससे निजात पाने के सटीक घरेलू उपायों के बारे में.

              विषय सूची

              .total a {color: # 424242;} # toc {background: # f5f5f5; padding: 10px;} # toc ul {margin: 0; padding: 0} #toc ul: {padding: 5px; margin: 0; list-style-position: inside;} ########################################################################################################### {padding-left: 15px; list-style-position: inside;} # toc ul-li ul ul> li {padding-left: 40px; list-style-position: inside;} # toc ul ul u ul ul> li {padding-left: 60px; list-style-position: inside;}

              क्या है दमा – What is Asthma in Hindi

              अस्थमा फेफड़ों से जुड़ी बीमारी है, जिसमें लेने में तकलीफ होती है. इस चिकित्सीय अवस्था में वायुमार्ग (Airways) संवेदनशील होकर सिकुड़ जाते हैं. वायुमार्ग के संकुचित होने से फेफड़ों तक ऑक्सीजन ठीक प्रकार से नहीं पहुंच पाती, जिससे सांस लेने में तकलीफ होती है और खांसी व सीने में जकड़न शुरू हो जाती है.

              अस्थमा किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकता है, लेकिन यह बीमारी सबसे ज्यादा बच्चों में देखी गई है. एक अपार्टमेंट अंग्रेजी अमेरिका 24 मिलियन स्थित हैं, जिम्ह 7 मिलियन बच्चे हैं ( 1 ). आगे जानिए दमा के कारणों के बारे में.

              दमा (अस्थमा) के कारण – Causes of Asthma Hindi [19659012] दमा तब अटैक करता है, जब सांस की नलियों में सूजन के साथ मांसपेशियां सख्त हो जाती हैं. इसके पीछे विभिन्न कारण जिम्मेदार हो सकते हैं. नीचे जानिए अस्थमा के कारण ( 2 1 ) –

              • आनुवंशिक रूप से मिलने वाली एलर्जी जिसे अटॉपी (Atopy) कहते हैं. [19659017] परिवार के सदस्य जिन्हें अस्थमा की बीमारी हो.
              • बचपन में श्वसन तंत्र (Respiratory System) संबंधी संक्रमण.
              • नवजात अवस्था में किसी वायरल इंफ्केशन के संपर्क में आना.
              • तनाव के चलते.
              • धूल कणों के संपर्क में आने से. [19659017] एक्सरसाइज के कारण भी.
              • पालतू जानवर के झड़ते बाल और रूसी से. [1 9659017] वायु में रसायन की अधिकता से.
              • धूम्रपान करने से.
              • एस्पिरिन और एनएसएआईडीएस (NSAIDS) जैसी दवाइयों की वजह से.
              • मौसम में बदलाव होने से. [19659028] दमा के लक्षण – Symptoms of Asthma in Hindi

              दमा की पहचान नीचे बताए गए लक्षणों की मदद से की जा सकती है 2

              • खांसी आने से. [19659017] सांस लेने और छोड़ने के दौरान पसलियों के बीच की त्वचा का ऊपर और नीचे होना
              • सांस लेने में तकलीफ खासकर तब जब आप व्याया कर रहे हो .
              • सांस लेते वक्त घरघराहट का अहसास होना.

              दमा के गंभीर लक्षण

              • होंठ और चेहरे का रंग नीला पड़ना
              • पल्स का तेज होना
              • चिंता
              • पसीना आना [19659017] अस्थाई रूप से सांस जाना
              • छाती में दर्द और सख्तपन महसूस होना

              दमा (अस्थमा) के प्रकार – Types of Asthma Hindi [19659012] अस्थमा विभिन्न कारणों और विभिन्न परिस्थितियों में विकसित हो सकता है. दमा को निम्नलिखित रूप से वर्गीकृत किया जा सकता है –

              एलर्जिक अस्थमा – जब प्रदूषित वातावरण के कारण एलर्जी पैदा करने वाला एलरजेन नामक तत्व शरीर में चला जाता है, तब एलर्जिक अस्थमा की स्थिति बन जाती है ( 3 ).

              एक्सरसाइज इंड्यूज अस्थमा – जब अस्थमा का कारण एक्सरसाइज या अन्य कोई शारीरिक गतिविधि बनती है, तो इसे एक्सरसाइज इंड्यूज अस्थमा कहा जाता है ( 4 ).

              कफ वेरिएंट अस्थमा – इस प्रकार का अस्थमा आमतौर पर श्वसन संक्रमण के कारण होता है ( 5 ).

              ऑक्यूपेशनल अस्थमा – जब अस्थमा किसी विशेष काम को करने से होता है, तो उसे ऑक्यूपेशनल अस्थमा कहा जाता है. ज्यादातर पशु पालक, किसान, नाई व लकड़ी का काम करने वाले इसकी चपेट में आते हैं ( 6 ). [19659002] दमा के लक्षण और दमा के कारण जानने के बाद अब बात करते हैं दमा के घरेलू इलाज की

              दमा के घरेलू इलाज – Home Remedies for Asthma in Hindi

              1. शहद

               Honey

              Shutterstock

              सामग्री:

              • दो चम्मच शहद
              • एक गिलास गर्म पानी
              • आधा चम्मच दालचीनी पाउडर

              कैसे करें इस्तेमाल:

              • गर्म पानी में एक चम्मच शहद मिलाएं और इसे धीरे-धीरे पिएं.
              • आप सोने से पहले दालचीनी पाउडर के साथ एक चम्मच शहद मिलाकर ले सकते हैं.

              कितनी बार करें:

              इस शहद के पानी को दिन में तीन बार पिएं. बिस्तर पर जाने से पहले हर रात शहद और दालचीनी मिलाकर लें.

              कैसे है लाभदायक:

              अस्थमा का इलाज करने के लिए आप शहद का उपाय कर सकते हैं. Make sure you do not have to worry about it and try to get it out of the way. शहद एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीबैक्टीरियल व एंटीऑक्सीडेंट गुणों समृद्ध होता है. 7 ).

              2. 2 ). अदरक

              सामग्री:

              • कद्दूकस किया हुआ 1 चम्मच अदरक [19659017] एक कप गर्म पानी [19659017] आधा चम्मच शहद [19659034] कैसे करें इस्तेमाल:

                • कद्दूकस किए हुए अदरक को गर्म पानी में मिलाएं और पांच से सात मिनट के लिए पानी में रहने दें.
                • अब पानी को छान लें और शहद मिलाएं.
                • अब धीरे-धीरे इस हर्बल चाय को पिएं.
                • आप दिन में कई बार अदरक के

                कितनी बार करें:

                दिन मे

              क्षेत्र करें:

              दिन मे दो से तीन कप अदरक की चाय पिएं.

              कैसे है लाभदायक:

              अदरक एक प्रसिद्ध जड़ी-बूटी है, जो अपने एंटीइंफ्लेमेटरी गुणों के लिए जाना जाती है. अदरक का सेवन श्वसन प्रणाली को स्वस्थ रखने का सबसे अच्छा तरीका है. यह सटीक अस्थमा का घरेलू उपचार है. अदरक वायुमार्ग की मांसपेशियों को आराम देता है और कैल्शियम की मात्रा को नियंत्रित करता है, जिससे वायुमार्ग में संकुचन से छुटकारा मिलता है ( 8 ).

              3. लहसुन

              सामग्री:

              • 10-12 लहसुन की कलियां [19659017] आधा कप दूध [19659034] कैसे करें इस्तेमाल:

                लहसुन की कलियों को दूध में उबालें और हल्का ठंडा कर पिएं.

                कितनी बार करें:

                दिन में एक बार पिएं.

                कैसे है लाभदायक

                लहसुन एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीबैक्टीरियल गुणों से समृद्ध होता है, जो फेफड़ों में जाने के का का काम करने के साथ-साथ वायुमार्ग की सूजन को कम करने का काम भी करता है. अस्थमा के घरेलू उपचार के रूप में आप लहसून का इस प्रकार इस्तेमाल कर सकते हैं ( 9 )

                4. अजवाइन

                 celery

                Shutterstock

                सामग्री:

                • आधा चम्मच अजवाइन
                • कप का एक तिहाई गुड़
                • कुछ तुलसी के पत्ते
                • आधा चम्मच अदरक पाउडर
                • एक लौंग
                • पांच काली मिर्च के दाने
                • आधा चम्मच हल्दी
                • आधा कप पानी

                कैसे करें इस्तेमाल:

                • इन सभी सामग्रियों को सॉसपेन में डालकर मिलाएं और कुछ मिनट तक अच्छी तरह उबालें. [19659017] फिर इस काढ़े को पिएं

                कितनी बार करें:

                समस्या के दिनों में र जाना इस काढ़े को दिन में दो बार पिएं. अगर कोई सकारात्मक परिमाण नहीं दिखता हैं, तो डॉक्टर से संपर्क करें.

                कैसे है लाभदायक

                अस्थमा का सफल उपचार करने के लिए आप अजवाइन का इस्तेमाल कर सकते हैं. नाक और गले के संक्रमण को दूर करने के लिए अजवाइन कारगर प्राकृतिक उपाय है. अस्थमा के लिए इसका इस्तेमाल भारत में लंबे समय से किया जा रहा है. अजवाइन एंटीफंगल, एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल गुणों से समृद्ध होती है, जो आपको अस्थमा के लक्षणों से निजात दिलाने में मदद करेगी ( 10 ).

                5. हल्दी

                सामग्री:

                • 1/4 चम्मच हल्दी पाउडर [19659017] एक गिलास पानी [19659034] कैसे करें इस्तेमाल:

                  हल्दी को पानी में मिलाएं और पिएं.

                  कितनी बार करें:

                  10-14 दिन तक रोज तीन-चार बार इस प्रक्रिया को दोहराएं. अगर लक्षणों में कोई सुधार नहीं होता है, तो खुराक को दोगुना करें.

                  कैसे है लाभदायक

                  हल्दी में करक्यूमिन नामक तत्व पाया जाता है, जो आपको अस्थमा से निजात दिला सकता है. हल्दी एंटीइंफ्लेमेटरी गुण से समृद्ध होती है, इसलिए यह वायुमार्ग की सूजन को भी कम कर सकती है. इसके अलावा, हल्दी कारगर एंटीमाइक्रोबियल एजेंट के रूप में 11 ) एसेंशियल ऑयल

                  क) यूकेलिप्टस तेल

                  सामग्री:

                  • यूकेलिप्टस तेल
                  • एक तौलिया

                  कैसे करें इस्तेमाल:

                  इसका उपयोग करने के लिए साफ तौलिये पर तेल की कुछ बूंदें डालें और सोते समय तौलिये को अपने पास रख दें, ताकि तेल की सुगंध आपकी नाक तक पहुंचती रहे.

                  कितनी बार करें:

                  समस्या के दिनों में हर

                  कैसे है लाभदायक

                  बंद नाक से राहत दर्शन लाने का यह सबसे अच्छा उपचार है. यह उपाय ठीक से सांस लेने में आपकी मदद करेगा. इसमें एउकल्यप्टॉल नाम का महत्वपूर्ण तत्व पाया जाता है, जो नाक की बलगम को हटाने का काम करेगा ( 12 ).

                  ख) लैवेंडर का तेल

                  सामग्री

                  • लैवेंडर तेल की पांच-छह बूंदें
                  • एक कटोरी गर्म पानी

                  कैसे करें इस्तेमाल:

                  गर्म पानी में लैवेंडर का तेल डालें और पांच से दस मिनट के लिए भाप लें .

                  कैसे ही प्रकार लाभदायक

                  लैवेंडर का तेल वायुमार्ग की सूजन को कम करने और बलगम को नियंत्रित करने का काम कर सकता है. यह सुंगधित तेल आरामदायक नींद को भी बढ़ावा देता है.

              समुद्र: गैल ट्री ऑयल

               Tea Tree Oil

              Shutterstock

              संस्कर के लिए कारगर अस्थमा का इलाज हो सकता है [

              • टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदें
              • फेस क्लॉथ
              • गर्म पानी

              कैसे करें इस्तेमाल:

              • फेस क्लॉथ को गर्म पानी में डुबोकर बाहर निकालें.
              • अब इस नम कपड़े पर
              • की ट्री ऑयल की कुछ बूंदे डालें
              • फिर तेल की भाप लें

              कितनी बार करें:

              कुछ दिनों तक इस प्रक्रिया को लगात र दोहराएं. आप दिन में एक से दो बार तेल की भाप ले सकते हैं.

              कैसे है लाभदायक:

              टी ट्री तेल एक्सपेक्टरेंट और डेकोंगेस्टंट गुणों से समृद्ध होता है, जो बंद नाक, खांसी, घरघराहट और बलगम को खत्म करने का काम कर सकता है. तेल में मौजूद एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीमाइक्रोबियल गुण वायुमार्ग की सूजन को कम करने का काम करते हैं ( 14 ). अस्थमा ट्रीटमेंट के लिए आप टीट्री तेल का इस प्रकार इस्तेमाल कर सकते हैं

              7. कॉफी

              सामग्री:

              • एक कप गर्म कॉफी

              कैसे करें इस्तेमाल:

              • अपनी पसंदीदा कॉफी को बनाएं और गर्मा-गर्म पिएं.

              कितनी बार करें:

              आप रोजाना गर्म कॉफी पी सकते हैं.

              कैसे है लाभदायक:

              कॉफी पीना एक सटीक अस्थमा का इलाज हो सकता है, क्योंकि यह वायुमार्ग को आसान बनाने का काम करता है. कॉफी में मौजूद कैफीन संकुचित वायुमार्ग को खोलने का काम कर सकता है ( 15 )

              8. प्याज

              सामग्री:

              कच्चा प्याज

              कैसे करें इस्तेमाल:

              • आप कच्चे प्याज को काटकर सलाद के रूप में भोजन के साथ खा सकते हैं.

              कितनी

          अस्थमा ट्रीटमेंट के लिए आप प्याज का सहारा ले सकते हैं. बार करें:

          • आप प्रतिदिन इसका सेवन कर सकते हैं केसे है लाभदायक. प्याज का तीखापन अस्थमा के लिए कारगर साबित हो सकता है. प्याज एंटीइंफ्लेमेटरी गुणों से समृद्ध होता है, जो वायुमार्ग को साफ करने का काम कर सकता है ( 16 )

            9. आंवला

             Gooseberry

            Shutterstock

            सामग्री:

            • एक मध्यम आकार का आंवला
            • आधा चम्मच अदरक का पाउडर
            • एक चम्मच शहद

            कैसे करें इस्तेमाल [19659016] सबसे पहले आवंले को पानी में उबाल लें, ताकि वह नर्म हो जाए.

          • अब उसका बीज निकाल कर गुदे का पेस्ट बना लें.
          • आंवले के पेस्ट में अदरक पाउडर और शहद मिलाएं.
          • लगभग तीन से पांच ग्राम इस मिश्रण का सेवन करें

          कितनी बार करें:

          समस्या के दिनों ें रोजाना दो बार आंवला का यह मिश्रण ले सकते हैं.

          कैसे है लाभदायक

          आंवला विटामिन-सी और एंटीइंफ्लेमेटरी गुणों से समृद्ध होता है. इसका सेवन अस्थमा से निजात पाने के लिए किया जा सकता है. यह अस्थमा के लक्षण जैसे सर्दी व खांसी को खत्म करने का काम करता है ( 17 )

          विटामिन

          सामग्री:

          • विटामिन-सी के सप्लीमेंट्स
          • विटामिन-डी के सप्लीमेंट्स

          कैसे करें इस्तेमाल:

          हर दिन विटामिन सप्लीमेंट्स का सेवन करें.

          कितनी बार करें:

          आप करीब एक महीने तक ये स्थित हैं. अगर कोई सकारात्मक प्रभाव न दिखे, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें.

          कैसे है लाभदायक

          अस्थमा के लक्षणों को कम करने में विटामिन-डी के सप्लीमेंट्स प्रभावी उपाय साबित हो सकते हैं. इसमें मौजूद एंटीइंफ्लेमेटरी गुण दमा से निजात दिलाने का काम कर सकते हैं ( 18 ). वहीं, विटामिन-सी भी अस्थमा के लिए कारगर उपचार माना गया है. यह अस्थमा के लक्षण जैसे एलर्जी व राइनाइटिस आदि से आराम दिला सकता है. इसके अलावा, विटामिन-सी इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने का काम भी करता है ( 19 ). [19659002] स्वस्थ आहार के बिना बीमारियों से लड़ा नहीं जा सकता है. Make sure that you have the chance to get the most out of your favorite moments and have fun with your friends. एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन्स और खनिजों से भरपूर भोजन श्वसन प्रणाली को स्वस्थ रखने का काम करते हैं.

          नीचे जानिए कुछ खाद्य पदार्थ, जो रोगियों से लिए अच्छे हो सकते हैं –

          दमा (अस्थमा) में आहार – Diet Tips for Asthma in Hindi

          फल – सेब कैंटालूप्स, केले, कीवी, एवोकाडो, अनानास और जामुन.

          सब्जियां – गाजर, लहसुन, ब्रोकली, स्प्राउट्स, पालक, शकरकंद,

          जूस – ऊपर बताई गई सब अदरक व टमाटर. ्जियों और फलों का आप जूस बनाकर भी पी सकते हैं.

          जंक फूड और तले हुए भोजन अस्थमा को गंभीर बनाने का काम कर सकते हैं, इसलिए जितना हो सके इन खाद्य पदार्थों से दूर रहें.

          दमा (अस्थमा) से बचाव – Prevention Tips for Asthma in Hindi

          हालांकि, अस्थमा को तुरंत रोकने का कोई तरीका नहीं है, लेकिन डॉक्टर के साथ मिलकर आप खुद को अस्थमा अटैक से बचा सकते हैं। नीचे कुछ सुझाव दिए जा रहे हैं, जिनका आप पालन कर सकते हैं –

          • आप डॉक्टर के सहयोग से अस्थमा की दवाएं लेने के लिए अस्थमा एक्शन प्लान बना सकते हैं और उसका सही रूप से पालन कर सकते हैं।
          • अस्थमा किसी भी वक्त आपको प्रभावित कर सकता है, इसलिए नियमित निगरानी और उपचार जरूरी है।
          • इन्फ्लूएंजा और निमोनिया अस्थमा का कारण बन सकते हैं, इसलिए इनका टीकाकरण करना जरूरी है।
          • अस्थमा के लक्षणों की पह ान करना भी बहुत ही जरूरी है। अगर आपको लेख में बताए गए किसी भी लक्षण का पता चलता है, तो आप तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
          • अस्थमा से बचने के लिए आप अपनी सांस पर भी निगरानी रखें। अगर आपको सांस लेने में तकलीफ या फिर ज्यादा दिनों तक लगातार खांसी जैसे लक्षण दिखते हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
          • अगर आपको अस्थमा का पहला अटैक आ चुका है, तो इलाज कराने में बिल्कुल भी देरी न करें।
          • डॉक्टर द्वारा बताई गई दवाइयों को सही समय पर लें और डॉक्टर के संपर्क में रहें।
          • अगर आपको अस्थमा इनहेलर से आराम नहीं मिलता है, तो अपने डॉक्टर से बात करें।

          अस्थमा एक घातक बीमार है, इसलिए जरूरी है कि शुरुआती लक्षण नजर आते ही सही इलाज कराया जाए। उपचार के अभाव में दमा जानलेवा साबित हो सकता है। आप दमा और इसके लक्षणों के प्रति जितना सतर्क रहेंगे, यह बीमारी आपसे उतना दूर रहेगी। लेख में हमने अस्थमा से बचाव के कई कारगर घरेलू उपाय बताए हैं, जिनका पालन आप कर सकते हैं। अगर आप अपने या परिवार के किसी सदस्य में अस्थमा के गंभीर लक्षण देखते हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट बॉक्स में बताना न भूलें। अन्य जानकारी के लिए आप हमसे सवाल भी पूछ सकते हैं।

          संबंधित आलेख

          The post दमा (अस्थमा) के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज – Asthma Symptoms and Home Remedies in Hindi appeared first on STYLECRAZE.

          योग क्या है? – योगासन के 39 फायदे, नियम और प्रकार – Everything About Yoga in Hindi

          योग क्या है? – योगासन के 39 फायदे, नियम और प्रकार – Everything About Yoga in Hindi


          If you are physically and mentally healthy, then believe you live a great life. However, whoever you ask, he thinks there are some problems. If someone is physically ill, then there is a living life filled with stress. The only solution to avoid this situation is yoga. Of course, it would be difficult for some of you to rely on this, but now many scientific studies confirm that yoga is a good option for better health. I suppose yoga will be of all, and any disease will only be treated by yoga. In this article we will provide all the information about yoga together that you would like to know ( 1 ) ( 2 ).

          What is Yoga

          Topic List

          .tocnew a {color: # 424 242;} # TOC {background: # f5f5f5; padding: 10px;} # toc ul {margin: 0; pad: 0} #toc ul li {padding: 5px; margin: 0; list-style-position: inside;} # toc ul li a: not: the first child {padding: 10px} #toc ul li {color: # f75b74; text-decoration: none} #toc ul-li> ul> li {padding-left: 15px; list-style-position: inside;} # toc ul-li ul ul> li {padding-left: 40px; list-style-position: inside;} # toc ul ul ul> li {padding-left: 60px; list-style-position: inside;}

          What is yoga? – What is Hindi yoga?

          To know what yoga is, we need to go to its origins. The word yoga derives from the Sanskrit word yuj, which means connecting. It is supposed that the origin of yoga is two meanings, first joining and second progeny. Until we can interfere with ourselves, it is difficult to achieve a level of samadhi. Some people believe that yoga is meant to bend the body in and out of breath, but yoga is ahead of the border. This is not just exercise but a physiological action based on science. It contains the brain, the body and the soul. There is also harmony between man and nature. This is a way to live life in the right way. Even in Gita, Sri Krishna has said that Yoga: Karmaus Kahushalya means Yoga carries skills in the affairs

          To understand this, we need to know the statements of prominent philosophers, enlighteners and yogis. Those who have designated Yoga by their own consent.

          • Linking yoga to religion, belief, and superstition is wrong. Yoga is a science that is the art of living life. This is also a complete medical practice. When religion connects us with pins, yoga is the road to liberation from all kinds of slavery. – Osho
          • When you learn to pause the whole body properly, you can feel the energy of the whole universe within yourself. This is the sum. – Sadguru Yagi Vasudev
          • Chattravwanandvadha: Yoga is to stop Chita's attitude being playful. In a simple language, do not let the mind wander, and maintaining a stable place is yoga. – Patanjali

          Once you know the definition of yoga, you know more about why yoga is needed.

          Yoga Benefits – Benefits of Yoga in Hindi

            Yoga Benefits

          Shutterstock

          Yoga works on three levels as it favors you. Yoga is appropriate for all in this sense.

          • In the first phase, it works to make the person healthier and fill the energy in it. We have negative thoughts that put us in stress, anxiety or mental disorders. Yoga helps us get out of this cycle.
          • By reaching the third and most important phase of yoga, the human being frees himself from worries and becomes able to experience the power to rule this world. To reach the final stage of yoga, hard work is needed. Thus, the benefits of yoga are available at different levels.

          Let's now know how yoga keeps us healthy.

          Internal Health Benefits of Yoga – Internal Health Benefits of Yoga in Hindi

          1. Blood Flow: When blood circulation improves in the body, then all organs work better. Body temperature is also controlled. As the bloodstream becomes unbalanced, the body suffers from many diseases such as heart disease, bad liver, brain functioning, and so on. By doing yoga, the flow of blood is good. With this all organs get enough oxygen and nutrients
          1. Balanced blood pressure: Because of the wrong lifestyle, many people suffer from a blood pressure problem. If you have any problems with your blood pressure, start using it today in the care of a yoga instructor. The importance of yoga is also because, by making pranayama, the body gets enough energy and the functioning of the nerves is better. Also, heart rate is normal
          1. Better respiratory system: Any disorder that comes into the respiratory system is enough to make us sick. Yoga thus tells us the importance of breathing in life because every yoga is based on breathing. When you do yoga, the lungs begin to work full potential, making breathing easy.
          1. Get rid of the gas: The benefits of yoga are also to get rid of the gas. The gas problem can be for everyone. This includes children, elderly people, women and men. This problem is mainly due to the functioning of the digestive system. Yoga is the best way to fix this. Yoga improves the digestive system, which can end with problems like constipation, gas and acidity
          1. Ability to bear pain: There can be pain in the body anywhere, anytime. Especially difficult to withstand joint pains. At the same time, when doing yoga, the physical capacity of pain begins to rise at the beginning. Also, after regular practice, this pain begins to decrease
          1. Sustainable Capacity: To combat disease it is important to have better resistance to disease. With weakening of the immune system, the body is easily caught by various diseases. Whether you are healthy or not, yoga in both situations will be a bargain. Yoga prevents the system from improving.
          1. New Energy: To keep life in a positive way and keep working, energy stays in the body. Yoga helps you in doing Yoga, fatigue is removed and the body is filled with new energy.
          1. Better metabolism: The process of metabolism is essential to our body. Through this process the body gets energy through the food so that we can do our daily work. When the digestive system, liver and kidneys work well, metabolism works well. The advantage of yoga at this stage is that by correcting dysentery and constipation through yoga, metabolism can be improved.
          1. Dream: After working all day, it's important to have a good night's sleep. This helps the body get ready again for work the next day. Without adequate sleep, there is anxiety, headaches, irritation and stress all day long. Ronald is not even visible on the face. At the same time, if you do regular yoga, then the mind calms down and relieves the stress that helps sleep well during the night.
          1. Balanced cholesterol: In this way, blood flow is better in the body. It does not cause blood clotting in the veins and further cleanses the fat. This is the reason why cholesterol can be controlled. Yoga improves HDL, ie. good cholesterol, while LDL means bad cholesterol.
            Internal health benefits

          Shutterstock

          1. Regulates sodium: Eat unhealthy food. These foods contain more sodium content. Increasing the amount of sodium in the body can cause heart disease or kidney disease. To avoid this, you should first stop this type of food. Plus, regularly use. Yoga has the ability to balance the amount of sodium
          1. Triglyceride reduction: Triglycerides are a type of fat in our blood that can cause heart disease and stroke. To reduce this, regular yoga is needed. Yoga slightly increases heart rate, which can be avoided due to triglycerides
          1. Red blood cells increase: Red blood cells are an important factor for our body. They carry oxygen from the lungs to the whole body. The lack of red blood cells can lead to anemia. The increase in yoga increases its volume in the body.
          1. Prevention of Heart Disease: The heart is a delicate part of our body. The wrong diet, unbalanced daily life and stress directly affect your heart. Then there are many diseases related to the heart. Yoga is the best way to avoid this. The heart is strong with regular yoga and healthy eating habits. When you do yoga to keep your heart healthy, you will easily understand the meaning of yoga.
          1. Asthma: From asthma, breathing hose is contracted, causing breathing problems. We also feel choked in a little dust and soil. If you are doing yoga at this stage, then your lungs are under stress and work at greater capacity.
          1. Arthritis: Arthritis, which means arthritis, swelling and pain begins in the joints. It is difficult to do daily work at this stage. Yoga can be useful to you in this way. Yoga by checking a qualified yoga instructor begins to reduce swelling and pain in the joints and begins to work slowly.
          1. Cancer: It's hard to say that with yoga the cancer is totally good Maybe or not. Yes, it can be said that through yoga it helps to recover from a cancer-like illness. Yoga can put an end to the toxic bacteria present in cancer patients. At the same time, muscle tension decreases and circulation is better, and stress and fatigue are also less. In addition, a problem such as nausea and vomiting that may occur during chemotherapy can be solved.
          1. Migraine: If a patient consumes a migraine, he may receive a headache relief. Yoga reduces the tension in the muscles and the oxygen reaches enough to the head, causing a migraine relief.
          1. Bronchitis: The respiratory tract between the mouth, nose and lungs is called a breathing hose. When swelling, it is difficult to breathe. This condition of therapeutic language is called bronchitis. Yoga helps with breathing by removing this inflammation. Through yoga, the supply of oxygen from the lungs is in sufficient quantity. In addition, new energy is transmitted to the lungs.
          1. It is a disease that causes other diseases. There is constipation when problems in the digestive system occur. There is a better amount of medication to fix this. Constipation through yoga can end with a root. Yoga will first correct the digestive system that will cure constipation itself and you will feel refreshed.
            Internal Health Benefits

          Shutterstock

          1. Infertility and Menopause: If someone wants to improve fertility So the yoga position is described. Problems such as getting sperm less through yoga, any sexual problem, any obstructions in the uterine tube or PCOD problem can be corrected. In addition, the negative symptoms that can be seen before and during menopause can also be corrected by yoga.
          1. Sinus and other allergies: Sinus causes swelling of the muscles around the nose. , There are breathing problems. Yoga is better for every problem. Breathing of yoga in the sinuses means that pranayama is made to remove clogging in the nasal and throat tubes and it is easy to breathe. In addition, yoga can cure other types of allergies.
          1. Pain in the waist: Nowadays more work is done by us. Because of this, somebody complains of aching pain. If you do yoga under the supervision of a qualified instructor, then the spinal cord comes that can remove any kind of pain. External Health Benefits – External Health Benefits of Yoga in Hindi
            1. The Impact of Growing Age: Some people have an influence on the face of an age before age. At the same time, if you do yoga, then the wrinkles that fall on your face in the past can be reduced. Through yoga, toxic substances and bacteria accumulated in the body are cleansed and free radicals are also eliminated. Thanks to stress, the effect of old age seems to predominate, but yoga can also save from this condition. This is getting worse. Therefore, the pain anywhere in the body, muscular disorders and bones begin to weaken. Yoga is the right way to avoid these problems. नियमित रूप से योग करने से हड्डियां व मांसपेशियां मजबूत होती हैं, शरीर का आकार बेहतर होता है और शारीरिक क्षमता बेहतर होती है.
            1. संतुलित वजन: इन दिनों हर कोई मोटापे का शिकार है. इसका कारण गलत खानपान और दिनचर्या है. सबसे पहले हमारा पेट खराब होता है. पाचन तंत्र बेहतर न होना ही हर बीमारी की जड़ है. इससे निपटने का आसान and बेहतरीन तरीका योग ही है. अगर आप नियमित योग करते हैं, तो कब्ज and एसिडिटी जैसी समस्याएं दूर होती हैं और पाचन तंत्र बेहतर होता है. इससे धीरे-धीरे वजन कम होने लगता है.
            1. सुडौल शरीर: योगासन सिर से लेकर पांव तक शरीर को संतुलित बनाता है और मानसिक व आत्मिक रूप से भी आपको मजबूत बनाता है. इन सभी के बेहतर प्रकार से कार्य करने पर ही शरीर सुडौल बनता है.
            1. कोर की क्षमता का बढ़ना: कोर का मुख्य रूप से अर्थ शरीर की महत्वपूर्ण मांसपेशियों के समूह को कहा जाता है. शरीर के ठीक प्रकार काम करने के लिए कोर का मजबूत रहना जरूरी है. शरीर का पूरा भार कोर पर ही तिका होता है. ये आपको चोट लगने से बचाती हैं. योग करने से कोर में मजबूत आती हैं, लचीलापन आता है और स्वास्थ रहती हैं.
            1. मांसपेशियों में सुधार: योग करने से मांसपेशियों की गतिविधि में सुधार होता है. यह मजबूत होती हैं और इनमें लचीलापन आता है.
            1. सहनशीलता में वृद्धि: जैसा कि इस लेख में कई बार लिखा गया है कि योग सिर्फ शारीरिक ही नहीं, बल्कि मानसिक रूप से भी मजबूत बनाता है. इसकी जरूरत रोजमर्रा के काम में पड़ी है. खासतौर पर खिलाड़ियों के लिए मानसिक तौर पर मजबूत होना जरूरी है. वह हिन्दी सहनशील रहते हैं, उतना ही उनके प्रदर्शन में सुधार नजर आता है. साथ ही हर व्यक्ति विपरीत परिस्थितियों में सही निर्णय लेने में सक्षम हो पाता है.

            योगासन के भावनात्मक स्वास्थ्य लाभ – Emotional Health Benefits of Yoga in Hindi

             Emotional Health Benefits of Yoga

            Shutterstock

            1. अच्छा मूड: जीवन में आगे बढ़ने और सफलता हासिल करने के लिए आपके स्वभाव का अच्छा और सकारात्मक रहना जरूरी है. इस काम में योग आपकी मदद करता है. यकीन मानिए, जब आप योग करते हैं, तो आप अंदर पूरी तरह सकारात्मक भर्जा से भर जाते हैं.
            1. तनाव कम: तनाव हिन्दी के लिए का नहीं के लिए करने के लिए करने है. जो व्यक्ति तनाव में होता है, उसके लिए सामान्य जिंदगी जीना मुश्किल हो जाता है. तनाव से बाहर निकलने का एकमात्र रास्ता योग है. जब आप योग करेंगे, तो नई ऊर्जा से भर जाएंगे.
            1. चिंता से छुटकारा: कहा जाता है चिंता चिता की जननी है. फासे तनाव का कम होना स्वाभाविक है. जो चिंता में डूबा उसका तनाव में जाना तय है. चिंता के कारण ह्रदय संबंधी बीमारियां तक ​​हो सकती हैं. अगर आप भी ज्यादा चिंता में डूबे रहते हैं, तो आज से ही योग का सहारा लेना शुरू कर दें. योग से न सिर्फ आप मानसिक रूप से तमाम तरह के विकारों व नकारात्मक सोच से उबर पाएंगे, बल्कि जीवन को फिर से जीने और तमाम दुविधाओं का सामना करने की क्षमता पैदा हो जाएगी. विचलित मन शांत होता है और परम आनंद का सुख मिलता है.
            1. दबाव का मुकाबला: कई बार ऐसा होता है कि ऑफिस और घर का काम इतना ज्यादा हो जाता है कि दबाव महसूस होने लगता है. ऐसा अक्सर महिलाओं के साथ होता है. इस अवस्था में उनके लिए विभिन्न कामों के बीच संतुलन बनाए रखना मुश्किल हो जाता है. इससे बचने का एकमात्र उत्तम जरिया योग है। योग आपको हर तरह की स्थिति और दबाव से बाहर निकलने की शक्ति देता है। आप अंदर से प्रसन्न महसूस करेंगे।
            1. निर्णय लेने की क्षमता : योग आपको मानसिक रूप से इस कदर मजबूत बनाता है कि आप जीवन से जुड़े महत्वपूर्ण निर्णय लेने में सक्षम हो जाते हो। साथ ही विपरीत हालत में स्वयं को कैसे संतुलित बनाए रखना है।
            1. एकाग्रता : नियमित रूप से योग करते रहने से आप इतने सक्षम हो जाते हैं कि अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए एकाग्रचित होकर काम करने लगते हो। इस दौरान मार्ग में आने वाली तमाम बाधाओं को भी आसानी से पार किया जा सकता है। वैसे भी कहा जाता है कि सफलता का मूल मंत्र काम के प्रति एकाग्रता है।
            1. अच्छी याददाश्त : योग के जरिए मस्तिष्क की कार्यप्रणाली पर भी असर होता है। खासकर, छात्रों के लिए यह बेहद जरूरी है। परीक्षा के दौरान अपने मस्तिष्क को शांत रखना और बेहतर बनाना जरूरी है, ताकि वो जो भी पढ़ रहे हैं, उन्हें अच्छी तरह याद रहे।
            1. बारीकियों पर नजर : अक्सर आप स्कूल, कॉलेज या फिर ऑफिस में ऐसे प्रोग्राम में जाते होंगे, जिनमें किसी विषय के बारे में विस्तार से बताया जाता है और यह आपके लिए जरूरी भी होता है। इस तरह के माहौल में अमूमन होता यह है कि आप कुछ समय तो एक्टिव रहते हैं, लेकिन धीरे-धीरे आपका ध्यान किसी और तरफ चला जाता है। इस प्रकार आप जरूरी बातों पर ध्यान नहीं दे पाते, लेकिन योग करने वाला व्यक्ति हर समय एक्टिव रहता है। वह हर बारीक से बारीक चीजों पर भी ध्यान रखता है।
            1. जीवन में सकारात्मक विचार : योग करना हमेशा ऊर्जावान रहता है। जीवन को लेकर उसके विचार सकारात्मक होते हैं। वह जीवन को हर दिन नई ऊर्जा व जोश के साथ जीना पसंद करता है। वह जीवनभर ‘खुश रहो और दूसरों को खुश रखो’ इसी सिद्धांत का पालन करता है।

            योग के इतने लाभ जानने के बाद अब यह भी जान लेते हैं कि योग कितने प्रकार के होते हैं।

            योग के प्रकार – Types of Yoga in Hindi

            हालांकि, ठीक-ठीक कहना तो मुश्किल है कि योग के प्रकार कितने हैं, लेकिन हम यहां आमतौर पर चर्चा में आने वाले प्रकारों के बारे में बता रहे हैं :

            1. राज योग : योग की सबसे अंतिम अवस्था समाधि को ही राजयोग कहा गया है। इसे सभी योगों का राजा माना गया है, क्योंकि इसमें सभी प्रकार के योगों की कोई न कोई खासियत जरूर है। इसमें रोजमर्रा की जिंदगी से कुछ समय निकालकर आत्म-निरीक्षण किया जाता है। यह ऐसी साधना है, जिसे हर कोई कर सकता है। महर्षि पतंजलि ने इसका नाम अष्टांग योग रखा है और योग सूत्र में इसका विस्तार से उल्लेख किया है। उन्होंने इसके आठ प्रकार बताए हैं, जो इस प्रकार हैं :

            • यम (शपथ लेना)
            • नियम (आत्म अनुशासन)
            • आसन (मुद्रा)
            • प्राणायाम (श्वास नियंत्रण)
            • प्रत्याहार (इंद्रियों का नियंत्रण)
            • धारणा (एकाग्रता)
            • ध्यान (मेडिटेशन)
            • समाधि (बंधनों से मुक्ति या परमात्मा से मिलन)

            2. ज्ञान योग : ज्ञान योग को बुद्धि का मार्ग माना गया है। यह ज्ञान और स्वयं से परिचय करने का जरिया है। इसके जरिए मन के अंधकार यानी अज्ञान को दूर किया जाता है। ऐसा कहा जाता है कि आत्मा की शुद्धि ज्ञान योग से ही होती है। चिंतन करते हुए शुद्ध स्वरूप को प्राप्त कर लेना ही ज्ञान योग कहलाता है। साथ ही योग के ग्रंथों का अध्ययन कर बुद्धि का विकास किया जाता है। ज्ञान योग को सबसे कठिन माना गया है। अंत में इतना ही कहा जा सकता है कि स्वयं में लुप्त अपार संभावनाओं की खोज कर ब्रह्म में लीन हो जाना है ज्ञान योग कहलाता है।

            3. कर्म योग : कर्म योग को हम इस श्लोक के माध्यम से समझते हैं। योगा कर्मो किशलयाम यानी कर्म में लीन होना। श्रीकृष्ण ने भी गीता में कहा है ‘योग: कर्मसु कौशलम्’ यानी कुशलतापूर्वक काम करना ही योग है। कर्म योग का सिद्धांत है कि हम वर्तमान में जो कुछ भी अनुभव करते हैं, वो हमारे पूर्व कर्मों पर आधारित होता है। कर्म योग के जरिए मनुष्य किसी मोह-माया में फंसे बिना सांसारिक कार्य करता जाता है और अंत में परमेश्वर में लीन हो जाता है। गृहस्थ लोगों के लिए यह योग सबसे उपयुक्त माना गया है।

            4. भक्ति योग : भक्ति का अर्थ दिव्य प्रेम और योग का अर्थ जुड़ना है। ईश्वर, सृष्टि, प्राणियों, पशु-पक्षियों आदि के प्रति प्रेम, समर्पण भाव और निष्ठा को ही भक्ति योग माना गया है। भक्ति योग किसी भी उम्र, धर्म, राष्ट्र, निर्धन व अमीर व्यक्ति कर सकता है। हर कोई किसी न किसी को अपना ईश्वर मानकर उसकी पूजा करता है, बस उसी पूजा को भक्ति योग कहा गया है। यह भक्ति निस्वार्थ भाव से की जाती है, ताकि हम अपने उद्देश्य को सुरक्षित हासिल कर सकें।

            5. हठ योग : यह प्राचीन भारतीय साधना पद्धति है। हठ में ह का अर्थ हकार यानी दाई नासिका स्वर, जिसे पिंगला नाड़ी करते हैं। वहीं, ठ का अर्थ ठकार यानी बाईं नासिका स्वर, जिसे इड़ा नाड़ी कहते हैं, जबकि योग दोनों को जोड़ने का काम करता है। हठ योग के जरिए इन दोनों नाड़ियों के बीच संतुलन बनाए रखने का प्रयास किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि प्राचीन काल में ऋषि-मुनि हठ योग किया करते थे। इन दिनों हठ योग का प्रचलन काफी बढ़ गया है। इसे करने से आप शारीरिक रूप से स्वस्थ रह सकते हैं और मानसिक रूप से शांति मिलती है।

            6. कुंडलिनी/लय योग : योग के अनुसार मानव शरीर में सात चक्र होते हैं। जब ध्यान के माध्यम से कुंडलिनी को जागृत किया जाता है, तो शक्ति जागृत होकर मस्तिष्क की ओर जाती है। इस दौरान वह सभी सातों चक्रों को क्रियाशील करती है। इस प्रक्रिया को ही कुंडलिनी/लय योग कहा जाता है। इसमें मनुष्य बाहर के बंधनों से मुक्त होकर भीतर पैदा होने वाले शब्दों को सुनने का प्रयास करता है, जिसे नाद कहा जाता है। इस प्रकार के अभ्यास से मन की चंचलता खत्म होती है और एकाग्रता बढ़ती है।

            योग के प्रकार जानने के बाद अब हम योगासन के समय अपनाए जाने वाले नियमों के बारे में बात करेंगे।

            योगासन के नियम – Rules of Yoga in Hindi

            Rules of Yoga

            Shutterstock

            योग करने से पहले और करते समय कुछ नियमों का पालन करना जरूरी है, जिनके बारे में हम नीचे बता रहे हैं :

            • नियमानुसार योग को सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद करना चाहिए। अगर आप सुबह जल्दी नहीं उठ सकते हैं, तो प्रयास करें कि सात बजे तक योग आसन कर लें।
            • योगासन से पहले हल्का वॉर्मअप करना जरूरी है, ताकि शरीर खुल जाए।
            • योग की शुरुआत हमेशा ताड़ासन से ही करनी चाहिए।
            • सुबह योगासन खाली पेट करना चाहिए।
            • जो लोग पहली बार योगासन कर रहे हैं, उन्हें शुरुआत में हल्के योग के आसन करने चाहिएं और किसी योग प्रशिक्षक की देखरेख में ही करें। फिर जैसे-जैसे इनके अभ्यस्त हो जाएं, तो अपने स्तर को बढ़ाते जाएं।
            • अगर आप शाम को योग कर रहे हैं, तो भोजन करने के करीब तीन-चार घंटे बाद ही करें। साथ ही योग करने के आधे घंटे बाद ही कुछ खाएं।
            • योगासन करने के तुरंत बाद नहीं नहाना चाहिए, बल्कि कुछ देर इंतजार करना चाहिए।
            • हमेशा आरामदायक कपड़े पहनकर ही योग करना चाहिए।
            • जहां आप योग कर रहे हैं, वो जगह साफ-सुथरी और शांत होनी चाहिए।
            • योग करते समय नकारात्मक विचारों को अपने मन से निकालने का प्रयास करें।
            • योग का सबसे जरूरी नियम यह है कि इसे धैर्य से करें और किसी भी आसन में अधिक ोर न लगाएं। अपनी क्षमता के अनुसार ही करें।
            • सभी योगासन सांस लेने और छोड़ने पर निर्भर करते हैं, जिसका पूर्ण ज्ञान होना जरूरी है। संभव हो तो पहले इस बारे में सीख लें, उसके बाद ही स्वयं से करें।
            • अगर आप बीमार या गर्भवती हैं, तो अपने डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही इसे करें। साथ ही योग्य योग प्रशिक्षक की देखरेख में इसे करें।
            • हमेशा योगासन के अंत में शवासन जरूर करें। इससे तन और मन पूरी तरह शांत हो जाता है। शवासन करने पर ही योग का पूरी तरह से लाभ मिलता है।
            • योग के दौरान ठंडा पानी न पिएं, क्योंकि योग करते समय शरीर गर्म होता है। इसलिए, ठंडे पानी की जगह साधारण या हल्का गुनगुना पानी ही पिएं।

            योग करने का सही समय – Correct Time to Practice Yoga in Hindi

            • योग विज्ञान में दिन को चार हिस्सों में बांटा गया है, ब्रह्म मुहूर्त, सूर्योदय, दोपहर व सूर्यास्त। इनमें से ब्रह्म मुहूर्त और सूर्योदय को योग के लिए सबसे बेहतर माना गया है।
            • ऐसा माना जाता है कि अगर आप ब्रह्म मुहूर्त में उठकर योग करते हैं, तो सबसे ज्यादा फायदा होता है। उस समय वातावरण शुद्ध होता है और ताजी हवा चल रही होती है। अमूमन आध्यात्म ज्ञान प्राप्त करने वाले ही इस समय योगाभ्यास करते हैं।
            • ब्रह्म मुहूर्त का समय सुबह चार बजे का माना गया है। इस समय सभी के उठना संभव नहीं है, इसलिए अगर आप सूर्योदय के समय भी योग करते हैं, तो बेहतर है। इससे शरीर दिनभर ऊर्जावान रहता है।
            • ध्यान रहे कि योगासन हमेशा खाली पेट ही करें।
            • आप सूर्यास्त के बाद भी योग कर सकते हैं, लेकिन उससे तीन-चार घंटे पहले तक आपने कुछ न खाया हो।

            योग के लिए आवश्यक चीजें – Things Required for Yoga in Hindi

            Things Required for Yoga

            Shutterstock

            योगाभ्यास के दौरान इन चीजों की जरूरत सबसे ज्यादा होती है :

            • साफ और आरामदायक योग मैट।
            • साफ-सुथरे और आरामदायक कपड़े, जिनमें आपको योगासन करते हुए परेशानी न हो।
            • जरूर के अनुसार आप तौलिया भी साथ रख सकते हैं, ताकि पसीना आने पर पोंछ सकें।
            • पानी की बोतल, जो साफ होनी चाहिए।
            • आप महिला हैं या पुरुष, अगर आपके बाल लंबे हैं, तो उन्हें हेयर बैंड या क्लिप से अच्छी तरह बांधकर रखें।
            • कुछ लोगों को शुरुआत में योग करते हुए दिक्कत हो सकती है, तो योग ब्लॉक्स व बेल्ट का प्रयोग कर सकते है। आप इसे इस्तेमाल करने से पहले एक बार अपने ट्रेनर से पूछ लें।
            • सबसे अहम बात यह है कि आप जिस कमरे में योग करें, वो साफ-सुथरा और शांत होना चाहिए।

            योगाभ्यास के दौरान मानसिक स्थिति कैसी होनी चाहिए – Mental State for Yoga in Hindi

            योग हमारे शरीर में नई ऊर्जा का संचार करता है। इस ऊर्जा को ग्रहण करने के लिए अपने शरीर को तैयार करना भी जरूरी है। इसलिए, योग करते समय अपने मन से सभी गलत विचारों को निकाल दें। इस बारे में बिल्कुल न सोचें कि योग करने से कोई लाभ होगा या नहीं और होगा तो कितने समय में होगा। योग करते समय अपने मन को पूरी तरह से स्थिर और शांत करने का प्रयास करें। हालांकि, शुरुआत में आपको कुछ परेशानी हो सकती है, लेकिन धीरे-धीरे सब सामान्य हो जाएगा।

            योगासन के लिए कुछ और टिप्स – Other Tips for Yoga in Hindi

            • आप सोच-समझ कर अच्छे योग टीचर का चुनाव करें। इसमें कोई जल्दबाजी न दिखाएं।
            • योग करते समय हमेशा अपने चेहरे पर हल्की मुस्कान रखें।
            • जब भी पद्मासन या सुखासन में बैठें, तो कमर को बिल्कुल सीधा रखें।
            • सांस को मुंह से छोड़ें और नाक से लें।
            • किस अवस्था में कब सांस लेनी है और कब छोड़नी है, उसका पूरा ज्ञान होना चाहिए।
            • जितना आपका शरीर साथ दे, उतना ही योगासन करें। नियमित अभ्यास करने से ही आपके शरीर में लचीलापन आएगा।
            • कौन, कैसे कर रहा है, उस पर ध्यान दें। हर किसी के शरीर की अपनी सीमा होती है।
            • स्वस्थ शरीर के लिए योग के साथ-साथ संतुलित भोजन भी करें।
            • अगर आपको कुछ समझ नहीं आ रहा है, तो एक बार अपने योग टीचर से जरूर पूछ लें। कुछ गलत करने से बेहतर है कि आप उस बारे में बात करें। अगर आप कोई योग आसन गलत तरीके से करते हैं, तो आपको फायदे की जगह हानि हो सकती है।

            सावधानी : अगर आप पहली बार योग कर रहे हैं, तो प्रशिक्षक की निगरानी में ही करें। वह आपकी उम्र, बीमारी व क्षमता के अनुसार ही उपयुक्त योगासन बताएगा। कई ऐसी बीमारियां हैं, जिनमें कुछ योग आसन वर्जित है, तो बेहतर यही होगा कि आप योग ट्रेनर की देखरेख में ही करें।

            इसमें कोई शक नहीं कि योग से सब संभव है, बस जरूरत है इसे करने के लिए संकल्प लेने की। आप आज ही किसी योग्य योग प्रशिक्षक का चुनाव करें और योग करना शुरू कर दें। हां, इस बात का जरूर ध्यान रखें कि योग करने से आपको फर्क तुंरत नजर आएगा, लेकिन पूरी तरह से फायदा होने में समय लग सकता है। इसलिए, संयम के साथ इसे करें और हर आसन का आनंद लें। साथ ही योग करने से आपको स्वयं में किस तरह का अंतर महसूस हुआ, उस बारे में हमें नीचे दिए कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

            योग करें, निरोग रहें।

            संबंधित आलेख

            The post योग क्या है? – योगासन के 39 फायदे, नियम और प्रकार – Everything About Yoga in Hindi appeared first on STYLECRAZE.

          पथरी (किडनी स्टोन) के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज – Kidney Stone Symptoms and Home Remedies in Hindi

          पथरी (किडनी स्टोन) के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज – Kidney Stone Symptoms and Home Remedies in Hindi


          क्या आप जानते हैं, पेट के निचले हिस्से में होने वाला दर्द पथरी की समस्या भी हो सकती है. यह गलत खानपान और अनियंत्रित जीवनशैली का नकारात्मक प्रभाव है. इसे किडनी स्टोन के नाम से जाना जाता है. अगर समय रहते इसका इलाज न करवाया जाए, तो यह समस्या आपके लिए गंभीर साबित हो सकती है.

          इस लेख में हम आपको किडनी स्टोन संबंधी महत्वपूर्ण जानकारी और इससे छुटकारा पाने के सबसे आसान घरेलू उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं. आइए, सबसे पहले जानते हैं कि आखिर किडनी स्टोन है क्या?

          विषय सूची

          .tocen a {color: # 424242;} # toc { f5f5f5; padding: 10px;} # toc ul {margin: 0; padding: 0} #toc ul: {padding: 5px; margin: 0; list-style-position: inside;} ########################################################################################################### {padding-left: 15px; list-style-position: inside;} # toc ul-li ul ul> li {padding-left: 40px; list-style-position: inside;} # toc ul ul u ul ul> li {padding-left: 60px; list-style-position: inside;}

          क्या होता है किडनी स्टोन – What is Kidney Stone in Hindi

          किडनी स्टोन को पथरी और नेफ्रोलिथियासिस के रूप में भी जाना जाता है. दरअसल, पथरी एक प्रकार का ठोस अपशिष्ट पदार्थ है, जो किडनी में बनना शुरू होता है और क्रिस्टल के रूप में विकसित होता है.

          किडनी स्टोन कई प्रकार के होते हैं, जिनमें से 80 प्रतिशत कैल्शियम और ऑक्सालेट के कारण बनते हैं. वहीं, अन्य स्टोन के बनने का कारण स्ट्रवाइट, यूरिक एसिड वस्तीन जैसे पदार्थ होते हैं ( 1 ). किडनी स्टोन आकार में छोटे या बड़े हो सकते हैं.

          आमतौर पर छोटी पथरी से ज्यादा समस्या नहीं होती, लेकिन अगर इनका आकार बड़ा है, तो मूत्र प्रणाली में रूकावट हो सकती है. कुछ मामलों में किडनी स्टोन से पीड़ित इंसान अहसनीय दर्द, उल्टी और रक्तस्राव (Bleeding) का सामना करता है. [19659002] अध्ययन से पता चलता है कि जिसे एक बार स्टोन की समस्या हो जाए, उसके ठीक होने बाद अगले 10 वर्ष में फिर से यह समस्या हो सकती है ( 2 ). नीचे दिए गए बिंदुओं के माध्यम से पथरी के लक्षणों के बारे में जानते हैं –

          पथरी के लक्षण – Symptoms of Kidney Stone in Hindi

          पथरी के लक्षणों में निम्नलिखित बिंदु शामिल हैं-

          • पीठ, बाजू, पेट के निचले हिस्से में तेज दर्द.
          • गुलाबी, लाल या भूरे रंग का पेशाब आना.
          • लगातार पेशाब लगना.
          • पेशाब करते समय दर्द होना.
          • पेशाब करने में दिक्कत या कम मात्रा में मूत्र निकलना. [19659016] बदबूदार मूत्र.

          इन लक्षण ं का मतलब हो सकता है कि आपको किडनी स्टोन की समस्या हो चुकी है. अगर आपका दर्द ज्यादा समय तक रहता है, तो आपको ये परेशानियां हो सकती हैं –

          • जी मिचलाना
          • उल्टी
          • बुखार
          • ठंड लगना आदि

          पथरी के लक्षण जानने के बाद आगे जानिए किडनी स्टोन के कारणों के बारे में –

          पथरी (किडनी स्टोन) के कारण – Causes of Kidney Stone in Hindi [19659009] किडनी स्टोन नीचे बताए जा रहे कारणों की वजह से हो सकता है ( 3 ) – [19659015] मूत्र में कैल्शियम, ऑक्सालेट व यूरिक एसिड जैसे पदार्थों का स्तर बढ़ जा े से किडनी स्टोन की समस्या हो सकती है.

        • किडनी रोग, कैंसर और एचआईवी के इलाज के लिए ली जा रही दवाओं से भी पथरी हो सकती है.
        • उन चिकित्सीय स्थितियों के कारण भी पथरी विकसित हो सकती है, जो

        किडनी स्टोन का पता लगते ही इसका सटीक इलाज जरूरी है.

      करने के लिए प्रकार करने है. डॉक्टरी इलाज के अलावा आप पथरी का घरेलू इलाज भी कर सकते हैं. नीचे जानिए पथरी का इलाज कैसे किया जाए –

      1. सेब का सिरका

       Apple vinegar

      Shutterstock

      सामग्री

      • दो बड़े चम्मच सेब का सिरका
      • एक गिलास पानी

      कैसे करें इस्तेमाल

      • पानी

      कितनी बार करें

      पथरी का देसी इलाज करने के लिए भोजन से पहले से के सिरके का सेवन करें. भविष्य में पथरी से बचे रहने के लिए सप्ताह में एक या दो बार सेब के सिरके का पानी पी सकते हैं.

      कैसे है लाभदायक

      सेब के सिरके को किडनी के लिए सुपरफूड कहा जाता है. यह किडनी को साफ करने का काम करता है ( 4 ). सिरके में मौजूद रासायनिक तत्व पथरी को नरम कर बाहर निकालने का काम कर सकते हैं. सेब के संरके में मौजूद एसिड भविष्य में किडनी स्टोन को विकसित होने से रोक सकता है.

      सावधानी: सुरक्षित है. इसका सेवन करने से पहले पानी में पतला कर लें. रक्तचाप और डायबिटीज की दवा ले रहे मरीज इसका सेवन नकरें.

      2. नींबू का रस और-जैतून का तेल

      सामग्री

      • एक बड़ा चम्मच जैतून का तेल
      • एक बड़ा चम्मच नींबू का रस
      • 60-80 ml पानी

      कैसे करें इस्तेमाल

      • पानी में नींबू का रस और जैतून का तेल मिलाएं.
      • अब इस मिश्रण को पी लें.

      कितनी बार करें

      अगर समस्या अधिक है, तो इस मिश्रण

      कैसे है लाभदायक

      प्रकार का इलाज करने के लिए नींबू का उ के बार ले सकते हैं. ाय कारगर रहेगा. नींबू के रस में मौजूद सिट्रिक एसिड किडनी स्टोन को बाहर निकालन में मदद कर सकता है. वहीं, जैतून तेल की चिकनाई पथरी को मूत्रमार्ग से निकालने में मदद करेगी ( 5 ).

      सावधानी: इस उपाय को तीन दिन तक प्रयोग करें, अगर कुछ फायदा नहीं मिलता है , तो डॉक्टर से संपर्क करें.

      3. अनार का जूस

      सामग्री

      • 1 अनार

      कैसे करें इस्तेमाल

      • सबसे पहले अनार के दानों को बाहर निकाल लें. [19659030] अब अनार के दानों को जूसर में डालें. जूस ठीक से बने, इसलिए आप थोड़े पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं.

      कैसे है लाभदायक

      पथरी की दवा के रूप में आप अनार का जूस पी सकते हैं. इसका शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव शरीर को किडनी को डिटॉक्स करने का काम कर सकता है. यह मूत्र प्रणाली को रेगुलेट करने और पेशाब की जलन को कम करने का काम भी कर सकता है.

      किडनी के लिए अनार का जूस फायदेमंद है, क्योंकि यह नेफ्रोटोक्सिटी (किडनी में होने वाली विषाक्तता) से बचाव करता है. अनार का नियमित सेवन किडनी स्टोन को बाहर निकालने में मदद कर सकता है ( 6 )

      4. राजमा (किडनी बीन्स)

       Rajma [19659070] Shutterstock [19659036] सामग्री </strong> </p>
<ul>
<li> एक कप किडनी बीन्स </li>
</ul>
<p> <strong> कैसे करें इस्तेमाल </strong> </p>
<ul>
<li> फली से बीन्स निकाल लें और फली के छोटे-छोटे स्लाइस कर लें. </li>
</ul>
<ul>
<li> लगभग 60 ग्राम कटी हुई फली को 4 लीटर पानी में चार घंटे तक उबालें. उबालते समय आंच को धीमा रखें. </li>
</ul>
<ul>
<li> अब पानी को मलमल के साफ कपड़े से छान लें और लगभग 8 घंटे के लिए ठंडा होने के लिए रख दें. </li>
</ul>
<ul>
<li> अब मरीज को एक गिलास बीन्स की फली का पानी एक दिन के लिए हर दो घंटे के अंतराल में दें. इसके बाद फली का पानी हफ्ते में तीन-चार बार लिया जा सकता है. </li>
</ul>
<p> <strong> नोट: </strong> एक बार फली का पानी उबालने के बाद इसका सेवन 24 घंटे के अंदर कर लें. </p>
<p> <strong> कैसे है लाभदायक </strong> </p>
<p> प्रकार का उपचार करने के लिए राजमा का सेवन एक कारगर विकल्प हो सकता है. राजमा जिसे किडनी बीन्स के नाम से भी जाना जाता है, वह स्टोन को निकालने का काम कर सकती है (<a href= 7 )

      5. तुलसी

      सामग्री

      • पांच-छह तुलसी के पत्ते
      • एक कप गर्म पानी
      • शहद स्वादानुसार

      कैसे करें इस्तेमाल

      • पत्तियों को 10 मिनट के लिए गर्म पानी में डूबा रहने दें.
      • स्वादानुसार शहद मिलाएं.
      • अब आराम से तुलसी की चाय का आनंद लें.

      कितनी बार करें

      आप एक दिन में दो-तीन कप

      कैसे है लाभदायक

      पथरी का आयुर्वेदिक उपचार करने के

      तुलसी की चाय पी सकते हैं. लिए आप तुलसी का सहारा ले सकते हैं. तुलसी को भारतीय जड़ी-बूटियों में विशेष स्थान प्राप्त है. किडनी स्टोन के लिए भी आप इसका सेवन कर सकते हैं. यह एक प्राकृतिक उपाय है, जो आपको पथरी की समस्या से निजात दिलाने का काम करेगा ( 8 )

      6. तरबूज

      किडनी स्टोन से निजात पाने के लिए आप तरबूज का सेवन कर सकते हैं. तरबूज एक खास फल है, जिसमें पानी की मात्रा अधिक होती है. तरबूज साइट्रिक एसिड और पोटैशियम तत्व से समृद्ध होता है, जो पथरी को बाहर निकालने का काम कर सकता है. 9 ), ( 10 )

      7. 7. अंगूर

       grapes

      Shutterstock

      गुर्दे की पथरी को ठीक करने के लिए अंगूर का सेवन एक कारगर विकल्प हो सकता है. अंगूर भी साइट्रिक गुणों से समृद्ध होता है और इसमें पानी की मात्रा अधिक होती है ( 10 ). अंगूर को अपने डिटॉक्सीफाइंग गुणों के लिए भी जाना जाता है. किडनी स्टोन से पीड़ित मरीज रोजाना अंगूर का सेवन कर सकते हैं ( 11 )

      8. सिंहपर्णी

      सामग्री

      • एक चम्मच सिंहपर्णी जड़
      • एक कप गर्म पानी

      कैसे करें इस्तेमाल

      • सिंहपर्णी की जड़ को गर्म पानी में डालें और इसे लगभग 10 मिनट
      • Click to enlarge
      • Click to enlarge

      Click to enlarge

      Click to enlarge

      कैसे है लाभदायक

      प्रवेश करने के लिए सिंहपर्णी की जड़ कारगर रहेगी. सिंहपर्णी की जड़ एंटीइंफ्लेमेटरी गुणों समृद्ध होती है, जो दर्द-सूजन से राहत दिला सकती है. साथ है मौजूद पोटैशियम किडनी स्टोन की स्थिति में आपकी सहायता कर सकता है. सिंहपर्णी मूत्र को बढ़ाने का काम भी करती है ( 12 ).

      सावधानी: मधुमेह, उच्च रक्तचाप और गॉल ब्लैडर संबंधी रोग की स्थिति में सिंहपर्णी का यह उपाय न करें. [19659033] 9. सेलेरी

      सामग्री

      • कच्ची सेलेरी (इतना कि एक कप रस निकल सके)

      कैसे करें इस्तेमाल

      • ब्लेंडर की मदद से सेलेरी का जूस निकालें. [19659016] जूस का सेवन सुबह खाली पेट करें.

      कितनी बार करें

      हफ्ते में तीन बार ले सकते हैं.

      कैसे है लाभदायक

      सेलेरी का जूस मूत्रवर्धक के रूप में काम करता है, जिससे किडनी स्टोन को बाहर निकालने में मदद मिलेगी. इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण भी होता, जो आपको संक्रमण से दूर रखता है ( 13 )

      10. बिच्छू पत्ती

       Scorpion leaves

      Shutterstock

      सामग्री

      • दो बड़े चम्मच सूखी बिच्छू पत्तियां
      • एक कप गर्म पानी

      कैसे करें इस्तेमाल

      • सूखी बिच्छू पत्तियों को गर्म पानी में डालें और लगभग 10 मिनट तक पानी में रहने दें. [19659030] अब चाय की तरह इसे आराम से पिएं.

      कितनी बार करें

      • एक दिन में 2-3

      कैसे है लाभदायक

      किडनी स्टोन के लिए आप बिच्छू की पत्तियों का उपाय र सकते हैं. बिच्छू की पत्तियां मूत्रवर्धक का काम करती हैं. साथ ही शरीर के भीतर इलेक्ट्रोलाइट को संतुलित बनाए रखने में मदद करती हैं. मूत्र की मात्रा बढ़ने से पथरी आसानी से बाहर निकल जाती है ( 14 )

      11. नारियल का पानी

      किडनी स्टोन के लिए आप नारियल का रोजाना सेवन कर सकते हैं. समस्या के दिनों में दिन में तीन-चार बार नारियल का पानी पिएं. इससे शरीर में मूत्र की मात्रा बढ़ेगी, जिससे पथरी आसानी से बाहर निकल सकती है ( 15 )

      बेकिंग सोडा

      सामग्री

      • आधा चम्मच बेकिंग सोडा
      • एक गिलास गुनगुना पानी

      कैसे करें इस्तेमाल

      • पानी में बेकिंग सोडा मिलाएं और इसे तुरंत पी लें. [19659021] कितनी बार करें

        दिन में दो से तीन बार पिएं.

        कैसे है लाभदायक

        बेकिंग सोडे (Sodium Bicarbonate) की क्षारीयता (Alkaline) मूत्र में मौजूद अम्लीय सामग्री (Acidic Content) को कम करने का काम करती है. इस प्रकार पथरी आसानी से पेशाब के रास्ते निकल सकती है ( 16 ), ( 17 ). इस अम्लीय सामग्री के कारण ही किडनी स्टोन का निर्माण होता है.

        शतावरी

        किडनी स्टोन के लिए शतावरी एक कारगर विकल्प हो सकता है. आप समस्या के दिनों में शतावरी को अपने दैनिक आहार में स्थान दें. आप शतावरी की सब्जी बनाकर या वेजिटेबल सलाद में डालकर खाला सकते हैं. शतावरी में ऐस्पेराजीन नामक तत्व होता है, जो किडनी स्टोन को तोड़ने का काम करता है और पेशाब का उत्पादन बढ़ाता है, जिससे पथरी आसानी से मूत्र के रास्ते निकल जाती है ( 18 ). [19659033] 14. मूली का जूस

         Radish juice

        Shutterstock

        सामग्री

        • एक सफेद मूली

        कैसे करें इस्तेमाल

        • मूली के डंठल को हटाकर छोटा-छोटा काट लें .
        • अब जूसर की मदद से मूली का जूस निकाल लें.
        • सुबह खाली पेट लगभग 100ml मूली का जूस पिएं.

        कितनी बार करें

        समस्या के दिनों में रोजाना मूली के

        कैसे है लाभदायक

        मूली एक खास सब्जी है, जो शरीर को डिटॉक्स करने का काम करती है. किडनी स्टोन को बाहर निकालने के लिए इसका रस आपकी मदद कर सकता है. मूली विटामिन-ए, बी, सी, पोटैशियम और डाइजेस्टिव एंजाइम्स से समृद्ध होती है, जो पेशाब व पाचन क्रिया में सुधार करने का काम करती है ( 19 ). [19659033] 15. हॉर्सटेल

        सामग्री

        • दो-चीन चम्मच हॉर्सटेल
        • एक कप गर्म पानी

        कैसे करें इस्तेमाल

        • एक कप गर्म पानी में हॉर्सटेल हर्ब को आठ से दस मिनट तक डुबो कर रखें.
        • अब धीरे-धीरे इसका सेवन करे.

        कितनी बार करें

        दिन में दो-तीन बार पिएं.

        कैसे है लाभदायक

        किडनी स्टोन का इलाज करने के लिए आप हॉर्सटेल का सहारा ले सकते हैं. हॉर्सटेल एक प्रभावी जड़ी-बूटी है, जो एंटीऑक्सीडेंट and एंटीइंफ्लेमेटरी गुणों समृद्ध होती है. इसे यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन के साथ-साथ किडनी और ब्लाडर स्टोन के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है. हॉर्सटेल में मौजूद रसायन इसे एक कारगर मूत्रवर्धक बनाने का काम करते हैं. मूत्र की मात्रा बढ़ने से पथरी आसानी से बाहर निकल सकती है ( 20 ). [19659013] पथरी (किडनी स्टोन) से बचाव – Prevention Tips for Kidney Stone in Hindi [19659009] भविष्य में किडनी स्टोन से बचे रहने के लिए आप निम्नलिखित टिप्स को जरूर अपनाएं –

        • हाइड्रेट रहें, पानी पीने की प्रक्रिया दिन भर जानी रखें.
        • अत्यधिक नमक का सेवन न करें.
        • ऑक्सालेट एक केमिकल कंपाउंड है, जो बहुत से खाद्य पदार्थों में पाया जाता है. ऑक्सालेट की अत्यधिक मात्रा किडनी स्टोन के निर्माण कर सकती है. इसलिए, जितना हो सके अधिक ऑक्सालेट युक्त खाद्य सामग्री का सेवन नकरें. पालक, चॉकलेट, कॉफी, स्वीट पोटैटो व मूंगफली आदि में अधिक ऑक्सालेट पाया जाता है (21)।
        • एनिमल प्रोटीन जैसे बीफ, पोर्क, फिश व चिकन आदि का सेवन कम करें।

        किडनी स्टोन की समस्या उम्र के किसी भी पड़ाव में आपको परेशान कर सकती है। पथरी का होना ज्यादातर भोजन पर निर्भर करता है। भोजन में नमक, एसिड व ऑक्सालेट की मात्रा बढ़ने से पथरी की आशंका बढ़ जाती है। अगर आप भी किडनी स्टोन से पीड़ित हैं, तो लेख में बताए गए किसी भी प्राकृतिक उपाय का चुनाव कर सकते हैं। ध्यान रहे कि आप अपने शरीर के प्रति जितना जागरूक रहेंगे बीमारियां आप से उतना दूर रहेंगी। किडनी स्टोन पर लिखा हमारा यह लेख आपको कैसा लगा, हमें कमेंट बॉक्स में बताना न भूलें।

        संबंधित आलेख

        The post पथरी (किडनी स्टोन) के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज – Kidney Stone Symptoms and Home Remedies in Hindi appeared first on STYLECRAZE.

      अश्वगंधा के 25 फायदे, उपयोग और नुकसान – Ashwagandha Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

      अश्वगंधा के 25 फायदे, उपयोग और नुकसान – Ashwagandha Benefits, Uses and Side Effects in Hindi


      अश्वगंधा के लिए करने के लिए सकते है, जिसे किसी परिचय की जरूरत नहीं है. अनगिनत खुबियों के कारण ही, सदियों से विश्वभर में इसका उपयोग किया जा रहा है. विभिन्न ग्रंथों में भी इसका उल्लेख किया गया है. आज के वैज्ञानिक युग में डॉक्टर भी मान चुके हैं कि अश्वगंधा गुणकारी औषधि है and कई रोगों के उपचार इस अकेली जड़ी-बूटी से संभव हैं. साथ है सक्षित के लिए के लिए करने के लिए सकता है. यह जड़ी-बूटी आपको बाजार में पाउडर, कैप्सूल व टैब्लेट आदि रूपों में आसानी से मिल जाएगी.

      इसमें एंटीऑक्सीडेंट, एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटी स्ट्रेस व एंटीबैक्टीरियल जैसे तत्व और इम्यून सिस्टम को बेहतर करने व अच्छी नींद लाने वाले गुण मौजूद हैं. अगर यह कहा जाए कि इसे के लिए करने के लिए गर्नुहोस्, तो गलत नहीं होगा ( 1 ). स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम अश्वगंधा के बारे में विस्तार से बताएंगे. साथ ही यह जानकारी भी देंगे कि अश्वगंधा का सेवन कैसे करें.

      आइए, अश्वगंधा के बारे में कुछ और बातें जान लेते हैं.

      अश्वगंधा क्या है – What is Ashwagandha

      इसका वैज्ञानिक नाम विथानिया सोम्निफेरा है. आम बोलचाल में इसे अश्वगंधा के साथ-साथ इंडियन जिनसेंग और इंडियन विंटर चेरी कहा जाता है. इसका पौधा 35-75 सेमी लंबा होता है. इसके जड़ और पत्तों की सुगंध अश्व के मूत्र के सामान होती है, जिस कारण से इसे अश्वगंधा नाम दिया गया है.

      मुख्य रूप से इसकी खेती भारत के सूखे इलाकों में होती है, जैसे – मध्यप्रदेश, पंजाब, राजस्थान व गुजरात. इसके अलावा, चीन और नेपाल में भी इसे बहुतायत संख्या में उगाया जाता है. विश्वभर में इसकी 10 और भारत में दो प्रकार की प्रजातियां पाई जाती हैं. [19659004] अश्वगंधा के फायदे – Benefits of Ashwagandha in Hindi [19659008] Ashwagandha [19659009] Shutterstock [19659010] अश्वगंधा संपूर्ण शरीर के लिए फायदेमंद है. इसके सेवन से स्थित के लिए के लिए के लिए के बारे के लिए होती, बल्कि मांसपेशियां भी मजबूत होती हैं और शरीर में रक्त का प्रवाह बेहतर होता है. इसके अलावा, यह यौन व प्रजनन क्षमता को बेहतर करने में भी सक्षम है. साथ ही इसके सेवन से तनाव को भी कम किया जा सकता है. यह औषधि श्वेत रक्त कोशिकाओं की संख्या में वृद्धि कर शरीर को तमाम तरह के रोगों से लड़ने के लिए तैयार करती है ( 2 ). [19659002] जैसा कि हमने लेख के शुरुआत में बताया था कि अश्वगंधा में एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाया जाता है, तो इस खूबी के कारण ही यह शरीर में फ्री रेडिकल्स को बनने से रोकता है. इस कारण चेहरे पर समय से पूर्व झुर्रियां पड़े की आशंका कई गुना कम हो जाती है ( 3 ). आगे इस लेख में हम यह भी बताएंगे कि अश्वगंधा का सेवन कैसे करें और अश्वगंधा चूर्ण के फायदे क्या हैं.

      अश्वगंधा की तमाम खूबियां जानने के लिए पढ़ते रहें यह लेख.

      सेहत के लिए अश्वगंधा के फायदे – Health Benefits of Ashwagandha in Hindi

      1. कोलेस्ट्रॉल

       Cholesterol

      Shutterstock

      कोलेस्ट्रॉल

       यह तो आप समझ ही हैं कि अश्वगंधा में एंटीआक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेटरी गुण मौजूद हैं. इस कारण से ही यह ह्रदय से जुड़ी तमाम तरह की समस्याओं को दूर करने में सक्षम है. अगर आप अश्वगंधा का प्रयोग करते हैं, तो ह्रदय की मांसपेशियां मजबूत होती हैं और खराब कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है. कई वैज्ञानिक शोधों में भी पुष्टि की गई है कि अश्वगंधा में भरपूर मात्रा में हाइपोलिपिडेमिक पाया जाता है, जो रक्त में खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है (<a href= 4 ). [19659018] 2. अनिद्रा

      अगर आप नींद नात्रा हैं, तो डॉक्टर की सलाह पर अश्वगंधा का सेवन कर सकते हैं. यह हम नहीं, बल्कि 2017 में जापान की त्सुकुबा यूनिवर्सिटी में इंटरनेशनल इंस्टिट्यूट द्वारा के लिए एक रिसर्च में का गया है. इस अध्ययन के अनुसार, अश्वगंधा के पत्तों में ट्राइथिलीन ग्लाइकोल नामक यौगिक पाया जाता है, जो गहरी नींद में सोने में मदद करता है. इस रिसर्च के आधार पर कहा जा सकता है कि अनिद्रा के शिकार व्यक्ति को अश्वगंधा का सेवन करने से फायदा हो सकता है ( 5 )

      3. तनाव

       Tension

      Shutterstock

      आजकल जिसे देखो, वही तनाव में नजर आता है. इस कारण से हो न समय से पहले बूढ़ हो रहे हैं, बल्कि कई बीमारियों का शिकार भी बन रहे हैं. अगर आप इन सभी दुष्परिणामों से बचना चाहते हैं, तो तनाव और चिंताग्रस्त जीवन जीने का प्रयास करें. साथ ही अश्वगंधा का सेवन करें. यह आयुर्वेदिक औषधि आपके तनाव को दूर करने के लिए कारगर साबित हो सकती है. हालांकि, अभी तक वैज्ञानिक तौर पर यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि किन कारणों से अश्वगंधा में एंटी-स्ट्रेस गुण है, लेकिन इतना जरूर कहा जा सकता है कि इसमें तनाव से राहत दिलाने के गुण हैं ( 6 )

      4. यौन क्षमता में वृद्धि

      कई पुरुषों में यौन इच्छा कम होती है और वीर्य की गुणवत्ता भी अच्छी नहीं होती. इस कारण वो संतान सुख से वंचित रह जाते हैं. ऐसे में अश्वगंधा जैसी शक्तिवर्धक औषधि पुरुषों में यौन क्षमता को बेहतर करने का भी काम करती है. साथ ही वीर्य की गुणवत्ता को भी बेहतर करती है. 2010 में हुए एक अध्ययन के अनुसार, अश्वगंधा का प्रयोग करने से वीर्य की गुणवत्ता के साथ-साथ उसकी संख्या में भी वृद्धि होती है. यह इंडियन जिनसेंग खासकर उन लोगों के लिए वरदान की तरह है, जिनकी यौन क्षमता या फिर वीर्य की गुणवत्ता कम होती है ( 7 )

      5. कैंसर

       Cancer

      Shutterstock

      यह आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी किस कदर गुणकारी है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पिछले एक दशक से डॉक्टर भी मानने लगे हैं कि अश्वगंधा से कई बीमारियों का इलाज किया जा सकता है. यहां तक ​​डॉक्टर कैंसर जैसी बीमारी के लिए भी अश्वगंधा को फायदेमंद मान रहे हैं. विभिन्न वैज्ञानिक शोध में कहा गया है कि अश्वगंधा में एंटी-ट्यूमर गुण है. इसलिए, कैंसर के वैकल्पिक उपचार के तौर पर अश्वगंधा का प्रयोग किया जा सकता है ( 8 )

      6. डायबिटीज

      आप चाहे कैंसर की बात करें या फिर उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल जैसी बीमारियों की, आयुर्वेद में ही बीमारी का इलाज संभव है. उसी तरह डायबिटीज का इलाज भी आयुर्वेद के जरिए किया जा सकता है. आयुर्वेद में उल्लेख है कि जो अश्वगंधा का सेवन करता है, उसे जल्द ही डायबिटीज से राहत मिल सकती है. इस तथ्य को बल 2009 में हुए एक अध्ययन के जरिए मिलता है. इसमें डायबिटीज ग्रस्त चूहों पर अश्वगंधा की जड़ और पत्तों का प्रयोग किया गया था. कुछ समय बाद चूहों में सकारात्मक परिवर्तन नजर आए थे. इस लिहाज से विज्ञान प्रमाणित करता है कि अश्वगंधा से डायबिटीज का इलाज किया जा सकता है ( 9 )

      7. बेहतर रोग प्रतिरोधक क्षमता

      यह तो आप भी जानते हैं कि अगर शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता ही बेहतर नहीं होगी, तो विभिन्न प्रकार की बीमारियों का सामना किस प्रकार किया जा सकता है. अगर आप अपनी प्रतिरोधक क्षमता बेहतर करना चाहते हैं, तो अश्वगंधा का सेवन करें. विभिन्न वैज्ञानिक अध्ययनों के जरिए स्पष्ट किया गया है कि अश्वगंधा खाने से शरीर में जमा विषैले जीवाणु बाहर निकल जाते हैं और रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार होता है ( 10 ).

      8. थायराइड

      गले में मौजूद तितली के आकार की थायराइड ग्राइल गर्नुहोस् गर्नुहोस्. जब ये हार्मोंस असंतुलित हो जाते हैं, तो शरीर का वजन कम या ज्यादा होने लगता है. साथ ही अन्य तरह की परेशानियों का भी सामना करना पड़ता है. इसी अवस्था को थायराइड कहते हैं. अगर आप भी थायराइड से ग्रस्त हैं, तो आपके लिए यह जानना और भी जरूरी हो जाता है कि अश्वगंधा किस प्रकार आपके लिए लाभकारी है. थायराइड से ग्रस्त चूहों पर हुए एक अध्ययन में पाया गया कि जब चूहों को नियमित रूप से अश्वगंधा की जड़ दवा के रूप में दी गई, तो उनके थायराइड हार्मोंस संतुलन होने लगे. इस आधार पर कहा जा सकता है कि थायराइड की अवस्था में डॉक्टर की सलाह पर अश्वगंधा का सेवन लाभकारी साबित हो सकता है ( 11 )

      9. आंखों की बीमारी

       Eye disease

      Shutterstock

      आकार के लिए सुरक्षित करें हो रहे हैं. जहां मोतियाबिंद जैसी गंभीर बीमारी 60 वर्ष के बाद लोगों को होती थी, वहीं अब 40 वर्ष को भी इसका शिकार हो रहे हैं ( 12 ). कई लोग तो मोतियाबिंद से अंधे तक हो जाते हैं. इसी संबंध में हैदराबाद के कुछ वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन किया था. उनके अनुसार अश्वगंधा में एंटीऑक्सीडेंट गुण होता है, जो मोतियाबिंद से लड़े में आपकी मदद कर सकता है. अध्ययन में पाया गया कि अश्वगंधा मोतियाबिंद के खिलाफ प्रभावशाली तरीके से काम करता है. यह मोतियाबिंद को बढ़ने से रोकता है ( 13 )

      10. आर्थराइटिस

      यह ऐसी पीड़ादायक बीमारी है, जिसमें मरीज का चलना-फिरना and उठना-बैठना मुश्किल हो जाता है. ऐ ग ग ग ग ग ग ग ग ग ग ग ग ग ग ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै. इसी के मद्देनजर वैज्ञानिकों ने 2014 में अश्वगंधा पर शोध किया था. उन्होंने अपने शोध के जरिए बताया कि अश्वगंधा में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं. अगर अश्वगंधा की जड़ के रस का प्रयोग किया जाए, तो न सिर्फ आर्थराइटिस से जुड़े लक्षण कम होते हैं, बल्कि दर्द से भी आराम मिलता है ( 14 ). [19659018] 11. याददाश्त में सुधार

      इन दिनों हर कोई मल्टीपल काम कर रहा है and तनाव से भी घिरा हुआ है. परिणामस्वरूप, मस्तिष्क की कार्यक्षमता प्रभावित होती है. ऐसे में जानवरों पर किए गए विभिन्न अध्ययनों में पाया गया कि अश्वगंधा ने मस्तिष्क की कार्यप्रणाली और याददाश्त पर सकारात्मक तरीके से असर डाला ( 15 ) ( 16 ). साथ ही अश्वगंधा लेने से नींद भी अच्छी आती है, जिससे मस्तिष्क को आराम मिलता है और वह बेहतर तरीके से काम कर पता है ( 17 )

      मजबूत मांसपेशियां

       Strong muscles

      Shutterstock

      साथ-साथ मांसपेशियोंं का मजबूत होना भी जरूरी है. अगर मांसपेशियां कमजोर होंगी, तो शरीर में भी जान नहीं रहेगी. साथ ही इससे अन्य तरह की परेशानियां भी हो सकती है. ऐ ऐ े े े े े े े े े े ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै. 18 ).

      13. संक्रमण

      अभी तक बताई गईं तमाम खुबियों के अलावा अश्वगंधा संक्रमण से भी निपटने में आपकी मदद करता है. अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की इंटरडिसिप्लिनरी बायोटेक्नॉलजी यूनिट ने इसी संबंध में एक अध्ययन किया था. उन्होंने अपने अध्ययन में पाया था कि अश्वगंधा में एंटीबैक्टीरियल गुण पाया जाता है. इसी गुण के कारण ही यह रोगजनक बैक्टीरिया के खिलाफ लड़े में सक्षम है ( 19 ). अश्वगंधा की जड़ और पत्तों के रस ने सफलतापूर्वक साल्मोनेला संक्रमण का सफाया कर दिया था. यह संक्रमण फूड पॉइजनिंग का कारण बनता है.

      ह्रदय रोग

       Heart disease

      Shutterstock

      अगर आप ह्रदय रोग से पीड़ित हैं, तो अश्वगंधा के इस लाभ के बारे में जरूर पढ़ें. ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस ने अपनी स्टडी में कहा है कि इस इंडियन जिनसेंग में ह्रदय रोग के असर को कम करने की शक्ति है. स्टडी के अनुसार, मुद्रण को नियमित रूप से अश्वगंधा की तय खुराक देने से कार्डियो एपोप्टोसिस (जरूरी सेल्स का नष्ट होना) के असर को कम किया जा सकता है. साथ ही मायोकार्डियम ( 20 )

      15. साथ ही मायोकार्डियम (ह्रदय के मजबूत व स्वस्थ टिशू) को फिर से क्रियाशील किया जा सकता है. नियंत्रित वजन

      आजकल हर कोई चाहता है कि वो चुस्त-तंदुरुस्त और आकर्षक नजर आए. इसके लिए न सिर्फ स्वस्थ रहने की जरूरत है, बल्कि वजन भी संतुलित रहना जरूरी है. आयुर्वेद में कहा गया है कि दुबले-पोलों को अश्वगंधा का सेवन करना चाहिए. इसके सेवन से पाचन तंत्र अच्छा होता है और शरीर को जरूरी पोषक तत्व मिलते हैं. ध्यान रहे कि अगर आप वजन बढ़ाने के लिए अश्वगंधा लेने की सोच रहे हैं, तो एक बार अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर कर लें ( 21 ). [19659002] आगे हम बता रहे हैं कि त्वचा के लिए अश्वगंधा किस प्रकार लाभकारी है.

      त्वचा के लिए अश्वगंधा के फायदे – Skin Benefits of Ashwagandha in Hindi

      1. एंटी एजिंग

      जैसा कि इस लेख के शुरुआत में बताया गया है कि अश्वगंधा में एंटीऑक्सीडेंट गुण होता है. इस लिहाज से यह आपके लिए काफी लाभकारी है. एंटीऑक्सीडेंट गुण के कारण ही यह शरीर में बनने वाले फ्री रेडिकल्स से लड़ सकता है. This is a good place for you to try and make sure you get the most out of the world with a great deal of fantastic value and great value for money. वहीं, अश्वगंधा से बने फेस पैक का प्रयोग किया जाए, तो न सिर्फ समय पूर्व चेहरे पर आने वाली झुर्रियों से छुटकारा मिल सकता है, बल्कि डार्क स्पोर्ट को भी कम किया जा सकता है. इतना ही नहीं, अश्वगंधा के प्रयोग से स्किन कैंसर से भी बचा जा सकता है ( 22 ) ( 23 ). यहां हम आपको अश्वगंधा के प्रयोग से फेस पैक बनाने की विधि बता रहे हैं.

      सामग्री:

      • एक चम्मच अश्वगंधा पाउडर
      • थोड़ा-सा गुलाब जल (आवश्यकतानुसार)

      कैसे करें प्रयोग: [19659061] अश्वगंधा पाउडर और गुलाब जल को अच्छी तरह मिक्स करें, ताकि वो पेस्ट की तरह बन जाए.

    • अब इसे साफ हाथों या फिर साफ मेकअप ब्रश से अपने चेहरे पर लगाएं.
    • इस पेस्ट को करीब 15 मिनट लगे रहने दें और फिर पानी से धो लें. [19659067] 2. घावों को भरने के लिए

      जब किसी को चोट लगती है, तो कुछ समय बाद वहां घाव बन जाता है, जो कभी-कभी बहुत तंग करता है. वहीं, किसी-किसी के शरीर में संक्रमण के कारण भी घाव हो जाता है, जिसे जल्द जल्द ठीक करना जरूरी होता है. ऐ ऐ े े प प प प प प प प प प ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै ै घाव पर लगाते ही यह अपना काम शुरू कर देता है, क्योंकि इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं. आप या तो इसका पेस्ट लगा सकते हैं या फिर तेल, यह आप पर निर्भर करता है. आप अश्वगंधा का पेस्ट घर में ही बना सकते हैं. इसकी विधि हम यहां बता रहे हैं.

      सामग्री:

      • अश्वगंधा की जड़
      • थोड़ा-सा पानी (आवश्यकतानुसार)

      कैसे करें प्रयोग:

      • आप पहले तो अश्वगंधा की जड़ को छोटे -छोटे टुकड़ों में काट लें और फिर मिक्सी में ग्राइंड करके पाउडर तैयार कर लें.
      • अब इसमें इतना पानी डालें कि यह पेस्ट बन जाए.
      • पेस्ट बनने के बाद इसे प्रभावित जगह पर लगाएं.
      • जब तक आपको आराम न मिले, इसे दिन में एक बार को जरूर ल ाएं।

      नोट : इस घरेलू उपचार को प्रयोग करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

      3. स्किन टोनर

      Skin toner

      Shutterstock

      त्वचा को जवां और खूबसूरत बनाए रखने के लिए समय-समय पर टोन करने की जरूरत होती है। इसका महत्व हर महिला के लिए समझना जरूरी है। स्किन को टोन करने से त्वचा के रोम छिद्र साफ होकर सिकुड़ जाते हैं, ताकि फिर से उसमें गंदगी न जमा हो जाए। आपको पढ़कर हैरानी हो सकती है, लेकिन अश्वगंधा स्किन टोनर का भी काम करता है। आप हमारे कहे पर न जाएं, बल्कि इसे आजमा कर देखें। इसे कैसे प्रयोग करना है, उसकी विधि हम नीचे बता रहे हैं।

      सामग्री :

      • दो चम्मच अश्वगंधा की जड़ का पाउडर
      • एक चम्मच सूखे नींबू के छिलके
      • एक चम्मच सूखा अदरक
      • 200 एमएल पानी

      कैसे करें प्रयोग :

      • यहां बताए गई सभी सामग्रियों को पानी में डालकर अच्छी तरह मिक्स कर लें।
      • अब पानी को कुछ देर के लिए उबालें।
      • एक बार जब पानी उबल जाए, तो इसे छानकर बोतल में डालकर रख दें।
      • अब जब भी आप को लगे कि त्वचा को टोनर की जरूरत है, तो इसका इस्तेमाल करें।

      4. त्वचा में सूजन

      यह तो आप जान ही गए हैं कि अश्वगंधा में पर्याप्त मात्रा में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। इस लिहाज से यह आर्थराइटिस के साथ-साथ त्वचा में आई सूजन को कम करने में आपकी मदद कर सकता है। त्वचा में सूजन के लिए स्टैफिलोकोकस ऑरियस नामक बैक्टीरिया जिम्मेदार होता है। वहीं, अश्वगंधा जैसी चमत्कारी जड़ी-बूटी में विथेनाओलाइड्स नामक यौगिक पाया जाता है, जो एंटीबैक्टीरिया की तरह काम करता है। यह यौगिक बैक्टीरिया के असर को कम करके त्वचा में आई सूजन को कम कर सकता है (24)।

      कैसे करें प्रयोग :

      • त्वचा में जहां सूजन है, आप वहां अश्वगंधा पेस्ट को लगा सकते हैं।

      5. कोर्टिसोल के स्तर में कमी

      कोर्टिसोल एक प्रकार का हार्मोन होता है, जिसे स्ट्रेस हार्मोन भी कहा जाता है। यह हार्मोन आपके शरीर को बताता है कि आपको भूख लग रही है। जब रक्त में इस हार्मोन का स्तर बढ़ता है, तो शरीर में फैट और स्ट्रेस का स्तर भी बढ़ने लगता है। इससे शरीर को विभिन्न प्रकार के नुकसान हो सकते हैं। इसलिए, कोर्टिसोल के स्तर को कम करना जरूरी है। एक शोध में पाया गया है कि अश्वगंधा के प्रयोग से कोर्टिसोल को कम किया जा सकता है (25)।

      कैसे करें प्रयोग :

      • आप प्रतिदिन 125mg से 5g तक अश्वगंधा के सप्लीमेंट्स ले सकते हैं, लेकिन इसे लेने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें। वही, आपको बेहतर रूप से बताएंगे कि प्रतिदिन कितनी मात्रा लेनी है और कब तक इसका सेवन करना है।

      अश्वगंधा बालों के लिए भी गुणकारी है। आइए, जानते हैं कैसे।

      बालों के लिए अश्वगंधा के फायदे – Hair Benefits of Ashwagandha in Hindi

      1. स्वस्थ स्कैल्प

      काले, घने और लंबे बालों की चाहत हर किसी को होती है। यह तभी संभव है, जब स्कैल्प अच्छा हो। इसके लिए आप किसी दवा, शैंपू या कंडीशनर की जगह आयुर्वेद पर भरोसा कर सकते हैं। आयुर्वेद में कहा भी गया है कि अगर आप बेहतर बाल व स्वस्थ स्कैल्प चाहते हैं, तो अश्वगंधा का प्रयोग कर सकते हैं। इसके प्रयोग से स्कैल्प में रक्त का संचार बेहतर होता है। साथ ही हेयर फॉलिकल्स को पर्याप्त पोषण मिलता है, जिससे बाल जड़ों से मजबूत और मोटे होते हैं। इससे बालों का झड़ना बंद हो जाता है (26)।

      2. मजबूत बाल

      Strong hair

      Shutterstock

      ऐसे लोगों की कमी नहीं है, जो झड़ते बालों से परेशान हैं। ऐसा बालों के जड़ से कमजोर होने पर होता है। अगर आप भी इस समस्या से परेशान हैं, तो खास अश्वगंधा आपके लिए ही है। बाल न सिर्फ पोषक तत्वों की कमी के कारण झड़ते हैं, बल्कि इसके पीछे तनाव भी एक कारण है। जैसा कि पहले भी बताया गया है कि अश्वगंधा के प्रयोग से स्कैल्प बेहतर होता है और संपूर्ण पोषण मिलता है, उसी तरह यह कोर्टिसोल के स्तर को भी कम करता है। कोर्टिसोल का स्तर कम होने से तनाव दूर होता है और उससे होने वाले दुष्प्रभाव भी कम होते हैं। ऐसे में जब बालों को पूरे पोषक तत्व मिलेंगे और तनाव कम होगा, तो बालों का झड़ना भी कम हो जाएगा (27) (28)।

      3. डैंड्रफ

      कुछ लोगों को डैंड्रफ की समस्या ज्यादा होती है। कई तरह के शैंपू, तेल व कंडीशनर इस्तेमाल करने पर भी समस्या दूर नहीं होती है। आप इन केमिकल युक्त प्रोडक्ट्स की जगह अश्वगंधा का प्रयोग कर सकते हैं। इसमें एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होता है, जिस कारण से यह स्कैल्प से जुड़ी तमाम समस्याओं जैसे एग्जिमा, स्कैल्प सायरोसिस और डैंड्रफ आदि को ठीक करने में सक्षम है।

      4. बेहतर हेयर फॉलिकल्स

      हमारे स्कैल्प में कई हेयर फॉलिकल्स होते हैं, जो बालों को जड़ों से मजबूत बनाए रखने का काम करते हैं। इन फॉलिकल्स में कमी आने पर बाल टूटकर गिरने लगते हैं। इसलिए, आप केमिकल युक्त शैंपू की जगह अश्वगंधा युक्त शैंपू और कंडीशनर का इस्तेमाल करें। इससे न सिर्फ हेयर फॉलिकल्स बेहतर होंगे, बल्कि बालों में भी नई जान आएगी और चमकदार नजर आएंगे।

      5. सफेद होते बालों से राहत

      यह हमारी असंतुलित दिनचर्या और खानपान का ही परिणाम है कि हम जल्दी बूढ़े हो रहे हैं। समय से पहले ही चेहरे पर झुर्रियां नजर आने लगती हैं और बाल सफेद होने लगते हैं। झुर्रियों से बचने का तरीका हम पहले ही बता चुके हैं। अब हम बात करते हैं सफेद बालों की। अगर आप चाहते हैं कि आपके बाल समय से पहले सफेद न हों, तो अश्वगंधा को अपनी दिनचर्या में शामिल कर लें। यह आयुर्वेदिक औषधि बालों में मेलेनिन के उत्पाद को बढ़ाती है। हम यहां बता दें कि मेलेनिन एक प्रकार का पिगमेंट है, जो बालों में प्राकृतिक रंग बनाए रखने में मदद करता है। जब आप अश्वगंधा का प्रयोग करना शुरू करेंगे, आपको खुद-ब-खुद असर नजर आने लगेगा (29)।

      लेख के इस भाग में हम अश्वगंधा के पोषक तत्वों के बारे में बता रहे हैं।

      अश्वगंधा के पौष्टिक तत्व – Ashwagandha Nutritional Value in Hindi

      यह तो आप जान ही चुके हैं कि अश्वगंधा आपके लिए गुणों का खजाना है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट, आयरन, टैनिन, नाइट्रेट, पोटैशियम, ग्लूकोज और फैट एसिड जैसे प्रमुख तत्व पाए जाते हैं। साथ ही इसमें सोमनीफेरिन, सोमिनिन, एफेरिन और विथेनाहाइड जैसे जरूरी स्टेरॉइडल अल्कलॉइड भी पाए जाते हैं। अश्वगंधा में फ्लेवोनाइड्स, लैक्टोन और एसाइल स्टैरिल ग्लूकोसाइड्स भी प्रचुर मात्रा में मिलते हैं। हम यहां एक टेबल के जरिए अश्वगंधा पाउडर के फायदे और उसमें पाए जाने वाले पोषक तत्वों के बारे में बता रहे हैं। इस कारण से ही अश्वगंधा पाउडर फायदेमंद है।

      पोषक तत्व अश्वगंधा पाउडर (प्रति 100 ग्राम)
      मॉइस्चर(%) 7.45
      राख(g) 4.41
      प्रोटीन(g) 3.9
      फैट(g) 0.3
      क्रूड फाइबर(g) 32.3
      ऊर्जा(Kcal) 245
      कार्बोहाइड्रेट(g) 49.9
      आयरन(mg) 3.3
      कैल्शियम(mg) 23
      कुल कैरोटीन(µg) 75.7
      विटामिन-सी (mg) 3.7

      अश्वगंधा किस रूप में उपलब्ध है और इसका उपयोग कैसे करें – How to Use Ashwagandha in Hindi

      हालांकि, ब जार में आपको अश्वगंधा विभिन्न रूपों में मिल जाएगा, लेकिन सबसे ज्यादा यह पाउडर के रूप में मिलता है। इसे आप शहद, पानी या फिर घी में मिलाकर प्रयोग कर सकते हैं। इसके अलावा, आपको बाजार या फिर ऑनलाइन अश्वगंधा चाय, अश्वगंधा कैप्सूल या फिर अश्वगंधा का रस भी आसानी से मिल जाएगा। अब सवाल उठता है कि इसे उपयोग कैसे किया जाए, तो इस बारे में आपके डॉक्टर से बेहतर कोई नहीं बता सकता। डॉक्टर आपकी समस्या और शरीर की प्रकृति के अनुसार इसे उपयोग करने की सलाह देगा। वास्तव में अश्वगंधा पाउडर फायदेमंद है।

      आगे हम बता रहे हैं कि अश्वगंधा खाने का तरीका क्या है।

      अश्वगंधा की खुराक – Ashwagandha Dosage in Hindi

      जैसा कि हमने इस आर्टिकल में पहले भी कहा है कि अश्वगंधा का सेवन अपनी मर्जी से नहीं करना चाहिए। वहीं, अभी तक ऐसा कोई वैज्ञानिक शोध भी नहीं हुआ है, जो स्पष्ट कर सके कि अश्वगंधा का सेवन कितनी मात्रा में करना चाहिए। यह पूरी तरह से आपकी उम्र, सेहत, समस्या व अन्य कारणों पर निर्भर करता है। इसलिए, डॉक्टर की सलाह के बिना इसे उपयोग न करें। इसके अलावा, बाजार में मिलने वाले अश्वगंधा सप्लीमेंट्स के पैकेट पर भी लिखा होता है कि इसका सेवन कैसे करना है। ये निर्देश कुछ इस तरह के हो सकते हैं :

      • आप प्रतिदिन 4-5 ग्राम अश्वगंधा का सेवन कर सकते हैं।
      • आपको बाजार में अश्वगंधा के कैप्सूल भी मिल जाएंगे। इनका सेवन अक्सर पहलवान या फिर जिम जाने वाले करते हैं। आप एक-दो कैप्सूल रोज खा सकते हैं।
      • अगर आप इसे पानी में घोलकर लेना चाहते हैं, तो इसका पाउडर या फिर जड़ आसानी से मिल जाती है। आप अश्वगंधा की दो ग्राम जड़ लें और पानी में करीब 15 मिनट तक उबाल लें। फिर जब पानी ठंडा हो जाए, तो प्रतिदिन दो कप से ज्यादा इसका सेवन न करें। इस प्रकार आपको अश्वगंधा चूर्ण के फायदे मिल सकते हैं।

      अश्वगंधा खाने का तरीका जानने के बाद आर्टिकल के अंतिम भाग में हम अश्वगंधा के नुकसान भी बता रहे हैं।

      अश्वगंधा के नुकसान – Side Effects of Ashwagandha in Hindi

      जैसे कि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, उसी प्रकार अश्वगंधा के नुकसान भी हैं। बेशक, अश्वगंधा को अधिक मात्रा में लेने के कोई घातक परिणाम नहीं होते, लेकिन छोटी-छोटी समस्या हो सकती हैं, जो आगे चलकर स्वास्थ्य को खराब कर सकती हैं।

      अगर आप अश्वगंधा को अधिक मात्रा में लगातार एक हफ्ते से ज्यादा समय तक लेते हैं, तो हो सकता है कि आपके शरीर का तापमान बढ़ जाए। वहीं, कुछ लोगों के शरीर का तापमान कम भी हो सकता है। साथ ही छाती में दर्द और जुकाम होने की आशंका भी हो सकती है। यहां हम अश्वगंधा को जरूरत से ज्यादा लेने पर होने वाले कुछ अन्य दुष्प्रभाव बता रहे हैं।

      • अश्वगंधा को मूत्रवर्धक माना गया है, इसलिए कुछ मामलों में यह किडनी पर असर डाल सकता है।
      • अधिक मात्रा में लेने पर दस्त भी लग सकते हैं।
      • अश्वगंधा का सेवन जरूरत से ज्यादा करने पर पेट में ऐंठन जैसी समस्या हो सकती है।
      • अगर आपकी अंग प्रत्यारोपण जैसी कोई सर्जरी होने वाली है, तो आप अश्वगंधा का सेव न बिल्कुल न करें। इससे आपके जल्द स्वस्थ होने की प्रक्रिया धीमी पड़ सकती है।
      • जैसा कि आप जानते हैं कि अश्वगंधा के सेवन से प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है, लेकिन अगर कोई एचआईवी या फिर एड्स जैसी ऑटोइम्यून बीमारी से जूझ रहा है, तो उसके लिए अश्वगंधा घातक साबित हो सकता है।
      • गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए। इसके सेवन से गर्भ में पल रहे शिशु को पर्याप्त पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं। साथ ही गर्भवती को गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल जैसी समस्या हो सकती है।
      • अश्वगंधा का एक अन्य दुष्प्रभाव यह है कि इसके सेवन से वजन बढ़ सकता है। यह आपकी मांसपेशियों को जरूरत से ज्यादा विकसित कर सकता है, जिस कारण आप मोटापे का शिकार हो सकते हैं।
      • मल्टीपल स्केलेरोसिस से पीड़ित मरीजों को अश्वगंधा से दूरी बनाए रखनी चाहिए, क्योंकि यह उनकी बीमारी को और गंभीर बना देता है। मल्टीपल स्केलेरोसिस एक ऑटोइम्यून समस्या है, जिसमें शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली नर्वस सिस्टम पर हमला कर उसे नष्ट करती है।
      • अश्वगंधा का सेवन करने से कुछ लोगों को रक्तचाप असंतुलित होने की समस्या हो सकती है।

      प्रकृति ने हमें कई अनमोल उपहार दिए हैं और अश्वगंधा भी उन्हीं में से एक है। अगर इसका उपयोग समझदारी और डॉक्टर की सलाह पर किया जाए, तो यह आपके लिए अमृत समान साबित हो सकता है। आप तमाम तरह की बीमारियों से उबरने, शरीर में शक्ति बढ़ाने और वजन नियंत्रित करने आदि के लिए इसका सेवन कर सकते हैं। साथ ही जवां और खूबसूरत दिखने में भी यह औषधि आपकी मदद करेगी। अगर आप इस औषधि के संबंध में कुछ और पूछना चाहते हैं, तो नीचे दिए कमेंट बॉक्स में अपने प्रश्न हमसे पूछ सकते हैं। साथ ही अगर आप अश्वगंधा का प्रयोग पहले से कर रहे हैं, तो अपने अनुभव भी हमारे साथ साझा करें।

      संबंधित आलेख

      The post अश्वगंधा के 25 फायदे, उपयोग और नुकसान – Ashwagandha Benefits, Uses and Side Effects in Hindi appeared first on STYLECRAZE.

      गठिया (आर्थराइटिस) के लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार – Arthritis Symptoms and Home Remedies in Hindi

      गठिया (आर्थराइटिस) के लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार – Arthritis Symptoms and Home Remedies in Hindi


      इस बात से तो आप होंगे कि अब न तो पहले जैसा रहन रहा है और नही खानपान. इस कारण से हमारी हड्डियां, जोड़ और मांंसपेशियां कमजोर हो रही हैं. परिणामस्वरूप, गठिया (आर्थराइटिस) का सामना करना पड़ता है. जहां, पहले यह समस्या अमूमन 60 वर्ष के बाद होती थी, वहीं अब युवा भी इसका शिकार हो रहे हैं. गठिया का सबसे ज्यादा असर घुटनों, कूल्हों व हाथों की उंगुलियों पर दिखाई देता है. इस अवस्था में मरीज का चलना-फिरना और उठना-बैठना तक मुश्किल हो जाता है.

      आखिर गठिया रोग क्या है, इससे जुड़े तमाम जवाब आपको इस लेख में मिलेंगे. बेशक, होने पर डॉक्टरी उपचार ही काम आता है, लेकिन कुछ के घरेलू उपचार भी हैं, जो गठिया में फायदेमंद साबित हो सकते हैं.

      विषय सूची

      • क्या है गठिया?

        विषय सूची

        .tocnew a {color: # 424242;} # toc {background: # f5f5f5; padding: 10px;} # toc ul {margin: 0; padding: 0} #toc ul: {padding: 5px; margin: 0; list-style-position: inside;} ########################################################################################################### {padding-left: 15px; list-style-position: inside;} # toc ul-li ul ul> li {padding-left: 40px; list-style-position: inside;} # toc ul ul u ul ul> li {padding-left: 60px; list-style-position: inside;}

        क्या है गठिया? – What is Arthritis

        के बारे में अधिक करने के लिए का निर्देश करें, साथ ही जोडों में गांठ, कांटे चुभने जैसा महसूस होता है. Please try again and again with the help of our online booking engine. इस अवस्था को ही गठिया कहा जाता है. जोड़ उन्हें कहा जाता है, जहां दो हड्डियां आपस में मिलती हैं, जैसे – कोहनियां व घुटने ( 1 ). [19659002] गठिया रोग क्या है, यह जानने के बाद आगे पता करते हैं कि गठिया होता क्यों है .

        गठिया (आर्थराइटिस) के कारण – Causes of Arthritis Hindi [19659013] Arthritis [19659014] Shutterstock [19659015] गठिया होने के विभिन्न कारण हो सकते हैं, जिनमें से प्रमुख कारणों के बारे में यहां बताया जा रहा है ( 2 ):

        • कार्टिलेज: जोड़ों में कार्टिलेज (एक प्र कार का टिशू) होता है, जो हड्डियों के लिए कुशन का काम करता है. इसके नष्ट होने पर जोड़ आपस में रगड़ खाने लगते हैं, जिससे गठिया की समस्या हो सकती है.
        • आनुवंशिक: अगर परिवार में किसी को कभी गठिया की समस्या रही है, तो हो सकता है कि आपको भी इसका सामना करना पड़े.
        • आयु: वैसे तो 60 वर्ष के आसपास पहुंचने पर यह समस्या होने लगती है, लेकिन आजकल युवा भी इसका शिकार हो रहे हैं.
        • लिंग: पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में गठिया की समस्या ज्यादा देखने को िलती है, क्योंकि महिलाओं में कैल्शियम की कमी उम्र बढ़ने के साथ-साथ कम होने लगती है. साथ ही एस्ट्रोजन हार्मोन के असंतुलित होने पर भी ऐसा हो सकता है.
        • पुरानी चोट: अगर आपको पहले कभी हड्डियों के जोड़ में चोट लगी है, तो भविष्य में आर्थराइटिस की समस्या होने की आशंका बढ़ जाती है. [19659017] मोटापा: वजन का अधिक होना भी आर्थराइटिस का अहम कारण माना गया है. शरीर का वजन जरूरत से ज्यादा होने पर घुटनों, कूल्हों व कमर पर ज्यादा बोझ पड़ता है. आगे चलकर इससे गठिया हो सकता है.
        • संक्रमण: शरीर में किसी बैक्टीरिया या वायरस के पनपने पर भी गठिया हो सकता है.

        गठिया रोग के लक्षण जानने के लिए पढ़ते रहें यह लेख.

        गठिया के लक्षण – Symptoms of Arthritis in Hindi

        जोड़ों में सूजन and दर्द गठिया रोग के लक्षण है. इसके अलावा, अन्य लक्षण भी हो सकते हैं, जिनके बारे में हम यहां विस्तार से बता रहे हैं ( 2 ): [19659026] सूजन व दर्द के कारण चलना-फिरना मुश्किल हो जाता है. [19659027] कुछ लोगों में सुबह के समय यह दर्द ज्यादा होता है.

      • प्रभावित जगह लाल रंग की हो जाती है.
      • जिस जगह गठिया हुआ है, उस जोड़ में भारीपन महसूस हो सकता है.
      • जल्दी थकान हो जाना और इम्यून सिस्टम का कमजोर होना.
      • पीड़ित व्यक्ति को बार-बार ब खार आ सकता है.
      • जोड़ों के आसपास गांठें भी बन सकती हैं.

      आइए, अब गठिया के विभिन्न प्रकार भी जान लेते हैं.

      गठिया (आर्थराइटिस) के प्रकार – Types of Arthritis Hindi [19659010] अभी तक 100 प्रकार के आर्थराइटिस की पहचान हो चुकी है. इनमें से सबसे अहम ऑस्टियो आर्थराइटिस and रूमेटाइड आर्थराइटिस है. ज्यादातर लोग इन्हीं दो का शिकार होते हैं. ऑस्टियो आर्थराइटिस का शिकार 40 वर्ष से अधिक उपयोगकर्ता होते और खासकर महिलाएं इसका ज्यादा शिकार होती हैं ( 3 ). वहीं, रूमेटाइड आर्थराइटिस के लक्षण अधिकतर युवाओं में नजर आते हैं. यह भी पुरुषों के मुकाबले महिलाओं को ज्यादा होता है ( 4 ). आर्थराइटिस के अन्य प्रकार कुछ तरहां:

      • गाउट: शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा ज्यादा हो जाने जोड़ों के कार्टिलेज नष्ट होने लगते हैं. साथ ही यूरिक एसिड जोड़ों व नसों में जम जाता है, जिससे आर्थराइटिस की समस्या होती है ( 4 ). [19659017] एंकलोजिंग स्पोंडिलाइटिस: इसमें कमर की हड्डी व जोड़ प्रभावित होते हैं. इस अवस्था में पीठ में सूजन व दर्द होने लगती है ( 5 ). [19659017] जुवेनाइल आर्थराइटिस: इसका शिकार बच्चे होते हैं, इसलिए इसे जुवेनाइल आर्थराइटिस कहा जाता है. यह 16 साल से कम उम्र के बच्चों को होता है. स्पष्ट तटर पर बताना मुश्किल है कि यह किस कारण से होता है, है है कि ऑटोइम्यून सिस्टम खराब होने के कारण को सकता है.
      • )
      • सोराइटिक आर्थराइटिस: यह त्वचा संबंधी विकार सोरायसिस के कारण होता है. होता है के कारण होता है. सोरायसिस से प्रभावित 7 से 42 प्रतिशत मरीज इसकी चपेट में आते हैं ( 7 ). [19659017] रिएक्टिव आर्थराइटिस: यह जोड़ों, आंखों, यूरिन मार्ग व जेनिटल एरिया को प्रभावित कर सकता है. इन जगहों पर सूजन व दर्द महसूस होती है. यह समस्या संक्रमण के कारण होती है ( 8 ).
      • हस्टियोसोराइसिस: यह आनुवंशिक हो सकता है, जो उम्र बढ़ने के साथ-साथ सामने आता है. यह मुख्य रूप से कमर, घुटनों और पैरों को प्रभावित करता है.

      लेख के इस भाग में जानिए, गठिया के कारगर घरेलू इलाज.

      गठिया के घरेलू इलाज – Home Remedies for Arthritis in Hindi

      1. हल्दी

       turmeric

      Shutterstock

      लाभ: हल्दी को प्राकृतिक एंटीसेप्टिक माना गया है. चोट लगने पर हल्दी का प्रयोग किया, तो जल्द राहत मिलती है. इसमें करक्यूमिन नामक तत्व पाया जाता है, जो शरीर में सूजन को कम करने में मदद करता है. साथ ही आर्थराइटिस के असर को धीरे-धीरे कम कर सकता है ( 9 ). इसलिए, गठिया की दवा के रूप में आप हल्दी का इस्तेमाल कर सकते हैं.

      कैसे करें प्रयोग: दो-तीन ग्राम हल्दी को पानी में डालकर उबाल लें. इसके बाद जब पानी सामान्य हो जाए, तो इसका सेवन करें. आप प्रतिदिन भोजन में भी थोड़ी-सी हल्दी का प्रयोग कर सकते हैं.

      2. अदरक

      लाभ: सर्दी-जुकाम से लेकर थकान मिटाने, पेट संबंधी विकारों और मासिक धर्म से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए सदियों से अदरक का प्रयोग किया जा रहा है. इसके अलावा, यह सूजन को दूर करने के भी काम आता है. यह शरीर में प्रोस्टाग्लैंडीन के स्तर को कम कर आर्थराइटिस से राहत दिलाता है. कई शोधों में इस बात की पुष्टि की गई है कि दर्द व सूजन को कम करने के लिए किसी दवा के मुकाबले अदरक तेजी से काम करता है. 10 ) ( 11 ). इसमें एंटीऑक्सीडेंट व्यक्तियों के बारे में है. गठिया रोग के लिए अदरक बेहतर है.

      आप अदरक के तेल से मालिश कर सकते हैं. आयात करें इसके अलावा अदरक की चाय बनाकर इसका सेवन कर सकते हैं. हर लिहाज से अदरक फायदेमंद साबित होगा. ध्यान रहे कि इसका अधिक सेवन नारें, क्योंकि इससे पेट में गर्मी हो सकती है.

      3. मेथी

       Fenugreek

      Shutterstock

      लाभ: जहां मेथी खाने का स्वाद बढ़ा देती है, वहीं यह कई प्रकार की बीमारियों से लड़ने में हमारी मदद करती है. इसे एंंटीइंफ्लेमेटरी और एंटी आर्थराइटिक का प्रमुख स्रोत माना गया है. वैज्ञानिकों के अनुसार मेथी के दानों में पेट्रोलियम ईथर एक्सट्रेक्ट होता है, जिस कारण ये गठिया के चलते जोड़ों में आई सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं. साथ ही इसमें सैचुरेटेड and अनसैचुरेटेड फैटी एसिड भी होता है. 12 ) ( 13 ). इसलिए, अगर आपको गठिया का दर्द है, तो मेथी के दानों का सेवन गठिया की दवा के रूप में कर सकते हैं.

      कैसे करें प्रयोग: मेथी के दानों को पानी में डालकर उबाल लें. फिर पानी को छानकर उसमें नींबू व शहद मिलाकर चाय की तरह पिएं. Be sure to check out the location of the hotel and check it out and check it out for a good night's sleep. इसके अलावा, मेथी के द्वारा के लिए के लिए सकते हैं

      4. अरंडी का तेल

      लाभ: अरंडी का तेल शरीर में लिम्फोसाइट को बढ़ाने में मदद करता है. यह एक प्रकार के टी सेल यानी श्वेत रक्त कोशिकाएं होती हैं, जो किसी भी तरह की बीमारी से लिये के लिये होती है. अरंडी के तेल से मालिश करने से 24 घंटे में श्वेत रक्त कोशिकाओं की संख्या कई गुना बढ़ जाती है. यह शरीर में लगने वाली चोटों से भी उबरने मदद करती हैं. साथ ही अरंडी के जाता है, जो एंटीइंफ्लेमेटरी की तरह काम करता है ( 14 ).

      कैसे करें प्रयोग: अरंडी के तेल में अजवाइन व कपूर मिलाकर गर्म कर लें. हिन्दी हिन्दी हिन्दी తెలుగు मराठी മലയാളം ಕನ್ನಡ फिर तेल के हल्का गुनगुना होने पर दर्द वाली जगह पर हल्के-हल्के हाथों से 15-20 मिनट मालिश करें. इस तरह मसाज करने से जोड़ों में दर्द व अकड़न से राहत मिलेगी.

      5. लहसुन

       Garlic

      Shutterstock

      लाभ: कई अध्यनों में पाया गया है कि लहसुन में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होता है, जिस कारण यह जोड़ों में दर्द व सूजन को कम कर सकता है ( 15 ). इसके अलावा, अदरक में डायलाइल डाइसल्फाइड नामक तत्व भी होता है, जो एंटीइंफ्लेमेटरी की तरह प्रभावी असर दिखाता है. यह आर्थराइटिस के कारण होने वाले दर्द व सूजन को कम करने और नष्ट कार्टिलेज को ठीक करने का काम करता है ( 16 ). इसलिए, लहसुन को गठिया की दवा के रूप में खाएं.

      कैसे करें प्रयोग: आर्थराइटिस जैसी समस्या में आप रोज सुबह तीन-चार लहसुन की कच्ची कलियों का सेवन कर सकते हैं.

      6. बुरडॉक की जड़

      लाभ: यह सदियों से प्रयोग की जा रही आयुर्वेदिक औषधि है. इसमें भी एंटीइंफ्लेमेरी गुण पाए जाते हैं. यह जड़ बाजार में सूखे पाउडर, काढ़े या फिर रस के रूप मेल जाएगी. 17 ). इसके सेवन सेवा सेवा के लिए के लिए के लिए करें के लिए के लिए के लिए का सकते है. बुरडॉक की जड़ को गठिया का आयुर्वेदिक इलाज माना गया है.

      कैसे करें प्रयोग: अगर आपके पास इसका पाउडर है, तो इसे करीब 200 मिलीलीटर पानी में डालकर उबाल लें और फिर पानी को सामान्य होने दें. इसके बाद दिन में दो-तीन बार इस मिश्रण का सेवन करें. दिन में दो बार इसका सेवन करें.

      7. मुलेठी

       Muleti

      Shutterstock

      लाभ: इस आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी में ग्लाइसिराइजिन नामक प्रमुख तत्व पाया जाता है, जो एंटीइंफ्लेमेटरी की तरह काम करता है. यह शरीर में फ्री रेडिकल्स को बनने से रोकता है और शरीर में सूजन का कारण बनने वाले एंजाइम को जड़ से खत्म करता है ( 18 ). यह भी गठिया का आयुर्वेदिक इलाज है.

      कैसे करें प्रयोग: बाजार में मुलेठी सूखी छड़, पाउडर, टेब्लेट, कैप्सूल या फिर जेल के रूप में मिल जाएगी. आप इसका सेवन किसी भी रूप में कर सकते हैं.

      8. आलू का रस

      लाभ: आपको यह जानकर हैरानी हो सकती है कि आलू के रस भी गठिया का इलाज संभव है. बेशक, आलू खाने से फैट बढ़ता है, लेकिन इसका रस बेहद गुणकारी है. आलू के रस में विभिन्न प्रकार के खनिज and कार्बनिक नमक मौजूद होता है. इसे पीने से शरीर में जमा यूरिक एसिड बाहर निकल जाता है, जिस कारण आर्थराइटिस से आराम मिलता है ( 19 ).

      कैसे करें प्रयोग: आप आलू को छिलकर बारीक टुकड़ों में Take a look and enjoy the sunset in the sun. अगली सुबह इस पानी को खाली पेट पिएं. इसके अलावा, आप आलू के रस और पानी को बराबर मात्रा में लेकर मिक्स कर लें और फिर सेवन करें.

      9. अश्वगंधा

       Ashwagandha

      Shutterstock

      लाभ: इस आयुर्वेदिक जड़ी-बूडी के सेवन से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है और ताकत मिलती है. साथ ही यह दर्द और सूजन को भी कम करता है. इसके पौधे के पत्तों व जड़ की गंध अश्व के मूत्र जैसी होती है, इसलिए इसका नाम अश्वगंधा पड़ा है. ध्यान रहे कि रुमेटी आर्थराइटिस से पीड़ित मरीज अश्वगंधा का सेवन न करे. इससे उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली बढ़ सकती है. इस प्रकार कहा जा सकता है कि गठिया रोग का इलाज अश्वगंधा से किया जा सकता है.

      कैसे करें प्रयोग: गठिया के मरीज इसकी चाय बनाकर इसका सेवन कर सकते हैं.

      10. विलो की छाल

      लाभ: आर्थराइटिस के लिए विलो (एक प्रकार का पेड़) की का प्रयोग किया जा सकता है. इससे गठिया का इलाज संभव है. इसके प्रयोग से शरीर में सूजन कम होती है. पुराने समय में लोग दर्द को कम करने के लिए इस पेड़ की छाल को चबाया करते थे. इसमें एस्पिरिन जैसे गुण होते हैं, जो जोड़ों में होने वाले द्वारा के लिए एक आइकन की सकते हैं ( 20 ). गठिया के उपचार के लिए आप विलो की छाल का इस्तेमाल कर सकते हैं.

      कैसे करें प्रयोग: आप या तो इस छाल को चबा सकते हैं या फिर इसकी चाय बना सकते हैं. इसका सेवन सप्लीमेंट्स की तरह भी किया जा सकता है. ध्यान रहे कि इसे अधिक मात्रा में लेने से शरीर पर रैशेज या फिर किसी अन्य तरह की एलर्जी हो सकती है.

      11. नेटल्स

       Nettle

      Shutterstock

      लाभ: हिमालय के पहाड़ी क्षेत्र में कंडाली नामक औषधीय पौधा पाया जाता है. आम भाषा में इसे नेटल्स या फिर बिच्छू बूटी कहते हैं, क्योंकि इस पौधे को छूने पर शरीर में उसी प्रकार झनझनाहट होती है, जिस प्रकार बिच्छू के काटने पर होती है. इस आयुर्वेदिक औषधि की मदद से हर प्रकार के आर्थराइटिस को ठीक किया जा सकता है. इसमें तमाम तरह के पोषक तत्व और एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो आर्थराइटिस के दर्द को कम कर हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं (21) (22)। गठिया रोग के घरेलू उपचार में आप नेटल्स भी प्रयोग कर सकते हैं।

      कैसे करें प्रयोग : इसके पत्तों के ऊपर छोटे-छोटे बाल जैसे होते हैं, जिनमें सिलिकॉन की मात्रा ज्यादा होती है। जब इन पत्तों को त्वचा से स्पर्श किया जाता है, तो इन बालों के तीखे कोनों के साथ सिलिकॉन तत्व त्वचा में प्रवेश कर जाता है। बाद में यह तत्व दर्द कम करने में मदद करता है।

      12. गर्म सिकाई

      लाभ : आर्थराइटिस में गर्म सिकाई करने से जोड़ों में आई अकड़न कम होती है और मांसपेशियां भी नरम होती हैं। इससे रक्त का प्रवाह अच्छी तरह हो पाता है। ऐसा करने से आपको जोड़ों में हो रहे दर्द से आराम मिलेगा। साथ ही जरूरी पोषक तत्वों को भी प्रभावित मांसपेशियों तक पहुंचने का रास्ता मिल जाता है (23)। इससे गठिया का इलाज आसानी से किया जा सकता है।

      कैसे करें प्रयोग : आप अपनी पसंद के अनुसार गीले या सूखे तरीके से गर्म सिकाई कर सकते हैं। आप या तो गर्म पानी से नहा लें या फिर बाथ टब में गर्म पानी भरकर उसमें कुछ देर बैठ सकते हैं। इसके अलावा, आप करीब 20 मिनट के लिए हीटिंग पैड का इस्तेमाल कर सकते हैं।

      लेख के इस अंतिम भाग में हम गठिया से बचने कुछ अन्य उपाय भी जान लेते हैं।

      गठिया (आर्थराइटिस) से बचाव – Prevention Tips for Arthritis in Hindi

      • जोड़ों के दर्द से बचने के लिए दिनभर में कम से कम तीन-चार लीटर पानी जरूर पीना चाहिए। इससे शरीर में जमा विषाक्त पदार्थ मूत्र मार्ग के जरिए बाहर निकल जाते हैं।
      • नियमित रूप से व्यायाम करना जरूरी है। इससे शरीर की मांसपेशियां व हड्डियां ठीक प्रकार से काम कर पाती हैं।
      • व्यायाम के साथ-साथ समय निकालकर योग करना भी जरूरी है। इससे आपकी मांसपेशियां मजबूत होंगी और आप दिनभर ऊर्जावान बने रहेंगे।
      • अपनी डाइट में दूध, दही और पनीर जैसे डेयरी उत्पादों को शामिल करें। इससे शरीर को पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम मिलता है, जिससे हड्डियां मजबूत बनी रहती हैं। अगर आपको डेयरी उत्पादों से एलर्जी है, तो डॉक्टर की सलाह पर अन्य खाद्य पदार्थों का सेवन करें।
      • कैल्शियम की तरह ही विटामिन की भी जरूरत होती है। हड्डियों के लिए मुख्य रूप से विटामिन-सी और डी चाहिए होता है। सर्दियों में सुबह कुछ देर धूप में बैठने से शरीर को पर्याप्त मात्रा में विटामिन-डी मिलता है। इसके अलावा, आप इनके सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं।
      • सर्दियों में सुबह उठते ही कमरे से बाहर न जाएं, बल्कि कुछ मिनट शरीर को सामान्य होने दें और गर्म कपड़े पहनकर ही बाहर निकलें।
      • जरूरत से ज्यादा वजन होने पर भी आर्थराइटिस की समस्या हो सकती है। वजन अधिक होने पर घुटनों व कूल्हों पर अतिरिक्त भार पड़ता है। इसलिए, अपने वजन को नियंत्रित रखें।
      • अगर आपके किसी जोड़ पर लगातार चोट लगती है, तो सावधान हो जाएं। आगे चलकर इससे भी आर्थराइटिस की समस्या हो सकती है।
      • अधिक शराब, धूम्रपान और तंबाकू के सेवन से भी हड्डियों और मांसपेशियों पर विपरित असर पड़ता है। इन सभी चीजों का गठिया रोग में परहेज करने से आपको फायदा होगा।

      बेशक, यहां बताए गए सभी घरेलू उपचार आर्थराइटिस के मरीजों के लिए फायदेमंद हैं, लेकिन ध्यान रहे कि इनके उपयोग से सिर्फ सूजन व दर्द कम हो सकती है। साथ ही ये बीमारी से उबरने में आपकी मदद कर सकते हैं। बेहतर गठिया के इलाज के लिए आपको अच्छे डॉक्टर से संपर्क करना होगा। इसके अलावा, आपको संतुलित दिनचर्या व खानपान का पालन करना होगा। आपको यह लेख कैसा लगा, हमें नीचे दिए कमेंट बॉक्स में बताएं।

      संबंधित आलेख

      The post गठिया (आर्थराइटिस) के लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार – Arthritis Symptoms and Home Remedies in Hindi appeared first on STYLECRAZE.

      पार्टी में जाने के लिए मेकअप कैसे करें – Party Makeup Tips in Hindi

      पार्टी में जाने के लिए मेकअप कैसे करें – Party Makeup Tips in Hindi


      Are you going to have a lot of fun with your friends and family? निश्चित तौर पर ड्रेस का चुनाव, लेकिन पार्टी के लिए हिन्दी अंग्रेजी होना काफी नहीं, आकर्षक मेकअप होना भी जरूरी है. यकीनन, अच्छा मेकअप होगा तो, लोगों की निगाहें आप पर जरूर टिकेंगी, बशर्ते मेकअप तरीके से किया गया हो.

      अगर आप भी जानना चाहते हैं कि पार्टी के लिए मेकअप कैसे करना चाहिए, तो स्टाइलक्रेज का यह लेख खास आपके लिए ही है. इस लेख में हम आपको पार्टी मेकअप के तरीकों के साथ मेकअप से जुड़े खास टिप्स भी देंगे, जो आपके काम आएंगे. आइए सबसे पहले जानते हैं कि पार्टी के लिए मेकअप कैसे करें.

      पार्टी के लिए मेकअप कैसे करें – Party Makeup Steps in Hindi

      फेस क्लींजर

      पार्टी मेकअप की शुरुआत होती है फेस क्लींजिंग से. अगर आपकी स्किन ऑयली है, तो ऑयल फ्री फेसवॉश का इस्तेमाल करें. ड्राई स्किन के लिए एलोवेरा, ग्लिसरीन और विटामिन-ई से भरपूर फेसवॉश कारगर रहेंगे. अगर आपकी त्वचा ड्राई और ऑयली यानी मिलीजुली प्रकृति की है, तो आप जेल बेस या माइल्ड फोमिंग क्लींजर का इस्तेमाल कर सकते हैं.

      मॉइस्चराइजर

      मेकअप से पहले चेहरे को मॉइस्चराइज करना बहुत जरूरी है. आप अपनी त्वचा के अनुसार, अपने चेहरे से लेकर गर्दन तक अच्छी तरह मॉइस्चराइजर लगाएं.

      प्राइमर

      प्राइमर हर मेकअप के लिए बेहद जरूरी है. इसे लगाने से पहले आप चेहरे पर बर्फ का एक टुकड़ा रगड़ें. इससे आपका मेकअप ज्यादा देर टिका रहेगा.

       </strong></p>
<div id= Foundation

      Shutterstock

      मेकअप का बेस बनाने के लिए फाउंडेशन बहुत जरूरी है. फाउंडेशन

       फाउंडेशन </strong></p>
<div id= इसके लिए आप अपनी स्किन टोन से मेल खाता हुआ फाउंडेशन लें. फाउंडेशन में आप थोड़ी-सी ब्यूटी क्रीम मिलाएं और मेकअप स्पॉन्ज की मदद से चेहरे से लेकर गर्दन तक इसे अच्छी तरह थपथपाते हुए लगाएं. </p>
<p> <strong> कंसीलर </strong> </p>
<p> मेकअप में कंसीलर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. यह चेहरे के दाग-धब्बों को छुपा देता है. कंसीलर का चुनाव हमेशा स्किन कोन के अनुसार करें. कंसीलर लगाते समय आप उसे उंगली की मदद से हल्का-हल्का दबाएं. आंखों के नीचे कंसीलर अच्छी तरह लगाएं, ताकि डार्क सर्कल नजर न आएं. </p>
<p> <strong> पाउडर </strong> </p>
<p> कंसीलर लगाने के बाद अब बारी आती है पाउडर लगाने की. इसका इस्तेमाल चेहरे पर निखार लाने और मेकअप को लंबे समय तक टिकाने के लिए किया जाता है. </p>
<p> <strong> हाइलाइटर </strong> </p>
<p> अब आप चेहरे पर हाइलाइटर का इस्तेमाल करें. अगर आपका रंग साफ है, तो आप पर्ल कलर का हाइलाइटर इस्तेमाल करें. वहीं, अगर आपकी त्वचा ऑयली है, तो पीच गोल्ड कलर का हाइलाइटर लगाएं. गहरे रंग की त्वचा के लिए आप गोल्ड कलर का हाइलाइटर इस्तेमाल कर सकते हैं. </p>
<p> <strong> ब्लशर </strong> </p>
<p> गालों के उभार के लिए ब्लशर का इस्तेमाल किया जाता है.आप जिस भी रंग का ब्लश चुनें, वो आपकी ड्रेस से मेल खाता हुआ होना चाहिए. </strong></p>
<div id= आई मेकअप </strong></p>
<div id= Eye Makeup

      Shutterstock

      मेकअप में आई मेकअप काफी अहम भूमिका निभाता है. द्वारा के लिए यह आपकी आंखों को खूबसूरत बनाता है, जिससे आप आकर्षक नजर आएंगे. नीचे जानिए कैसे करें आई मेकअप –

      • सबसे पहले आंखों पर आईशैडो लगाएं. आईशैडो आपकी ड्रेस से मेल खाता हुआ होना चाहिए.
      • इसके बाद आप अपनी आंखों के ऊपर आईलाइनर लगाएं
      • फिर नीचे काजल लगाएं. आप अपनी पसंद के अनुसार, को मोटा या पतला रख सकती हैं. आप चाहें तो नीचे भी आईलाइनर का इस्तेमाल कर सकती हैं.
      • आप आंखों के पर ग्लिटर भी लगा सकती हैं. रात की पार्टी में ग्लिटर आपको शानदार लुक देगा.
      • फिर आप पलकों पर मस्कारा लगाएं.
      • आप आई मेकअप के दौरान आर्टिफिशियल आईलैशर का इस्तेमाल भी कर सकती हैं. इससे आपकी पलकें और घनी दिखेंगी.

      नोट – अपनी आंखों की शेप के अनुसार काजल और आईलाइनर को मोटा या पतला रखें.

      आईब्रो पेंसिल

       eyebrow pencil

      Shutterstock

      मेकअप को परफेक्ट बनाने में सही आईब्रो महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. आप आईब्रो पेंसिल की मदद से अपनी आईब्रो को हाइलाइट करें. अगर आपकी आईब्रो ठीक शेप में नहीं है, तो इसे पेंसिल की मदद से सही शेप दें.

      लिप मेकअप

       Lip makeup

      Shutterstock

      आईब्रो मेकअप के बाद आगे जानिए होंठों को कैसे खूबसूरत बनाया जाए –

      • लिप मेकअप के लिए चेहरे की तरह लिप का बेस बनाएं. लिप बेस बनाने के लिए आप प्राइमर का इस्तेमाल करें.
      • फिर लिप लाइनर सा होंठों की आउटलाइन करें. फिर लिप लाइनर सा होंठों की आउटलाइन करें. आकर्षक होंठों के लिए अपनी लिपस्टिक के रंग से मेल खाते हुए लिप लाइनर का चुनाव करें.
      • फिर अपने स्किन टोन से मैच करती हुई लिपस्टिक लगाएं.

      मेकअप फिक्सिंग स्प्रे

      अब आखिरी में मेकअप फिक्सिंग स्प्रे से अपने चेहरे पर स्प्रे करें. इससे मेकअप लंबे समय तक टिका रहता है.

      लीजिए, आपका पार्टी लुक तैयार है.

      पार्टी मेकअप के तरीकों के बाद आगे जानिए पार्टी मेकअप से जुड़े कुछ खास टिप्स.

      पार्टी में जाने के लिए मेकअप के टिप्स – Party Makeup Tips in Hindi

      खुद को देखें: पार्टी में जाने के लिए खुद को पूरा समय देना चाहिए. जल्दबाजी में मेकअप न करें.

      कपड़ों का चुनाव: पार्टी के लिए उचित ड्रेस बहुत मायने रखती है के लिए समय लें, लेकिन पार्टी की टाइमिंग भी ध्यान में रखें. हमेशा पार्टी के अनुसार ही अपनी ड्रेस का चुनाव करें.

      रंग का चुनाव: पार्टी में आप किस रंग की ड्रेस पहनने वाली हैं, इसका असर भी आपके लुक पर पड़ता है. आप ध्यान दें कि आप पर कौन-सा रंग ज्यादा खिलता है. अगर आप नाइट पार्टी में जाती हैं, तो गहरे रंग की ड्रेस पहनें. दिन की पार्टी के लिए हल्के रंग की ड्रेस के साथ आप पर सूट करने वाली ज्वेलरी पहन सकती हैं.

      इस तरह टिकाएं मेकअप: पार्टी का मतलब होता है, फुल मस्ती, डांस और लंबा मनोरंजन. ऐ ऐ े े े र र र र र र र र र र र र र र ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह

      बेदाग चेहरा: अंग्रेजी होता है. इसलिए हमेशा के लिए करें, जो आपके चेहरे पर मौजूद दाग-धब्बों को दूर करे. आप फाउंडेशन को अच्छी तरह से ब्लेंड करें, ताकि यह आपकी त्वचा को और निखार दे.

      किसी एक को ही हाइलाइट करें: आप जब भी रात की पार्टी का मेकअप करें तो, आंखों और होंठ में से किसी एक को हाईलाइट करें. दोनों को साथ में हाइलाइट करने से आपका मेकअप ओवर नजर आ सकता है.

      अवसर को ध्यान में रखें: अगर आप किसी बर्थडे पार्टी में जा रही हैं, तो लाइट पार्टी मेकअप करें. वहीं, अगर आप किसी शादी या रिसेप्शन में जा रही हैं, तो भारी मेकअप कर सकती हैं.

      प्रकार, आपका पार्टी मेकअप इन आसान टिप्स के साथ तैयार है. इन आसान स्टेप्स के साथ आप खुद को एक शानदार पार्टी लुक दे सकती हैं. Make sure to check out the number of times you want to be in your room and make sure that you are familiar with it and that you have the opportunity to enjoy it. अगर आपने ये तरीके अपनाए हैं, तो नीचे कमेंट बॉक्स में हमें जरूर बताएं.

      संबंधित आलेख